#जीवनसंवाद: स्नेह का जादू!

#जीवनसंवाद: स्नेह का जादू!
#जीवन संवाद : स्नेह का जादू!

Jeevan Samvad: कौन कब कहां आपकी मदद करने के काम आ सके, इसका कोई भरोसा नहीं. जिंदगी इस बात से तय नहीं होती कि हम 'शेर 'के साथ कैसे पेश आते हैं. जिंदगी की दिशा और दशा इस बात से तय होती है कि हम उन लोगों के साथ कैसे पेश आते हैं जो हमारी नजर में 'छोटे' होते हैं.

  • Share this:
हमें प्यार और स्नेह की जरूरत सबसे अधिक कब होती है. उस वक्त जब हम सुख और आनंद की तरफ बढ़ रहे होते हैं, उस समय जब हम अपने मुश्किल दौर से गुजर रहे हों. इसका उत्तर बहुत मुश्किल नहीं है. लेकिन हम मनुष्यता और संवेदनशीलता से दूर होते जाने के कारण मन की बहुत सामान्य जरूरत से दूर होते जा रहे हैं. इसका सबसे सरल उदाहरण हम इस समय देख रहे हैं कि सड़क पर हो रही/ हो चुकी दुर्घटना, हिंसा में जीवन के लिए संघर्ष कर रहे लोगों की मदद में हमारी दिलचस्पी हर दिन घटती जा रही है.

हम वीडियो बनाने में इतने अधिक व्यस्त हैं कि इसे ही हम अपनी जिम्मेदारी समझ बैठे हैं. भारतीय समाज वायरल वीडियो का सबसे बड़ा उपभोक्ता तो बन गया है लेकिन मदद करने के मामले में हमारा मन कमजोर हो रहा है. मदद के लिए जब तक हम आगे नहीं आएंगे, हमारी मदद के लिए भी कोई नहीं आएगा. इस सहज सिद्धांत से मन कहीं दूर चला गया है. हमें मन को एक बार फिर कोमल, उदार और संवेदनशील बनाने की दिशा में आगे बढ़ना है!

#जीवनसंवाद: पहना हुआ स्वभाव!



हमें बचपन में सुनाई जाने वाली कहानियों में एक बड़ी सुंदर कहानी मदद के बारे में है. एक घने जंगल में बहुत सुंदर और ताकतवर शेर रहा करता था. उस की दहाड़ इतनी दूर तक जाती थी कि उसके आसपास कई मील तक सन्नाटा पसरा रहता. उसे दूसरे ही शेरों की तरह नींद बहुत प्रिय थी. जब वह सोता तो किसी की हिम्मत न होती कि उसके आसपास फटके. पेड़ों पर रहने वाले बंदर तक इस बात का ध्यान रखते थे. उसके सेवक लोमड़ी, लकड़बग्घा भी हर प्रकार से कोशिश करते कि उसकी नींद में कोई परेशानी पैदा न हो!

जंगल का राजा शेर एक दोपहरी शिकार के बाद नींद के आनंद में था. उसी समय उसकी गुफा में कहीं से चूहा आ गया. संभव है चूहा अपने किसी रिश्तेदार के यहां घूमने-फिरने आया हो. क्योंकि उसकी गुफा के आसपास रहने वाले चूहे तो शेर की आदत से अच्छी तरह परिचित थे. चूहा अपनी मौज में इस तरह डूबा कि शेर की पीठ पर उछल कूद कर बैठा. शेर की नींद खुल गई. उसकी अलसाई आंखों में गहरा गुस्सा उतर आया. उसने एक ही झटके में अपने पंजे से चूहे को दबोच लिया. तुम्हारी ऐसी हिम्मत. शेर ने दहाड़ते हुए कहा. चूहे को अपनी गलती का एहसास हो चुका था. वह बुद्धिमान चूहा था. उसने संकट के समय भी धैर्य नहीं खोया. तुरंत शेर से अभयदान की मांग करते हुए अपनी जान बख्शने की गुजारिश करने लगा. इस दौरान इसने एक ऐसी बात कही जो अब तक शेर से किसी ने न कही थी.

चूहे ने कहा, आप हमारे राजा हैं. राजा को चूहे का वध शोभा नहीं देता. मेरी जान बख्श दीजिए, संभव है मैं किसी दिन आपके काम आऊं! उसका जवाब सुनकर शेर को हंसी आ गई. हंसने से उसका गुस्सा दूर हो गया. उसने कहा, तुम मेरे किस काम आओगे. लेकिन मैं तुम्हारी सोच से प्रभावित हुआ. जाओ, लेकिन ध्यान रहे ऐसी गलती दोबारा न हो. चूहा अपने ईश्वर को धन्यवाद देता हुआ, वहां से भागा.

समय बीता. कुछ दिन बाद जंगल में एक शिकारी आया. उसने कई दिन की जांच पड़ताल के बाद यह पाया कि शेर को पकड़ने का सबसे अच्छा वक्त दोपहर का है. जब वह गहरी नींद में होता है. उसने एक दोपहर बहुत ही कुशलता से शेर को जाल में फंसा लिया. दोपहर का वक्त था वह काफी मेहनत करके थक गया था. जैसे ही उसने देखा कि शेर फंस चुका है. वह अपने साथियों के साथ थोड़ी देर विश्राम के लिए चला गया. इसी बीच उस चूहे को यह खबर मिल गई. उसे अपना वायदा याद आया.

वह तुरंत शेर के पास हाजिर हो गया. अपने कुछ साथियों को भी ले गया. शेर ने उसे देखते ही पूछा तुम यहां क्या कर रहे हो. चूहे ने कहा अगर आपकी अनुमति हो तो मैं तुरंत जाल काटने के काम में लग जाऊं. शेर ने कहा इतना आसान नहीं है फिर भी तुम कोशिश करके देख लो. चूहे ने अपने पूरे परिवार को इस काम में लगा दिया.

थोड़ी ही देर में चूहों ने अपने और साथियों को इस काम में शामिल कर लिया. उसके कुछ देर बाद जंगल का राजा आजाद हो चुका था. इस बार उसकी दहाड़ कुछ ऐसी थी कि शिकारी और उसके साथी चुपचाप जंगल से भाग गए. शेर ने चूहे और उसके साथियों का धन्यवाद किया!

#जीवनसंवाद: सारा प्यार तुम्हारा!

मुझे यह कहानी इसलिए भी याद आती रहती है क्योंकि हमारी जिंदगी भी कुछ इसी तरह है. कौन कब कहां आपकी मदद करने के काम आ सके, इसका कोई भरोसा नहीं. जिंदगी इस बात से तय नहीं होती कि हम 'शेर 'के साथ कैसे पेश आते हैं. जिंदगी की दिशा और दशा इस बात से तय होती है कि हम उन लोगों के साथ कैसे पेश आते हैं जो हमारी नजर में 'छोटे' होते हैं. कहानी की भाषा में कहें तो 'चूहे' होते हैं.

इसलिए मदद को स्वभाव बनाइए. मदद कभी बेकार नहीं जाती, वह आपको अधिक प्रसन्नता आनंद और सुख देगी. हमको तो बस इस कहानी के शेर जैसा सहनशील, क्षमाशील होना है. बाकी जिंदगी खुद समझ लेती है!


अपने सवाल और सुझाव इनबॉक्‍स में साझा करें: आप अपने मन की बात फेसबुक और ट्विटर पर भी साझा कर सकते हैं. ई-मेल पर साझा किए गए प्रश्नों पर संवाद किया जाता है.
ईमेल : dayashankarmishra2015@gmail.com
(https://twitter.com/dayashankarmi ) https://www.facebook.com/dayashankar.mishra.54​​
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading