• Home
  • »
  • News
  • »
  • himachal-pradesh
  • »
  • 12वीं CBSE पेपर लीकः पीएचडी होल्डर है पेपर लीक का मास्टरमाइंड

12वीं CBSE पेपर लीकः पीएचडी होल्डर है पेपर लीक का मास्टरमाइंड

आरोपी अमित, राकेश शर्मा और अशोक कुमार.

पेपर लीक प्रकरण में यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की ऊना शाखा की सुरक्षा प्रणाली पर भी सवालिया निशान लगा है?

  • Share this:
सीबीएसई 12वीं का इकोनॉमिक्स का पेपर लीक करने के मामले में पुलिस ने मास्टरमाइंड राकेश शर्मा को ऊना के संतोषगढ़ से उसके तीन साथियों के साथ गिरफ्तार किया है. राकेश शर्मा ही इस पेपर लीक कांड का मास्टरमाइंड है, जिसने अपने रिश्तेदार के एक बच्चे को पास कराने के लिए पेपर लीक किया.

आरोपी राकेश शर्मा ने व्हाट्सएप पर सबसे पहले महिला रिश्तेदार के मोबाइल पर हाथ से लिखे पेपर की कॉपी भेजी और फिर महिला ने ही इसे फार्वर्ड किया. बताया जाता है राकेश पीएचडी स्कॉलर है. ऊना के संतोषगढ़ निवासी राकेश पिछल 10 वर्ष से डीएवी सेंटेनरी पब्लिक स्कूल में पढ़ा रहे हैं. वहीं, ऊना के जखेड़ा निवासी अमित शर्मा पिछले 16 साल से डीएवी स्कूल में क्लर्क हैं

पैसे को लेकर नहीं हुआ पेपर लीक
पुलिस सूत्रों के अनुसार, आरोपी राकेश ने बैंक के लॉकर से चुपके से पेपरों का छोटा बंडल उड़ा लिया और बाद में पेपर को छात्रा को दे दिया. उक्त छात्रा उनके पास ट्यूशन पढ़ने आती थी. छात्रा ने पेपर को पेन से लिखा और राकेश को दे दिया. इसके बाद यह पेपर व्हॉट्सएप पर सर्कुलेट हो गया. बताया जा रहा है कि यह पेपर एग्जाम से तीन दिन पहले ही 23 मार्च को लीक कर दिया था. क्राइम ब्रांच दिल्ली की टीम इन तीनों आरोपियों को गिरफ्तार किया है.

पेपर लीक में अब तक पकड़े गए आरोपी
ऊना के डीएवी सेंटेनरी पब्लिक स्कूल में बतौर पीजीटी तैनात राकेश कुमार, क्लर्क अमित शर्मा और चपरासी अशोक कुमार को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम ने गिरफ्तार किया है. बताया जा रहा है कि ये तीनों दूसरे प्रश्न पत्र लेने बैंक गए थे. इस दौरान राकेश शर्मा ने लॉकर से अर्थशास्त्र का एक बंडल खिसका लिया.

पैसों का नहीं हुआ कोई लेन-देन
पेपर लीक कांड़ के पीछे पैसों के लेन-देन की कोई भूमिका नहीं है. मास्टरमाइंड का इरादा इसे आगे बेचने का नहीं था. पुलिस सूत्रों का कहना है कि पैसों के लेन-देन की बात कहीं सामने नहीं आई है.

बैंक प्रबंधन की लापरवाही?
पेपर लीक में बैंक प्रबंधन की बड़ी लापरवाही सामने आ रही है. बैंक के स्ट्रांग रूम से पेपर का बंडल गायब हो जाता है, लेकिन प्रबंधन को भनक तक नहीं लगती है. बड़ा सवाल है कि दूसरे पेपर निकालते समय किसी बैंक अधिकारी और सुरक्षा कर्मी ने यह चेक नहीं किया कि कितने बंडल लिए जा रहे हैं?

पेपर लीक प्रकरण में यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की ऊना शाखा की सुरक्षा प्रणाली पर भी सवालिया निशान लगा है? फिलहाल क्राइम ब्रांच की टीम ने शनिवार को बैंक की सीसीटीवी फुटेज को कब्जे में लिया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज