लाइव टीवी

#जीवनसंवाद: हिंसा सिखाना!

दयाशंकर मिश्र | News18Hindi
Updated: March 2, 2020, 1:35 PM IST
#जीवनसंवाद: हिंसा सिखाना!
#जीवनसंवाद: हिंसा सिखाना!

Jeevan Samvad: दिल्‍ली के दंगों में पंद्रह से बीस बरस के बच्‍चों का हिंसा में शामिल होना सबसे गंभीर बात है. उनके माता-पिता का इसे धर्म से जोड़ना इससे भी खतरनाक है. बच्‍चे हमारे सामने, साथ टीवी, सोशल मीडिया और व्‍हॉट्सएप पर हिंसा सीख रहे हैं.

  • Share this:
हमारा मूल स्‍वभाव क्‍या है. जन्‍म लेने के बाद पहला काम रोने का करते हैं. गुस्‍सा होने का नहीं. नवजात गोद में आने के बाद रोता है. वह गुस्‍से से नहीं देखता है. नाराजगी से नहीं देखता. इसका सहज अर्थ हुआ कि वह धरती को देखकर डर गया है. अब वह नई दुनिया में है. मां के सुरक्षित गर्भ के बाहर उसका पहला पल! जिसका पहला ही काम आंसू से जुड़ा हुआ है. वह करुणा के करीब हो सकता है. हिंसा के नहीं. हिंसा तो सीखते हैं. धीरे-धीरे. दूसरों को देखते हुए. शब्द, भाव भंगिमा और क्रिया से. हम सीखते हैं दूसरे को मारना. उससे भेदभाव करना. अपने हितों के लिए दूसरे को दांव पर लगाना.

धर्म का भेद जितना इस समय सिखाया जा रहा है, वह धीमे-धीमे दिमाग में भरा जाता है. आहिस्‍ता-आहिस्‍ता. हर चीज़ तूफान में नहीं उखड़ती. बरगद की शाखाएं हर दिन बहने वाले हवा के झोंकों से भी कमजोर होती रहती हैं. हमारे बीच हिंसा ऐसे ही धीरे-धीरे बहाई जा रही है. विश्‍वास, स्‍नेह, आत्‍मीयता को हिंसा के झोंके तोड़ते जा रहे हैं. समाज में हिंसा रचने का काम नया नहीं है. नियमित अंतराल पर सत्‍ता के लिए ऐसे खेल रचे जाते रहे हैं. लेकिन अबकी बार खेल गहरा है.

हमारे गांव में एक कहावत है- ‘जबरा मारे और रोने भी न दे’. इस समय धर्म के नाम पर हमारी आंखों में बांधी गई पट्टी का यही हाल है. हमने बच्‍चों को हिंसा के स्‍कूल में दाखिला दिला दिया है. बिना किसी फीस के बच्‍चे टीवी, सोशल मीडिया और व्‍हॉट्सएप पर हिंसा सीख रहे हैं. पंद्रह से बीस बरस के बच्‍चे इस तरह हिंसा में शामिल हो रहे हैं.


jeevan samvad, जीवन संवाद, dayashankar mishra , दयाशंकर मिश्र, motivational stories, प्रेरणात्मक बातें, dear zindagi, डियर जिंदगी, दिल्ली हिंसा, Delhi Violence
दिल्ली हिंसा की तस्वीर. (फोटो साभार: प्रवीण खन्ना के फेसबुक वॉल से)




उन्‍हें इस बात की चिंता नहीं कि यह तस्‍वीर उनके करियर को तबाह कर सकती है. इससे भी खतरनाक है, उनके माता-पिता की मंजूरी. जिन्‍हें इस बात की चिंता नहीं दिखती कि इससे बच्‍चों की जिंदगी तबाह हो सकती है. बच्‍चे हिंसक हो चले हैं, अपने माता-पिता की मंजूरी से.

हम अगर अपने ही बच्‍चे के हाथ में तमंचे थमाते हुए नहीं डर रहे हैं तो इससे भयावह विचार कोई दूसरा नहीं हो सकता. हममें से अधिकांश लोग हिंसा को शिक्षा से सहज जोड़ते हुए मिल जाएंगे. लेकिन ऐसा करते हुए हम भूल जाते हैं कि अब तो बड़ी से बड़ी हिंसा में हिस्‍सेदार लोग पूरी तरह से शिक्षित हैं. उनकी पढ़ाई लिखाई में कहीं कोई कमी नहीं.


असल में शिक्षा स्‍वयं में कुछ नहीं है. वह अपने में एक अधूरी बात है. शिक्षा हमें तब तक बेहतर मनुष्‍य नहीं बनाती, जब तक उसे हम मानवीय मूल्‍य, मनुष्‍यता और सहृदयता से नहीं जोड़ते. ऐसा करने में असफल समाज कितना ही शिक्षित क्‍यों न हो वह हिंसात्‍मक विचार के आगे पराजित हो जाएगा.

 

jeevan samvad, जीवन संवाद, dayashankar mishra , दयाशंकर मिश्र, motivational stories, प्रेरणात्मक बातें, dear zindagi, डियर जिंदगी, दिल्ली हिंसा, Delhi Violence
दिल्ली हिंसा की तस्वीर. (फोटो साभार: प्रवीण खन्ना के फेसबुक वॉल से)


गांधी बार-बार दुहराते हैं, हिंसा को हिंसा से हराना संभव नहीं. हिंसा केवल प्रेम,सद्भाव और अहिंसा से पराजित हो सकती है. हिंसा का सामना हिंसा से कहीं किया जा सकता. उसके लिए भीतर से अहिंसा में आस्‍था होना जरूरी है. अहिंसक होना सरल नहीं. इसे सीखना होता है. यह धीरे-धीरे गहरे अभ्‍यास से हासिल होती है. इसे समझना थोड़ा मुश्किल है, लेकिन अंतत: हमें इसी रास्‍ते जाना है. क्‍योंकि मनुष्‍य और मनुष्‍यता दोनों का इसके बिना भला होना संभव नहीं.

राजनीति हिंसा का इस्‍तेमाल वैसे ही करती है, जैसे सियार अपना भेद छुपाने के लिए रंग चुनते हैं. अंतर बस इतना है कि वह बोलते ही पकड़े जाते हैं. जबकि राजनेता पकड़े नहीं जाते क्‍योंकि वह हिंसा के रंग में हमें भी चतुराई से रंग देते हैं.

राजनीति से सावधान रहे बिना हम उस सियार को नहीं पकड़ सकते, जो हमें धीरे-धीरे हिंसक बनाए जा रहा है. सोशल मीडिया, समाज की भाषा में उतरती आक्रामकता इसका सबसे सरल उदाहरण है. आप मुझसे असहमत हो सकते हैं, लेकिन ऐसा होते ही आप मुझ पर अपशब्‍द और गालियों की बौछार कर दें. आप मेरी हत्‍या की तैयारी करने लगें. यह कौन का जीवनराग है.

हिंसा ने हमारा सबसे बड़ा नुकसान यही किया है. वह हमें हर दिन क्रूर और हत्‍यारा बना रही है. अपने बच्‍चों को टीवी से दूर रखिए. सोशल मीडिया में मित्रों को चुनने में सजग रहिए. अपने विचार को लगातर परखते रहिए, अगर उनमें हिंसा की ओर जाने की थोड़ी भी झलक दिखे तो तुरंत अपने मन की पड़ताल करिए. क्‍योंकि कई बार हम अनजाने ही हिंसा सीखते जाते हैं, हिंसक होते जाते हैं.

दयाशंकर मिश्र
ईमेल : dayashankarmishra2015@gmail.com अपने सवाल और सुझाव इनबॉक्‍स में साझा करें:
(https://twitter.com/dayashankarmi )(https://www.facebook.com/dayashankar.mishra.54)

ये भी पढ़ें:

#जीवनसंवाद : हिंसा, टीवी और हम!

#जीवनसंवाद: हिंसा-अहिंसा और समाज!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जीवन संवाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 28, 2020, 1:15 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर