#जीवन संवाद: मन का ख्याल रखिए!

हंसना मन का 'टाॅनिक' है, तो रोना इसके उपचार की मुश्किल दवा! इसके लिए थोड़ी कोशिश करनी होती है, लेकिन मन का मैल धोने का यह सहज मार्ग है.

News18Hindi
Updated: August 7, 2019, 3:57 PM IST
#जीवन संवाद: मन का ख्याल रखिए!
हंसना मन का टाॅनिक है, तो रोना इसके उपचार की मुश्किल दवा! इसके लिए थोड़ी कोशिश करनी होती है, लेकिन मन का मैल धोने का यह सहज मार्ग है.
News18Hindi
Updated: August 7, 2019, 3:57 PM IST
हम शरीर की चिंता को जितनी गंभीरता से लेते हैंउतना ही ख्याल क्या हम मन का भी रखते हैं! यह सवाल इस समय सबसे अधिक प्रासंगिक है. पिछले दस बरस में अमेरिका जापानरूस के साथ भारत में भी मानसिक रोग,परेशानीउदासी गहराती जा रही है. विज्ञानतकनीकी प्रयोग के लिए दुनिया भर में मशहूर जापान अब मानवीय प्रबंधन की ओर अधिक संवेदनशील होने का प्रयास कर रहा है. जापान में लोगों से अपने कामकाज और निजी जीवन के बीच संतुलन पर सबसे अधिक बल दिया जा रहा है.

सामुदायिक जीवन बेहतर करने के साथ कुछ ऐसे प्रयोग हो रहे हैं जिन्हें सरल भाषा में 'क्राइंग थेरेपीकहा जा सकता है. इसमें व्यक्ति के साथ ही समूह को इस बात के लिए तैयार किया जा रहा है कि वह अपने दुखों को पूरी तरह से व्यक्त कर पाए. जीभर के रो ले. रोना हमारी बहुत कुशल उपचार पद्धति है. अपनी अज्ञानताअहंकार के कारण इसे केवल स्त्रियों से जोड़कर देखा जाता है. अब तक हमारे देश में बहुत से लोग यह कहते मिल जाते हैं कि क्यों महिलाओं की तरह रो रहे हैं! जबकि रोना अपना ही उपचार स्वयं कर लेने जैसा है. मन में जमा हुआ मैल रो लेने पर बहुत हद तक धुल जाता है.

हम हंसने पर बहुत अधिक बल देते हैंकोशिश करते रहते हैं. लाफ्टर क्लब और टीवी पर रात-दिन हल्ला मचाते लाफिंग शो हमारे हंसी की ओर रुझान को दिखाने वाले हैं. अगर हंसना मन का 'टाॅनिकहैतो रोना उपचार की मुश्किल दवा! इसके लिए थोड़ी कोशिश करनी होती हैलेकिन मन का मैल धोने का यह सहज मार्ग है.


एक छोटा-सा किस्सा आपको सुनाता चलता हूं. मेरेे पास देर रात मुखर्जी नगर से फोन आया. मेरे अज़ीज मित्र के छोटे भाई का. वह कुछ वर्ष तक एक निजी कंपनी में नौकरी करने के बाद आईएएस की तैयारी कर रहा है. उसकी आवाज में कुछ परेशानीदुविधा थी. उसने कहाघर की बहुत याद आ रही है. मन पढ़ाई में नहीं लग रहा. मैंने कहा तुरंत घर आ जाओ! अभी इसी वक्त! उसने कहा रात को ही. कल सुबह आ जाऊं. मैंने कहानहींअभी आना होगा! क्योंकि तुम्हारा मन बहुत अधिक परेशाननकारात्मक विचार से घिरा हुआ है. ओला करके चुपचाप चले आओ! अभी. दो घंटे बाद वह नजर के सामने था. गरमागरम दाल-चावल और देसी स्वाद के बीच उसने मन की अनेक परतें खोलकर रख दीं. ‌‌‌ ‌

उसने कहाआपने अभी बुलाकर बहुत अच्छा किया. कई महीने से टालने के कारण मन में ऐसी चीज़ों का मैल जम गया थाजिन पर मेरा नियंत्रण तो नहीं हैलेकिन उसकी कड़वाहट मन में लगातार तैर रही थी. मैंने उससे बस इतना ही कहाअपने मन का भी ऐसे ही ख्याल रखोजैसेेे शरीर का रखते हो. मन को अकेला नहीं छोड़ना हैउसके अकेला पड़ते हीहम भीतर सेेे कमजोर होने लगते हैं. हमें पता ही नहीं चलताकब हमारा मन हमारे नियंत्रण से परे हो जाता है.

मन पर सजग दृष्टि बहुत जरूरी है. उसे भी वैसे ही प्रेम की दरकार हैजैसे शरीर को होती है. शरीर तो अक्सर डॉक्टर के पास रहता हैलेकिन अब हमें तनाव निराशा और उदासी के बढ़ते हुए असर को देखते हुए मन को भी उसके'चिकित्सकके पास ले जाने केे बारे में सहजता से सोचना होगा! अगर आपके पास भी कोई अपनाकिसी अपने का कोई अपनाकभी कोई पीड़ा लेकर आना चाहे तो उसे कभी मत टालिए. न जाने वह कितने गंभीर संकट में आपको याद कर रहा हैआपके पास आना चाह रहा है!

पता : दयाशंकर मिश्र (जीवन संवाद)
Loading...

Network18
एक्सप्रेस ट्रेड टावर, 3rd फ्लोर, A विंग
सेक्टर 16 A, फिल्म सिटी, नोएडा (यूपी)
ईमेल : dayashankarmishra2015@gmail.com
अपने सवाल और सुझाव इनबॉक्‍स में साझा करें:
(https://twitter.com/dayashankarmi )(https://www.facebook.com/dayashankar.mishra.54)


इसे भी पढ़ें :

#जीवनसंवाद एहसानों का बोझ!

#जीवनसंवाद सपने और संकट!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जीवन संवाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 7, 2019, 3:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...