लाइव टीवी

अस्पताल के सेप्टिक टैंक में गिरने से परी की मौत: पुलिस की कार्रवाई से परिजन असंतुष्ट
Una News in Hindi

Amit Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: February 12, 2020, 2:08 PM IST
अस्पताल के सेप्टिक टैंक में गिरने से परी की मौत: पुलिस की कार्रवाई से परिजन असंतुष्ट
ऊना: मासूम परी की मां उसकी फोटो को देखकर रोती रहती है.

Una Baby Death: एएसपी ऊना विनोद धीमान ने कहा कि इस मामले एफआईआर दर्ज की गई है और पहले ही परिजनों के जांच से संतुष्ट न होने के चलते मामले की जांच का जिम्मा डीएसपी अंब को सौंपा गया है. एएसपी ने कहा कि पुलिस इस मामले में गहनता से जांच कर रही है.

  • Share this:
ऊना. हिमाचल प्रदेश के ऊना (Una) में दौलतपुर अस्पताल में अढ़ाई बर्षीय बच्ची की सैप्टिक टैंक (Septic Tank) में गिरने से मौत मामले में परिजन स्वास्थ्य विभाग (Health Department) और पुलिस (Una Police) की कार्रवाई से संतुष्ट नहीं है. मृतका परी की माँ और पिता पिछले 19 दिनों से रो-रोकर अपनी बच्ची (Pari Death Case) को इन्साफ मिलने की राह देख रहे हैं, लेकिन आज दिन तक किसी ने भी इस परिवार की सुध नहीं ली है. परी के परिजन अब सरकार से न्याय की गुहार लगा रहे है.

वहीँ, स्वास्थ्य विभाग इस पूरे मामले में प्लंबर को जिम्मेवार ठहरा रहा है. वहीँ, पुलिस 20 दिन बीत जाने के बाद भी जांच जारी होने का दावा कर रही है.

यह है मामला
सिविल हॉस्पिटल दौलतपुर में 24 जनवरी को डंगोह गांव के भूपिंदर और कमलेश अपनी अढ़ाई बर्षीय बच्ची परी के साथ अपने रिश्तेदार का कुशलक्षेम जानने गए थे. इस दौरान देखते ही देखते बच्ची उनकी आँखों से औझल हो गई. जब माता पिता ने बच्ची की तलाश की तो काफी देर तक बच्ची का कुछ पता नहीं चला. इसके बाद जब अस्पताल परिसर में बने सीवरेज के गड्ढे को खुला देखा तो उसमें बच्ची के गिरने का शक हुआ. बाद में जब सैप्टिक टैंक को खाली करवाया गया तो बच्ची उसमें ही गिरी हुई मिली थी.

दिहाड़ीदार प्लम्बर को आरोपी बनाया
बच्ची की मौत के बाद पुलिस ने मामले में हॉस्पिटल में कार्य कर रहे एक दिहाड़ीदार प्लम्बर को आरोपी बना दिया था. इस पर पुलिस की जांच पर सवाल उठे तो एसपी ऊना ने डीएसपी अम्ब को जांच का ज़िम्मा सौंपा और 15 दिन में अपनी रिपोर्ट सबमिट करने को कहा था, लेकिन अभी तक इस मामले में जांच ही पूरी नहीं हुई है.

ऊना में अस्पताल के सेप्टिक टैंक में गिर गई थी परी.
ऊना में अस्पताल के सेप्टिक टैंक में गिर गई थी परी.
पूरे अस्तपाल प्रबंधन की लापरवाही: पिता
स्वास्थ्य विभाग और पुलिस की अब तक की जांच से परी के परिजन संतुष्ट नहीं है. परी की माँ तो सारा दिन अपनी बच्ची की तस्वीर को निहार-निहार कर रोती रहती है और अपनी बच्ची को इन्साफ की गुहार लगा रही है. परी के पिता की मानें तो इस पूरे मामले में अस्पताल प्रशासन की लापरवाही है, लेकिन उन्हें बचाने का प्रयास किया जा रहा है और सारी जिम्मेवारी एक प्लंबर पर डाली जा रही है. परी की माँ ने अपनी बेटी को इन्साफ के लिए अस्पताल में धरना देने का मन बना लिया है.

ऊना: परी के परिजन.
ऊना: परी के परिजन.


स्वास्थ्य विभाग के सीएमओ यह बोले
स्वास्थ्य विभाग के सीएमओ रमन कुमार का कहना है कि मामला सामने आने के बाद जांच की गई थी और जांच में पाया गया कि प्लंबर ने सैप्टिक टैंक की रिपेयर के बाद उसे ठीक से नहीं ढका, जिस कारण यह हादसा पेश आया. सीएमओ भी मानते हैं कि इस मामले में कहीं न कहीं अस्पताल प्रशासन की भी लापरवाही है.

यह बोली पुलिस
एएसपी ऊना विनोद धीमान ने कहा कि इस मामले एफआईआर दर्ज की गई है और पहले ही परिजनों के जांच से संतुष्ट न होने के चलते मामले की जांच का जिम्मा डीएसपी अंब को सौंपा गया है. एएसपी ने कहा कि पुलिस इस मामले में गहनता से जांच कर रही है.

ये भी पढ़ें: हिमाचल पुलिस के जवान ने महिला पुलिस कर्मी के इनरवियर पर लिखे अश्लील शब्द, FIR

SP दिवाकर इन एक्शन: डेढ़ साल में नशे का एक भी केस नहीं पकड़ा, SHO सस्पेंड

टीचर ने छात्रा से लैब में की छेड़छाड़, फेसबुक ID मांगी,‘तुम्हें पसंद करता हूं‘

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऊना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2020, 2:08 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर