Mi-17 हेलिकॉप्टर उड़ाकर भारतीय वायुसेना की तीन महिला अधिकारियों ने रचा इतिहास

Mi-17 हेलिकॉप्टर उड़ाकर भारतीय वायुसेना की तीन महिला अधिकारियों ने रचा इतिहास
(image credit: Twitter@IAF_MCC)

Mi-17 हेलिकॉप्टर उड़ाकर भारतीय वायुसेना की तीन महिला अधिकारियों ने रचा इतिहास (image credit: Twitter@IAF_MCC)

फ्लाइट लेफ्टिनेंट पारुल भारद्वाज (कप्तान), फ्लाइंग ऑफिसर अमन निधि (सह-पायलट) और फ्लाइट लेफ्टिनेंट हिना जायसवाल (फ्लाइट इंजीनियर) दक्षिण पश्चिमी वायु कमान से हेलिकॉप्टर उड़ाने वाली पहली ऑल-वीमेन टीम की सदस्य बन गईं.

  • Share this:

भारतीय वायुसेना की तीन महिला अधिकारियों ने सोमवार को उस वक्त इतिहास रच दिया जब उन्होंने देश की पहली पूर्ण-महिला चालक दल का हिस्सा बनकर एमआई-17 हेलिकॉप्टर उड़ाया. फ्लाइट लेफ्टिनेंट पारुल भारद्वाज (कप्तान), फ्लाइंग ऑफिसर अमन निधि (सह-पायलट) और फ्लाइट लेफ्टिनेंट हिना जायसवाल (फ्लाइट इंजीनियर) दक्षिण पश्चिमी वायु कमान से हेलिकॉप्टर उड़ाने वाली पहली ऑल-वीमेन टीम की सदस्य बन गईं.

सेना सूत्रों के मुताबिक इनमें दो महिला सदस्य पंजाब की हैं. एमआई-17 हेलिकॉप्टर उड़ाने वाली पहली महिला पायलट, फ्लाइट लेफ्टिनेंट पारुल भारद्वाज पंजाब के मुकेरियन से तालुक रखती हैं. वहीं चंडीगढ़ की फ्लाइट लेफ्टिनेंट हिना जायसवाल वायु सेना की पहली महिला फ्लाइट इंजीनियर हैं. फ्लाइंग ऑफिसर अमन निधि झारखंड के रांची शहर से हैं और वो इस राज्य से वायु सेना की पहली महिला पायलट हैं.

एमआई-17 वी5 हेलिकॉप्टर से इन महिलाओं की उड़ान युद्ध प्रशिक्षण का हिस्सा थी और वह दक्षिण पश्चिमी वायु कमान में प्रतिबंधित क्षेत्र से आगे हेलिकॉप्टर उतारने में सफल रहीं.



एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज