लाइव टीवी

हिमाचल न्यायिक सेवा-2019: सफलता की गाड़ी पर सवार हुईं चालक की बेटी प्रवीण, बनीं जज

Amit Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 10, 2019, 10:37 AM IST
हिमाचल न्यायिक सेवा-2019: सफलता की गाड़ी पर सवार हुईं चालक की बेटी प्रवीण, बनीं जज
ऊना में प्रवीण को सम्मानित करते हुए.

Himachal Pradesh State Judicial Service-2019: हिमाचल प्रदेश लोक सेवा आयोग की ओर से 10 पदों के लिए 5 से 7 दिसंबर तक साक्षात्कार लिए गए थे. परीक्षा में चुनौती सगरोली टॉपर बनी हैं. दूसरे स्थान पर प्रवीण लता रही. वहीं, तीसरे स्थान पर दिव्या शर्मा ने कब्जा किया.

  • Share this:
ऊना. हिमाचल प्रदेश न्यायिक सेवा-2019 (Himachal Pradesh State Judicial Service-2019) में बेटियों (Girls) ने अपना दबदबा कायम किया है. 10 में से नौ स्थानों पर बेटियां काबिज हुई हैं. ऊना (Una) जिला के हरोली विधानसभा क्षेत्र के गांव नग्नोली की निवासी प्रवीण लता (Praveen lata) भी जज (Judge) बनी हैं. प्रवीण ने लिस्ट में दूसरा स्थान हासिल किया है.

कॉलेज ने किया सम्मानित
जानकारी के अनुसार, प्रवीण लत्ता के पिता प्राईवेट कंपनी में चालक (Driver) के पद पर तैनात हैं. प्रवीण की उपलब्धि पर हिमकैप्स लॉ कॉलेज बढेडा में सम्मान समारोह का आयोजन किया गया. इस समारोह में संस्थान के चेयरमेन देसराज राणा ने प्रवीण लता को सम्मानित किया. चैयरमेन देशराज राणा ने बताया कि प्रवीण लता ने पूरे प्रदेश में दूसरा स्थान हासिल करके कॉलेज का नाम रोशन किया है. उन्होंने बताया कि प्रवीण लता गांव नगनोली की रहने वाली है। जोकि हरोली विधानसभा क्षेत्र में पड़ता है.

हिमकैप्स कॉलेज में लॉ की पढ़ाई

प्रवीण लता सेशन 2008-13 में 20 जुलाई 2008 में हिमकैप्स कॉलेज में अपनी लॉ की पढ़ाई शुरू की थी. जुलाई 2013 में 5 साल पूरे करके 3528 अंक हासिल करके हिमाचल प्रदेश में दूसरा स्थान हासिल किया था और प्रदेश विश्वविद्यालय से सिल्वर मेडल प्राप्त किया था.

पति पेशे से वकील
प्रवीण लता के परिवार में उनकी 2 बहन और 1 भाई हैं. माता गृहणी और पिता प्राइवेट कंपनी में चालक पद पर तैनात हैं. प्रवीण लता के ससुर जाने-माने एडवोकेट हैं. उनके पति भी चंडीगढ़ में हाईकोर्ट में वकालत करते हैं.ये है लिस्ट
हिमाचल प्रदेश लोक सेवा आयोग की ओर से 10 पदों के लिए 5 से 7 दिसंबर तक साक्षात्कार लिए गए थे. परीक्षा में चुनौती सगरोली टॉपर बनी हैं. दूसरे स्थान पर प्रवीण लता रही. वहीं, तीसरे स्थान पर दिव्या शर्मा ने कब्जा किया. इसके अलावा, परीक्षा में शाविक घई, अनुलेखा तंवर, मेघा शर्मा, शीतल गुप्ता, रितु सिन्हा, श्रुति बंसल और प्रियंका देवी ने सफलता हासिल की है. ये सभी सिविल जज बनेंगे.

ये भी पढ़ें: हिमाचल न्यायिक सेवा: चुनौती बनीं टॉपर, 10 में से 9 स्थान बेटियों ने कब्जाए

दिव्यांगता को बनाया ताकत, कांगड़ा की बेटी प्रियंका ठाकुर बनी सिविल जज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऊना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 10, 2019, 9:59 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर