लाइव टीवी

ऊना : बस ऑपरेटरों ने प्रति रूट 100 रुपये लेने के फैसले का किया विरोध, जमकर की नारेबाजी
Una News in Hindi

Amit Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: January 30, 2020, 7:26 PM IST
ऊना : बस ऑपरेटरों ने प्रति रूट 100 रुपये लेने के फैसले का किया विरोध, जमकर की नारेबाजी
बस ऑपरेटरों ने बस स्टैंड प्रबंधक, सरकार व जिला प्रशासन के खिलाफ रोष जताया.

नए ISBT को शुरू हुए अभी दो माह ही हुए हैं, लेकिन बस स्टैंड संचालक (Bus stand operator) की मनमानी के विरुद्ध निजी बस ऑपरेटर उग्र हो गए हैं. दरअसल ऊना बस स्टैंड (Una Bus Stand) पर प्रत्येक बस से रोजाना 100 रुपये वसूले जाते थे, लेकिन अब बस स्टैंड संचालक द्वारा पहली फरवरी से प्रत्येक दिन के स्थान पर प्रत्येक चक्कर के 100 रुपये वसूलने के फरमान जारी कर दिए गए हैं.

  • Share this:
ऊना. नए ISBT को शुरू हुए अभी दो माह ही हुए हैं, लेकिन बस स्टैंड संचालक (Bus stand operator) की मनमानी के विरुद्ध निजी बस ऑपरेटर उग्र हो गए हैं. दरअसल ऊना बस स्टैंड (Una Bus Stand) पर प्रत्येक बस से रोजाना 100 रुपये वसूले जाते थे, लेकिन अब बस स्टैंड संचालक द्वारा पहली फरवरी से प्रत्येक दिन के स्थान पर प्रत्येक चक्कर के 100 रुपये वसूलने के फरमान जारी कर दिए गए हैं. बस स्टैंड संचालक के इन आदेशों के विरुद्ध गुस्साए निजी बस ऑपरेटरों ने संचालक के कार्यालय और बस स्टैंड में जमकर नारेबाजी की. निजी बस ऑपरेटरों (Private bus operators) ने बस स्टैंड का संचालन करने वाली कंपनी को चेताया है कि अगर कंपनी द्वारा आदेश वापस नहीं लिए गए तो वे उग्र आंदोलन करने से भी पीछे नहीं हटेंगे.

निजी बस ऑपरेटरों ने आंदोलन की चेतावनी दी

बस स्टैंड ऊना का संचालन करने वाली कंपनी की मनमानी को लेकर निजी ऑपरेटर आग बबूला हो गए हैं. बस स्टैंड संचालकों द्वारा बस स्टैंड में प्रत्येक रूट पर 100 रुपये वसूलने के फरमानों को लेकर गुस्साए निजी बस ऑपरेटरों ने प्रबंधन के कार्यालय में जाकर जमकर नारेबाजी की और आंदोलन की चेतावनी दी. वहीं बस स्टैंड में भी बस स्टैंड प्रबंधक, सरकार व जिला प्रशासन के खिलाफ रोष जताया गया.

निजी बस ऑपरेटर यूनियन के जिलाध्यक्ष पवन ठाकुर ने कहा कि हिमाचल सरकार द्वारा बनाए गए आईबीएसटी बस स्टैंड को अभी दो माह ही हुए हैं और बस स्टैंड के ठेकेदार ने फरवरी माह से बसों की पर्ची प्रति चक्कर के हिसाब से लेने के फरमान जारी कर दिए. उन्होंने कहा कि इससे पहले प्रति बस के हिसाब से पर्ची लगती थी, लेकिन अब प्रति चक्कर के हिसाब से 100 रुपये शुल्क लिया जाएगा. इसे निजी ऑपरेटर सहन नहीं करेंगे.

'बस स्टैंड में मुसीबतों का पहाड़ है'

यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष राजेश पराशर राजू ने कहा कि नंवबर माह में आईबीएसटी के शुरू होते ही पर्ची का शुल्क 100 रुपये तय किया गया. अब दो माह के बाद ही नए फरमान जारी किए जा रहे हैं. राजू ने कहा कि उत्तर भारत के किसी भी बस स्टैंड में ऐसी व्यवस्था नहीं है. उन्होंने कहा कि बस स्टैंड में मुसीबतों का पहाड़ है. बसों को आधे घंटे से ज्यादा पार्किंग नहीं है. चालक व परिचालक को आराम करने के लिए पर्याप्त जगह नहीं है.

अब प्रति रूट के हिसाब से 100 रुपये की पर्ची ली जाएगीवहीं बस स्टैंड संचालन कंपनी के जीएम परवेश का कहना है कि सरकार द्वारा समझौता हुआ है कि बस स्टैंड में प्रत्येक रूट पर बसों से 100 रुपये की पर्ची ली जाएगी. उन्होंने कहा कि बस स्टैंड के शुरू होने पर रूट के हिसाब से शुल्क नहीं लिया जाता था, लेकिन फरवरी माह से प्रति रूट के हिसाब से 100 रुपये की
पर्ची ली जाएगी.

ये भी पढ़ें - कसौली गोलीकांड : विभागीय जांच में 12 पुलिसकर्मी दोषी, कार्रवाई

ये भी पढ़ें - कोरोना वायरस: विदेश से आने पर होगी जांच,अस्पतालों में आइसोलेडेट वार्ड स्थापित

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऊना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 30, 2020, 7:26 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर