लाइव टीवी

#जीवन संवाद : बस आज!

दयाशंकर मिश्र | News18Hindi
Updated: May 26, 2020, 1:09 AM IST
#जीवन संवाद : बस आज!
#जीवन संवाद : बस आज!

यह प्रकृति अपने नियमों से बिल्कुल भी पीछे नहीं हटती. महाभारत का प्रसंग तो आपको याद ही होगा, जब अर्जुन के प्रश्न को नए आयाम देते हुए महानायक कृष्ण समझाते हैं कि मैं स्वयं भी प्रकृति के नियमों से बंधा हूं.

  • Share this:
इन दिनों बहुत से ऐसे मित्रों से भी बात करने के अवसर मिल रहे हैं, जिनसे पहले बात करना सुलभ नहीं था. ऐसे मित्र जो पुलिस, डॉक्टर, पत्रकार नहीं हैं, उनके पास पहले के मुकाबले थोड़ा अधिक समय है. उनके पास इस समय अतीत के आंगन में झांकने और भविष्य के प्रति चिंतित होने के लिए पर्याप्त अवसर हैं. कोरोना हमारे जीवन पर इतनी संपूर्णता और व्यापकता से असर कर रहा है कि जो बच्चे हैं, यह उनकी स्मृति में स्थाई छाप, बड़ों के जीवन में भरपूर उथल-पुथल करके ही मानेगा.

ऐसे समय में जब सब तरफ नकारात्मकता पसरी हो जीवन को दिशा कैसे मिलेगी. बहुत ध्यान से देखने पर पाते हैं कि हम खुद को कितना निर्मल, दूसरों के हितैषी के रूप में देखते हैं. कोरोना हमें एहसास दिलाने के लिए पर्याप्त है कि अंततः हमारे हाथ बहुत छोटे हैं. मैं जिसे प्रकृति कहता हूं, आप उसे ईश्वर, अल्लाह, जिस किसी में आपकी आस्था हो, वह मान सकते हैं. यह प्रकृति अपने नियमों से बिल्कुल भी पीछे नहीं हटती. महाभारत का प्रसंग तो आपको याद ही होगा, जब अर्जुन के प्रश्न को नए आयाम देते हुए महानायक कृष्ण समझाते हैं कि मैं स्वयं भी प्रकृति के नियमों से बंधा हूं. मेरे लिए यह महाभारत के चुनिंदा जीवन दृष्टि से भरे वाक्य में से एक है. और बहुत प्रिय भी!

इंदौर से 'जीवन संवाद' के एक पाठक पेशे से बिजनेसमैन हैं. टेलीकॉम सेक्टर में हैं. कोरोना पर हमारी बहुत पहले से बात हो रही है. उनकी केवल चिंता इतनी है कि भविष्य क्या होगा. कल क्या होगा!. हम कितना पीछे छूट जाएंगे. हमारा जीवन स्तर कहीं दूसरों के मुकाबले पिछड़ ना जाए.



क्षमा कीजिएगा! लेकिन मुझे लगता है यह कैसी चिंता है जो आपके मन को नुकसान पहुंचाने के अलावा और कोई दूसरा काम नहीं करती. अतीत की जुगाली और अनदेखे भविष्य की चिंता दोनों ही मन को बीमार करने वाली हैं! केवल आज में रहना ही सबसे प्रसन्न चित्त जीवन शैली है. बीते हुए कल और आने वाले दोनों पर ही हमारा नियंत्रण नहीं हैं. नियंत्रण का दावा करने वालों के लिए कोरोना सबसे प्रासंगिक उदाहरण है.




एक छोटा सा उदाहरण लेते हैं. सुरेश त्रिपाठी, इसलिए दुखी हैं क्योंकि उनको लगता है उनका पत्नी और बच्चों के प्रति व्यवहार ठीक नहीं. हर दिन वह अपने दोस्तों को यही कहानी सुनाते. एक दिन उनका एक दोस्त कहता है- आज तुम घर पर कुछ मत कहना. किसी भी बहाने चुप रहना. सुरेश ने कहा कि बहुत मुश्किल है, फिर भी तुम कहते हो तो करके देखता हूं. सुरेश के लिए मुश्किल था. शादी को पांच बरस हो गए थेे. जैसे हर दिन लड़ने की आदत हो गई थी. लेकिन सुरेश ने किसी तरह बात मान ली. अगले दिन जब वह ऑफिस आया तो उसके पास सुनाने को कोई झगड़ा नहीं था. केवल मौन का किस्सा था. उन्होंने अपना अतीत सुधार लिया क्योंकि अपने वर्तमान पर ध्यान दिया था. अगलेे दिन फिर इसी क्रम को जारी रखने का फैसला किया. वर्तमान (यानी केवल आज) पर ध्यान देने से उनके दोनोंं कल सुधरने लगे.


यह उदाहरण जानबूझकर ऐसे संबंध का दिया गया है, जिससे हम इसके महत्व को थोड़ी सरलता से समझ सकें. इसके अतिरिक्त इसे किसी दूसरे संदर्भ में समझने की कोशिश न करें. मैं आपको गौतम बुद्ध की कुछ बहुत खूबसूरत पंक्तियों के साथ छोड़कर जा रहा हूं. अतीत की गलियों में मत भटकिए, स्वयं को भविष्य की चिंता में मत गलाइए. अतीत का कोई अर्थ नहीं, कल किसी ने देखा नहीं!


हमेशा की तरह आपके प्रश्न आमंत्रित हैं. संपर्क: ईमेल dayashankarmishra2015@gmail.com. आप अपनी बात फेसबुक और ट्विटर पर भी साझा कर सकते हैं. संवाद का स्वागत है.

दयाशंकर मिश्र
ईमेल : dayashankarmishra2015@gmail.com अपने सवाल और सुझाव इनबॉक्‍स में साझा करें:
(https://twitter.com/dayashankarmi )(https://www.facebook.com/dayashankar.mishra.54)

ये भी पढ़ें:

#जीवन संवाद : अकेले का अकेलापन!

#जीवनसंवाद : 'बड़े' मन की जरूरत !

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जीवन संवाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 21, 2020, 9:18 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading