पहले फिटनेस फिर सिक्योरिटी: ऊना का माइनिंग गार्ड सन्नी बना प्रेरणास्रोत
Una News in Hindi

पहले फिटनेस फिर सिक्योरिटी: ऊना का माइनिंग गार्ड सन्नी बना प्रेरणास्रोत
ऊना में फिट रहने के लिए एक्सरसाइज करते हुए युवा.

युवाओं की मानें तो सन्नी उन्हें बहुत बेहतर तरीके से अभ्यास करवाता है. वहीँ मैदान में पसीना बहाने वाले अधिकतर युवाओं की की इच्छा सेना या पुलिस में भर्ती हो देश सेवा करने की है.

  • Share this:
ऊना. हिमाचल प्रदेश का ऊना का माइनिंग (Mining) गार्ड सन्नी जसवाल जहाँ युवा पीढ़ी को शारीरिक फिटनेस के प्रति जागरूक कर रहा है. वहीँ युवाओं में नशे के विरुद्ध भी अलख जगा रहा है. खनन विभाग में बतौर गार्ड कार्यरत ऊना के ही गांव बढेड़ा का सन्नी अपने शरीर को फिट (FIT) रखने के लिए रोजाना ग्राउंड में आता था, लेकिन उसने अपनी फिटनेस के साथ-साथ युवाओं को भी फिट और नशे से दूर रखने के लिए अपने साथ जोड़ना शुरू किया. आज सन्नी के पास मैदान में आसपास के गांवों से 30 के करीब युवा रोजाना सुबह 4 बजे पहुँच जाते है, जिन्हें सन्नी कड़ा अभ्यास करवाता है, ताकि युवा फिट और नशे से दूर रहने के साथ-साथ सैन्य या अर्धसैन्य बलों में भर्ती के लिए भी तैयार हो सके.

सन्नी ने बॉक्सिंग को चुना

जिला ऊना के हरोली उपमंडल के गांव बढेड़ा का रहने वाला



सन्नी जसवाल की बचपन से ही खेलों के प्रति रुचि थी.
सन्नी जसवाल की बचपन से ही खेलों के प्रति रुचि थी.




सन्नी ने बॉक्सिंग को चुना और कई प्रतियोगिताओं में भी हिस्सा लिया. इसके बाद सन्नी ने हिमाचल सहित अन्य राज्यों में कई मशहूर हस्तियों के साथ बतौर बाउंसर भी सेवाएं प्रदान की है. पिछले करीब तीन साल से सन्नी खनन विभाग में बतौर गार्ड कार्यरत है. सन्नी अपने शरीर को फिट रखने के लिए पिछले कई बर्षों से रोजाना मैदान में कड़ा अभ्यास करता है. इसी दौरान सन्नी के मन में अपनी फिटनेस के साथ-साथ युवाओं को भी फिट और नशों से दूर रखने का विचार आया और सन्नी ने आसपास के गांव के युवाओं को भी अभ्यास करवाना शुरू कर दिया.

मैदान में रोज सुबह चार बजे

आजकल रोजाना सुबह 4 बजे 30 के करीब युवा सन्नी के साथ मैदान में आते है जिन्हे सन्नी कड़ा अभ्यास करवाता है. सन्नी की मानें तो उसे यह प्रेरणा अपने गुरू से मिली है. सन्नी ने कहा कि युवा इस अभ्यास से सैन्य और अर्धसैन्य बलों में अपनी किस्मत भी आजमा सकते हैं. वहीँ, सबसे बड़ी बात है कि खेलों से जुड़ने के चलते युवा पीढ़ी नशे जैसी कुरीतियों से दूर रहती है. वहीँ सन्नी की इस मुहीम में पिछले करीब चार महीने से इसी गांव का एक युवक सुरेश भी जुड़ा है. सुरेश भी रोजाना सुबह 4 बजे ग्राउंड में पहुंचकर सन्नी के साथ युवाओं को अभ्यास करवाने में मदद कर रहा है. सुरेश की माने तो इस मुहीम में जुड़ने से दिल को बहुत सुकून मिला है. आज न केवल बढेड़ा बल्कि अन्य गांव से भी करीब 30 युवक मैदान पर उतरकर सन्नी से फिजिकल फिटनेस के टिप्स ले रहे हैं. युवाओं की मानें तो सन्नी उन्हें बहुत बेहतर तरीके से अभ्यास करवाता है. वहीँ मैदान में पसीना बहाने वाले अधिकतर युवाओं की की इच्छा सेना या पुलिस में भर्ती हो देश सेवा करने की है.

ये भी पढ़ें: OMG! शिमला में ओलावृष्टि के बीच गिरी आसमानी बिजली, पेड़ धराशायी, देखें VIDEO

जहर से बंदरों को मारने वाले हिमाचल में ‘गर्भवती हथिनी की हत्या’ पर मातम क्यों?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading