सेना ने दिए टिप्स, भूकंप के दौरान करें ऐसे व्यवहार

भूकंप आपदा प्रबंधन को जांचने के लिए हुई मॉक ड्रिल में पहली बार सेना ने भी हिस्सा लिया. सेना की टुकड़ी अपने साथ आधुनिक उपकरण भी लेकर आई थी.

Amit Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 11, 2019, 3:07 PM IST
Amit Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 11, 2019, 3:07 PM IST
ऊना जिले में भूकंप आपदा प्रबंधन को जांचने के लिए मॉक ड्रिल हुई. इस मॉक ड्रिल में पहली बार सेना ने भी हिस्सा लिया. ये मॉक ड्रिल ऊना जिले के तीन स्थानों पर की गई. इस मॉक ड्रिल में अग्निशमन, होमगार्ड, पुलिस और सेना के जवानों ने रेस्क्यू किया. इस दौरान जिले के प्रशासनिक अधिकारीयों ने जिला स्तर पर आपदा प्रबंधन प्लान की समीक्षा के साथ साथ आपदा प्रबंधन से जुड़ी आपातकालीन प्रतिक्रिया तंत्र की क्षमताओं को जांचा.

मॉक ड्रिल, MOCK DRILL
भूकंप में घायल मरीजों को निकालते सेना के जवान


 सेना के 50 जवानों ने मॉक ड्रिल में लिया हिस्सा

ऊना जिले में मॉक ड्रिल के लिए तीन स्थानों को चुना गया था जिसमें ऊना का नंदा अस्पताल, डिग्री कॉलेज और न्यासा उद्योग टाहलीवाल शामिल थे. वहीं प्रशासन द्वारा सर्किट हाउस में कमांड पोस्ट तथा ऊना कालेज में चिकित्सा सहायता केंद्र व रिलीफ कैंप बनाये गए थे. ऊना में हुई इस मॉक ड्रिल में पहली बार सेना की एक यूनिट भी मौजूद रही जिसमें मेजर रैंक के अधिकारियों सहित कुल 50 जवान शामिल थे.

मॉक ड्रिल, MOCK DRILL
सीढिय़ों के रास्ते घायलों को बाहर निकाला गया


आधुनिक उपकरण के साथ सेना ने की मॉक ड्रिल

सेना की यह टुकड़ी अपने साथ आधुनिक उपकरण भी लाई थी. वहीं इस दौरान अग्निशमन, होमगार्ड और पुलिस के जवानों ने भी अपनी कार्यकुशलता का परिचय दिया. विभिन्न विभागों के अधिकारी और कर्मचारी भी मॉक ड्रिल के दौरान अपने-अपने काम में जुटे रहे. डीसी ऊना ने कहा कि आपदाओं से निपटने के लिए सभी जरूरी तैयारियां पूरी करने के उद्देश्य से इस मॉक ड्रिल का आयोजन किया गया है.
Loading...

मॉक ड्रिल, MOCK DRILL
सेना की टुकड़ी आधुनिक उपकरण के साथ रेस्क्यू करते हुए


रस्सी के सहारे घायलों को बाहर निकाला 

मॉक ड्रिल को इतनी बखूवी से अंजाम दिया गया कि देखने वाले भी सोचने पर मजबूर हो गए की ये मॉक ड्रिल है या रियल रेस्क्यू ऑपरेशन हो रहा है. मॉक ड्रिल के द्वारान जवान रस्सी के सहारे दूसरी मंजिल पर पहुचे फिर रस्सी से बांधकर फंसे लोगों को दूसरी मंजिल से रस्सी के द्वारा ही नीचे लाया गया. इस तरह के रेस्क्यू अभ्यास आपदा के समय रेस्क्यू टीम के लिए बहुत मददगार साबित होंगे.

मॉक ड्रिल, MOCK DRILLरस्सी के सहारे घायलों को बाहर निकाला गया
ये भी पढ़ें-  VIDEO: आजाद हिंद फौज के इस योद्धा के गांव में नहीं है जरूरी सुविधाएं

ऊना: शराब की अवैध बिक्री पर पुलिस की बड़ी कार्रवाई, कई होटल कराए बंद

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऊना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 11, 2019, 2:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...