हिमाचल: अब रोबोट निकालेंगे गायों का दूध, ऊना में खुलेगा हाईटेक डेयरी फार्म

Robots will extract milk from cows: इस हाईटेक तकनीक के डेयरी फार्म और ट्रेनिंग सेंटर का काम एक वर्ष के भीतर शुरू हो सकता है. यह प्रोजेक्ट 44 करोड़ रुपए के बजट में तैयार होगा.

Robots will extract milk from cows: इस हाईटेक तकनीक के डेयरी फार्म और ट्रेनिंग सेंटर का काम एक वर्ष के भीतर शुरू हो सकता है. यह प्रोजेक्ट 44 करोड़ रुपए के बजट में तैयार होगा.

  • Share this:
    ऊना. एक हाईटेक डेयरी फार्म हिमाचल के ऊना जिला के बसाल गांव में खुलने जा रहा है. पशुओं को घास डालने, गोबर हटाने और उनका दूध तक निकालने का काम अब इंसान नहीं बल्कि रोबोट (Robot) करेंगे ..

    करीब 44 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले इस डेयरी फार्म के लिए केंद्र सरकार ने 38 करोड़ रुपए की रकम हिमाचल प्रदेश को जारी कर दी हैं. हाईटेक तकनीकों से लैस इस डेयरी फार्म का पूरा जिम्मा मशीनों पर होगा. केंद्र सरकार के पशुपालन मंत्रालय द्वारा हिमाचल प्रदेश को सेंटर ऑफ एक्सीलेंस डेयरी फार्म कम ट्रेनिंग सेंटर के रूप में यह संस्थान दिया गया है. दस एकड़ के इस डेयरी फार्म में 300 हाइब्रिड देसी गायों को रखने का प्लान बनाया जा रहा है.

    यह प्रोजेक्ट 44 करोड़ रुपए की लागत से तैयार किया जाएगा. जिसमें केंद्रीय पशुपालन मंत्रालय ने हिमाचल प्रदेश को 38 करोड़ रुपए जारी कर दिए हैं, जबकि बाकी रकम हिमाचल प्रदेश सरकार खर्च करेगी . इसी बजट में डेयरी फार्म का स्ट्रक्चर बनाने के साथ-साथ रोबोट की खरीददारी की जाएगी. करीब 10 हेक्टेयर भूमि में बनने वाले इस डेयरी फार्म के लिए भूमि का चयन कर लिया गया है और भूमि स्थानांतरण की प्रक्रिया चल रही है..

    प्रदेश का का पहला हाईटेक फार्म
    यह डेयरी फार्म प्रदेश में अपनी तरह का पहला हाईटेक फार्म होगा. इसके साथ जहाँ पर पशुपालकों, विशेषज्ञों और चिकित्सकों को ट्रेनिंग देने के लिए भी विशेष प्रशिक्षण संस्थान बनाया जाएगा. इस फार्म में करीब 300 देसी हाई ब्रीड गायों को रखा जाएगा. इनमें रेड सिंधि, थारपार्कर, साहिवाल, गिर और कोकरेंज गाय शामिल होंगी.

    हाईटेक तकनीक से लैस इस डेयरी फार्म और ट्रेनिंग सेंटर का काम जल्द शुरू होने की संभावना है. पशुपालन विभाग के अधिकारी भूमि हस्तांतरण के काम को प्राथमिकता के आधार पर निपटाने में लगे हैं. पशुपालन विभाग के उपनिदेशक डॉ. जेएस सेन का कहना है कि जमीन पशुपालन विभाग के नाम होते ही विभाग द्वारा डेयरी फार्म और ट्रेनिंग सेंटर का कार्य पूरा किया जाएगा. उसके साथ अन्य कार्य को अमलीजामा पहनाया जाएगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.