जीविकाकर्मी और कैदी करेंगे मास्क की कमी पूरा, इंजीनियरिंग के छात्र बनाएंगे सेनेटाइजर

पूर्णिया में जीविकाकर्मियों को 10 हजार मास्क बनाने का ऑर्डर मिला है.

पूर्णिया में जीविकाकर्मियों को 10 हजार मास्क बनाने का ऑर्डर मिला है.

डीएम राहुल कुमार ने कहा कि जीविकाकर्मियों को मास्क निर्माण का जिम्मा दिया गया है. इसके अलावा पूर्णिया इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों को सेनेटाइजर निर्माण करने के लिये कहा गया है ताकि जिले में मास्क और सेनेटाइजर की कमी नहीं हो.

  • Share this:

पूर्णिया. कोरोना वायरस के संक्रमण (Corona virus infection) के बढते प्रकोप को लेकर मास्क की डिमांड बढ़ गई है और कई दवा बाजारों में इसके स्टॉक खत्म हो गए हैं. ऐसे में स्वास्थ्य विभाग ने एक पहल की है और कैदियों और जीविकाकर्मियों से मास्क बनवाने का फैसला किया है. इसी के तहत पूर्णिया सेन्ट्रल जेल के कैदी (Prisoners of Purnia Central Jail) पिछले 10 दिनों से मास्क बनाने का काम कर रहे हैं. पहले सिर्फ जेलों में ही मास्क की आपूर्ति की जाती थी, लेकिन अब सिविल सर्जन ने भी सेन्ट्रल जेल को 10 हजार मास्क की आपूर्ति का आर्डर दिया है. वहीं, जिले में रानीपतरा और अमौर में जीविकाकर्मी भी मास्क निर्माण के काम में जुट गयी है.

जीविकाकर्मियों को मास्क निर्माण का जिम्मा

डीएम राहुल कुमार ने कहा कि जीविकाकर्मियों को मास्क निर्माण का जिम्मा दिया गया है. इसके अलावा पूर्णिया इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों को सेनेटाइजर निर्माण करने के लिये कहा गया है ताकि जिले में मास्क और सेनेटाइजर की कमी नहीं हो. हालांकि डीएम ने कहा कि लोग सेनेटाइजर के जगह साबुन का इस्तेमाल करें.

15 रुपये में मिलेंगे मास्क

वहीं, सिविल सर्जन डॉ मधुसूदन प्रसाद ने कहा कि स्वास्थ विभाग के लिये मास्क की कमी पूरा करने के लिए पूर्णिया सेन्ट्रल जेल प्रशासन को 10 हजार मास्क का आर्डर दिया गया है. ये मास्क 15 रुपये में आपूर्ति होगी.



10 हजार मास्क के मिले ऑर्डर

जेल अधीक्षक जितेन्द्र कुमार ने कहा कि सिविल सर्जन द्वारा 10 हजार मास्क औऱ पूर्णिया एसपी के द्वारा भी दो हजार मास्क का आर्डर किया गया है. जल्द ही इन्हें मास्क की आपूर्ति की जायेगी. उन्होंने कहा कि अबतक कैदियों द्वारा सात हजार मास्क बनाया जा चुका है जो दूसरे जेलों में आपूर्ति की गयी है. उन्होंने बताया कि मास्क की क्वालिटी भी अच्छी है.

पूर्णिया जेल में मास्क बनाने के लिेए कैदियों को ऑर्डर मिला है.

मास्क बनाने में जुटे जीविकाकर्मी

वहीं रानीपतरा औऱ अमौर के जीविकाकर्मी दिन रात एक कर मास्क के निर्माण में जुट गये हैं. जीविकाकर्मियों ने कहा कि कोरोना वायरस से निपटने के लिये वेलोग मास्क का निर्माण कर रहे हैं. वे लोग 20 रुपया में बाजारों में अच्छा मास्क उपलब्ध करा रहे हैं. हालांकि मेटेरियल को लेकर उन्हें कुछ समस्या हो रही है.

ये भी पढ़ें

(रिपोर्ट- कुमार प्रवीण)

लॉक डाउन में वक्त बिताने को निकाली अनोखी तरकीब! घर को ही बना डाला इनडोर मिनी स्टेडियम

COVID-19: तुमने खाक़ छानी है हर गली चौबारे की, कुछ दिन की तो बात है अपने घर...

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज