अपना शहर चुनें

States

बहू को बच्चा नहीं होने पर सास, जेठानी और ननद ने मिट्टी का तेल छिड़क आग लगाई

एक विवाहिता को बच्चा नहीं होने पर मिट्टी का तेल छिड़क कर आग के हवाले करने की कोशिश की गई.
एक विवाहिता को बच्चा नहीं होने पर मिट्टी का तेल छिड़क कर आग के हवाले करने की कोशिश की गई.

ऊना जिले (Una District) में एक विवाहिता को बच्चा नहीं होने पर मिट्टी का तेल (Kerosene Oil) छिड़क कर आग (Fire) के हवाले करने का प्रयास करने का मामला सामने आया है. पीड़िता ने सास, जेठानी और ननद के खिलाफ बयान दर्ज कराए हैं.

  • Share this:
ऊना. हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले (Una District) में थाना अम्ब के तहत गांव नकड़ोह की एक विवाहिता को बच्चा (Barren) नहीं होने पर मिट्टी का तेल (Kerosene Oil) छिड़क कर आग के हवाले करने का प्रयास करने का मामला सामने आया है. पीड़िता टांडा मेडिकल कालेज में जिंदगी व मोत की लड़ाई लड़ रही है. इस बात का खुलासा तब हुआ जब पुलिस ने पीड़ित महिला का बयान पुलिस ने दर्ज किया. पुलिस ने इस मामले में ससुराल पक्ष के सदस्यों के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

पति ने आग बुझाकर बचाई जान

जानकारी के अनुसार नकड़ोह निवासी ज्योति शर्मा ने पुलिस को दिए बयान में बताया कि 23 नवंबर को वह अपने घर में थी. उसका कोई बच्चा नहीं था, जिसके चलते उसकी सास जेठानी बस ससुराल पक्ष के अन्य लोग इसको ताने मारते रहते थे. उसको मानसिक व शारीरिक रूप से परेशान किया जाता रहा है. 23 नवंबर को जब वह अपने घर में थी तब उसकी सास, जेठानी, मामा की बेटी ननद ने कथित तौर पर इस पर मिट्टी का तेल फेंका और आग लगा दी. इसी बीच उसके पति ने आकर आग बुझाई.



पीड़ता ने दर्ज कराए बयान
स्थानीय लोगों की मदद से पीड़िता को अस्पताल पहुंचाया गया लेकिन गंभीर हालत के चलते चिकित्सकों ने टांडा अस्पताल रेफर कर दिया है. परिजन उसे टांडा मेडिकल अस्पताल ले गए, जहां पीड़िता ने बयान में बताया कि उसने खुद को आग नहीं लगाई थी बल्कि ससुराल पक्ष ने उस पर मिट्टी का तेल फेंककर आग के हवाले किया था. उधर डीएसपी मनोज जंबाल ने बताया कि पुलिस ने मामला धारा 307, 326, 34 आईपीसी के तहत दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

यह भी पढ़ें: हिमाचल के सबसे बड़े अस्पताल IGMC में पहली बार Robot से होगी सर्जरी!

छात्र प्रांजल का सोलर विलेज प्रोजेक्ट जंगली जानवरों से किसानों को बचाएगा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज