गरीबी के कारण घर बनाने में लाचार महिला, बरसात ने छीन ली है छत

Amit Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: September 9, 2019, 6:12 PM IST
गरीबी के कारण घर बनाने में लाचार महिला, बरसात ने छीन ली है छत
ऊना के परिवार का घर बारिश की वजह से टूट गया है.

ग्राम पंचायत कोटलां खुर्द की प्रधान ममता देवी भी मानती है कि यह परिवार बहुत मुश्किल के दौर से गुजर रहा है और इस परिवार को सरकारी योजनाओं का लाभ मिलना चाहिए.

  • Share this:
ऊना. हिमाचल के जिला ऊना (Una) में आज भी कई परिवार ऐसे है, जिनके पास सिर ढकने के लिए छत नहीं है. उन्हें केंद्र या प्रदेश सरकारों की आवास योजना का लाभ नहीं मिल पाया. ऐसा ही एक परिवार ऊना जिला के गांव कोटला खुर्द में रह रहा है. गांव कोटला खुर्द की विधवा भोली देवी का कच्चा घर बरसात में पूरी तरह से टूट गया और अब वह अपने तीन बच्चों के साथ किराए के मकान में रहने को मजबूर है.

मनरेगा कमाई का जरिया

मनरेगा में दिहाड़ी कर मुश्किल से घर खर्च चलाने वाली भोली देवी के लिए मकान (House) का किराया निकालना ही मुश्किल है तो घर की मुरम्मत या नए घर का तो वो सपना भी नहीं देख सकती. बीपीएल सूची में शामिल होने के बाबजूद भी आज दिन तक इस परिवार को आवास योजना का लाभ नहीं मिल पाया है. ऐसे में भोली देवी को सिर्फ सरकार की आवास योजना से ही घर मिलने की आस है. फ़िलहाल बीडीओ (BDO) ऊना द्वारा भोली देवी के मामले को प्राथमिकता से हल करने का दावा कर रहे है.

पति की हो चुकी है मौत

कुछ माह पहले तक जिला ऊना के गांव कोटला खुर्द की भोली देवी मनरेगा में दिहाड़ी कर जैसे तैसे तंगहाली के बावजूद कच्चे घर में ही सही अपने तीन बच्चों संग हंसी ख़ुशी रह रही थी, लेकिन बरसात ने भोली देवी पर दुःखों का पहाड़ गिर गया. ससुराल से भोली देवी को सर ढकने के लिए एक कच्चा मकान नसीब हुआ था, वह भी भारी बरसात ने लील लिया. इसके चलते अब भोली देवी अपने परिवार संग किराए के मकान में रहने के लिए मजबूर है. तीन वर्ष पहले भोली देवी के पति की मौत हो गई थी, जिसके बाद दो बेटियों और एक बेटे की जिम्मेदारी भी भोली देवी आ पड़ी.

बीपीएल सूची में शामिल
मनरेगा में मजदूरी करके भोली देवी अपने तीनों बच्चों का पालन पोषण कर रही है. भोली देवी की बड़ी बेटी स्नातक और छोटी बेटी बाहरवीं के बाद कम्प्यूटर कोर्स कर रही है, जबकि बेटा बाहरवीं कक्षा में पढ़ाई कर रहा है. स्थानीय पंचायत ने भोली देवी को बीपीएल सूची में शामिल किया है और सामाजिक सुरक्षा पेंशन भी लगवा दी है. हालाँकि पंचायत द्वारा भोली देवी को आवास योजना के लिए प्रस्ताव बीडीओ ऊना को भेज दिया गया है, लेकिन बावजूद इसके आज दिन तक भोली देवी को केंद्र या प्रदेश सरकार की आवास योजना का लाभ नहीं मिल पाया है. कोटला खुर्द के ग्रामीण भी मानते है कि भोली देवी जरूरतमंद है और सरकार को ऐसे लोगों की प्राथिमकता के आधार पर मदद करनी चाहिए.
Loading...

यह बोले बीडीओ और प्रधान
ग्राम पंचायत कोटलां खुर्द की प्रधान ममता देवी भी मानती है कि यह परिवार बहुत मुश्किल के दौर से गुजर रहा है और इस परिवार को सरकारी योजनाओं का लाभ मिलना चाहिए. पंचायत प्रधान की मानें तो भोली देवी के परिवार को बीपीएल सूची में शामिल किया गया है और सामाजिक सुरक्षा पेंशन का लाभ दिया गया है. पंचायत प्रधान ने इस परिवार को आवास योजना का लाभ देने के लिए बीडीओ ऊना से सिफारिश का भी दावा किया है. बीडीओ ऊना यशपाल सिंह ने बताया कि भोली देवी को भवन निर्माण योजना का लाभ देने के लिए अभी औपचारिकताएं पूरी कर ली गई हैं और केंद्र सरकार से स्वीकृति मिलते ही इस परिवार को प्राथमिकता के आधार पर आर्थिक मदद दी जाएगी.

ये भी पढ़ें: हिमाचल के चंबा में आधे घंटे में 3 बार भूकंप, 24 घंटे में 5वीं बार लगे झटके

न्याय के लिए भटक रहा सरकाघाट का चमन, साढ़े पांच साल से लंबित मामला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऊना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 9, 2019, 6:04 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...