होम /न्यूज /हिमाचल प्रदेश /हिमाचलः हरोली में 7 साल के मासूम को महिला शिक्षिका ने पीटा, फिर मांगी माफी

हिमाचलः हरोली में 7 साल के मासूम को महिला शिक्षिका ने पीटा, फिर मांगी माफी

हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले में एक महिला टीचर ने सात साल के मासूम की बेहरमी से पिटाई कर दी.

हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले में एक महिला टीचर ने सात साल के मासूम की बेहरमी से पिटाई कर दी.

दोनों पक्षों में काफी देर तक चली बातचीत के बाद ग्रामीणों के हस्तक्षेप से समझौता हो गया. हालांकि, शिक्षिका ने भी बच्चे क ...अधिक पढ़ें

ऊना. हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले में एक महिला टीचर ने सात साल के मासूम की बेहरमी से पिटाई कर दी. पिटाई से बच्चे के दोनों हाथों में डंडे के निशान उभर आए. बाद में माफी मांगकर शिक्षिका पूरे मामले से अपना पीछा छुड़वाया. मामला उछलने के बाद ग्रामीण स्कूल में लामबंद हो गए थे.

जानकारी के अनुसार, ऊना जिले के हरोली उपमंडल का यह मामला है. प्राइमरी स्कूल में अध्यापिका ने 7 साल के बालक की पिटाई कर दी. दूसरी कक्षा में नन्हें बालक को मैडम में निर्ममता से पीटा. बच्चे की इस कदर पिटाई की गई है कि उसकी दोनों टांगों पर डंडे के निशान साफ तौर पर देखे जा सकते हैं. बहरहाल, शिक्षिका ने सार्वजनिक रूप से माफी मांग कर मामले में अपनी जान बचा ली है. जबकि इस घटना को लेकर पूरे क्षेत्र में चर्चाओं का बाजार गर्म हो चुका है.

चार माह पहले ही तैनाती की थी
बताया जा रहा है कि स्कूल प्रबंधन समिति द्वारा शिक्षकों की कमी के चलते करीब 4 महीने पहले ही बच्चों की शिक्षा को सुचारू रखने के लिए इस अध्यापिका को स्कूल में तैनात किया था. शुक्रवार को स्कूल में अध्यापिका ने 7 साल के इस बच्चे को छड़ी से बुरी तरह पीट डाला. बालक ने घर पहुंचकर अपने परिजनों को पूरी घटना बताई. वहीं अपनी टांगों पर पड़े छड़ी के निशान भी दिखाए, जिसके बाद मामले ने तूल पकड़ लिया.

घटना की जानकारी मिलते ही बच्चे के परिजन और अन्य ग्रामीण भी स्कूल आ पहुंचे. इतना ही है स्कूल प्रबंधन समिति के पदाधिकारी और सदस्य भी मौके पर आ गए. दोनों पक्षों में काफी देर तक चली बातचीत के बाद ग्रामीणों के हस्तक्षेप से समझौता हो गया. हालांकि, शिक्षिका ने भी बच्चे की पिटाई करने के मामले में माफी मांग कर जान छुड़ाई. इतना ही नहीं उसने भविष्य में ऐसी हरकत नहीं करने के बारे भी भरोसा दिलाया.

Tags: Himachal Police, Himachal pradesh, Students

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें