होम /न्यूज /झारखंड /गृह मंत्री अमित शाह 4 फरवरी को भोले बाबा के दरबार देवघर का करेंगे दौरा, जानें क्या है मकसद और कैसी है तैयारी

गृह मंत्री अमित शाह 4 फरवरी को भोले बाबा के दरबार देवघर का करेंगे दौरा, जानें क्या है मकसद और कैसी है तैयारी

केंद्रीय मंत्री अमित शाह चार फरवरी को देवघर पहुंचेंगे. (पीटीआई फाइल फोटो)

केंद्रीय मंत्री अमित शाह चार फरवरी को देवघर पहुंचेंगे. (पीटीआई फाइल फोटो)

Amit Shah Deoghar Visit: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अक्सर कहते हैं कि देश का पूर्वी क्षेत्र का विकास उनकी प्राथमिकताओं म ...अधिक पढ़ें

देवघर. केन्द्रीय गृह और सहकारिता मामलों के मंत्री अमित शाह 4 फरवरी को एक दिन के देवघर दौरे पर होंगे. बाबा की नगरी के नाम से मशहूर बैद्यनाथ धाम में अमित शाह एक उर्वरक के कारखाने की आधारशिला रखेंगे. भारतीय कंपनी इफ्को द्वारा बनाए जा रहे इस कारखाने से न सिर्फ आत्मनिर्भर भारत का सपना साकार होगा, बल्कि पीएम मोदी का एक यूरिया के विकल्प के रूप में दूसरे उर्वरक का विकसित करने का सपना भी पूरा होगा. इफ्को की इस फैक्ट्री में नैनो नाम का उर्वरक बनेगा. इसकी खासियत ही यही है कि अब किसानों को अपनी साइकिल या फिर बैलगाड़ी पर खाद के बोरे ढोने की जरूरत नहीं पड़ेगी, बल्कि वे बाजार से नैनो खाद की बोतल अपने थैले में लेकर अपने गांव वापस जा सकेंगे.

देवघर के सांसद डॉ निशिकांत दूबे के मुताबिक 2024 के चुनावों से पहले इस फैक्ट्री को राष्ट्र को समर्पित करने के लक्ष्य के साथ काम मिशन मोड में किया जाएगा. देवघर की पावन भूमि गोड्डा लोकसभा क्षेत्र का केन्द्र है. देवघर में एयरपोर्ट से लेकर एम्स तक पीएम मोदी सरकार की इस पावन भूमि को देन है. पीएम मोदी ने खुद देवघर जाकर एयरपोर्ट और एम्स का उद्घाटन किया था. वैसे एयरपोर्ट और एम्स को रांची से दूर इस पिछड़े इलाके में ले जाने में भी बीजेपी सांसद निशिकांत दूबे ने खासी भूमिका निभायी है.

पीएम मोदी ने 6 महीने पहले देवघर एयरपोर्ट को देश को समर्पित किया था, लेकिन एयरपोर्ट से बाबाधाम के मंदिर तक 11 किमी लंबा रोड शो भी आदिवासी वाबुल्य संथाल परगने में उनकी लोकप्रियता की कहानी कह रहा था क्योंकि इस पवित्र मंदिर में पहली बार कोई सर्विंग पीएम माथा टेकने पहुंचा था. गोड्डा के देवघर से पिछले तीन बार से बीजेपी सांसद निशिकांत दूबे गृह मंत्री अमित शाह के दौरे को सफल बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे. एयरपोर्ट से लेकर मंदिर तक सड़क के दोनों ओर लोग उनके स्वागत के लिए रहेंगे और साथ ही 11 किमी के सफर में जगह-जगह पर मंच बनाकर अमित शाह का अभिनंदन भी किया जाएगा.

मंदिर में दर्शन के बाद अमित शाह इफ्को की खाद फैक्ट्री की आधारशीला रखेंगे. निशिकांत दूबे का मानना है कि यूरिया के विकल्प के रुप में देवघर में बनायी जाने वाली खाद आत्मनिर्भर भारत का एक उदाहरण बनेगी. फैक्ट्री की आधारशिला रखे जाने के बाद उसी मैदान में एक रैली का आयोजन किया जा रहा है, जहां अमित शाह देवघर और गोड्डा की जनता को सीधा संदेश देंगे. इसके बाद अमित शाह रामकृष्ण मिशन आश्रम के एक कार्यक्रम में भी हिस्सा लेंगे.

बाबा की नगरी होने के बावजूद संथाल परगना का ये इलाका खासा पिछड़ा हुआ था. न तो यहां एयरपोर्ट था और न ही इलाज की व्यवस्था और न ही काम धंधे और रोजगार, लेकिन अब देवघर में विकास की लहर चल चुकी है. सांसद डॉ. निशिकांत दूबे का मानना है कि देवघर न सिर्फ तीर्थ स्थल और पर्यटन की नगरी के रुप में उभरेगा, बल्कि आने वाले स्थानीय लोगों को इलाज और रोजगार के लिए दूसरे राज्यों में भी नहीं जाना पड़ेगा. पहले पीएम मोदी का आना और अब गृह मंत्री अमित शाह का दौरा साबित कर रहा है कि भोले बाबा की नगरी और संथाल परगना के ये पिछड़े इलाके मोदी सरकार के विकास के एजेंडा में भी शीर्ष पर हैं.

Tags: Amit shah, BJP, Narendra modi

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें