लाइव टीवी

ऊना: Lockdown में पति-पत्नी की नौकरी गई तो सब्जी और आचार बेचने लगी सुनीता
Una News in Hindi

Amit Sharma | News18Hindi
Updated: May 23, 2020, 4:56 PM IST
ऊना: Lockdown में पति-पत्नी की नौकरी गई तो सब्जी और आचार बेचने लगी सुनीता
ऊना की महिला सुनीता.

सुनीता ने बेरोजगारों को घर पर बैठे रहने की बजाय काम करने का संदेश दिया है, ताकि लोग आर्थिक रूप से सुदृढ़ हो सके. सुनीता की हिम्मत और मेहनत को देखकर लोग भी उसकी प्रशंसा कर रहे है.

  • Share this:
ऊना. हिमाचल प्रदेश के ऊना (Una) जिला के गांव जलग्रां की सुनीता लॉकडाउन के बीच नौकरी से हाथ धोने वाली महिलाओं (Women) के लिए मिसाल बनकर उभरी है. औद्योगिक क्षेत्र मैहतपुर के उद्योग में काम करने वाली सुनीता और निजी बस पर बतौर चालक काम करने वाले उसके पति लॉकडाउन के चलते काम धंधा बंद होने के कारण घर बैठ गए. लेकिन सुनीता (Sunita) ने मेहनत करने की ठानी और लॉकडाउन के बीच लोगों के घर द्वार पर सब्जी, फल और आचार (Pickle) बेचने का निर्णय लिया. आज सुनीता जहाँ अपनी मेहनत के दम पर अपने परिवार का पालन पोषण कर रही है, वहीँ महिला शक्ति में नई ऊर्जा के संचार में भी अपना योगदान दे रही है.

स्कूटी पर घर-घर जाकर बेचती है सब्जी
ऊना के गांव जलग्रां टब्बा की सुनीता देवी के पास कोई काम नहीं था. वहीँ सुनीता का पति निजी बस का चालक है और लॉकडाउन के कारण वो नौकरी पर तो जा नहीं पा रहे हैं और बीमार भी हैं. एक तो गरीबी और ऊपर से इस दंपति के पास कोई काम भी नहीं था, लेकिन बावजूद इसके सुनीता ने हिम्मत दिखाई और लॉकडाउन के बीच ही स्कूटी पर सवार होकर लोगों को घर द्वार पर सब्जी, फल और आचार पहुंचाने की योजना बनाई.

सुनीता घर-घर जाकर सब्जियां बेच रही है.
सुनीता घर-घर जाकर सब्जियां बेच रही है.




राशन तो मिला लेकिन परिवार की ओर जरूरतें


सुनीता आज अपनी मेहनत और हिम्मत के बल पर ही तीन बच्चों सहित परिवार का पालन पोषण कर रही है. सुबह सूरज की किरणें निकलने से पहले ही सुनीता घर के काम काज निपटा कर सब्जी मंडी पहुंचती है. इसके बाद गांव-गांव घूम कर सब्जी और फल बेचती है. दो पैसे अधिक कमा ले, इसको लेकर सुनीता घर का बनाया हुआ आचार भी डिब्बे में लेकर चलती है, ताकि कोई खरीददारी कर लें. सुनीता की माने तो लॉकडाउन के बीच सरकार द्वारा राशन तो मिल ही रहा है लेकिन अपनी और परिवार की अन्य जरूरतों को पूरा करने के लिए उन्होंने यह काम शुरू किया है.


समाज को दिया संदेश
सुनीता ने बेरोजगारों को घर पर बैठे रहने की बजाय काम करने का संदेश दिया है, ताकि लोग आर्थिक रूप से सुदृढ़ हो सके. सुनीता की हिम्मत और मेहनत को देखकर लोग भी उसकी प्रशंसा कर रहे है. स्थानीय लोगों की मानें तो इंसान को काम करने में कोई शर्म नहीं करनी चाहिए और मेहनत के दम पर आगे बढ़ना चाहिए.

ये भी पढ़ें: Inspiring Kangra: पैसे कमाने के लिए खच्चरें, घूमने को कार, 6 बेटियों को पढ़ाया

हिमाचल में मौसम: शिमला में सीजन का सबसे गर्म दिन, 9 शहरों में पारा 30° पार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऊना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 23, 2020, 10:16 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading