Home /News /jharkhand /

'सेना के जरिए देशसेवा एक तपस्या, सैनिक के लिए गौरव की बात'

'सेना के जरिए देशसेवा एक तपस्या, सैनिक के लिए गौरव की बात'

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

गुमला (Gumla) के चैनपुर के रहने वाले जेम्स रोजारी तिग्गा ने लम्बे समय तक परिवार से दुर रहकर आर्मी में रहकर देश की सेवा की है

गुमला. आज आमतौर पर सरकारी सेवा (Government job) में काम करने वाले कर्मी व उनके परिजन की सोच होती है की उनका पुरा सरकारी सेवा का समय परिवार के साथ ही बीते. इन सब के बिपरीत आर्मी में (Defense services) सेवा करने वाले कर्मी का जीवन लम्बे समय तक परिवार से दुर बीतता है. बावजुद इसके उन्हे सरकार से कोई शिकायत नहीं होती है. गुमला (Gumla) के चैनपुर के रहने वाले जेम्स रोजारी तिग्गा ने लम्बे समय तक परिवार से दुर रहकर आर्मी में रहकर देश की सेवा की है.

उसके पश्चात रिटायर होने के बाद आज परिवार के साथ रह रहे है. लेकिन ना तो जेम्स रोजारी तिग्गा में सरकार से कोई शिकवा शिकायत है ना ही उनके परिवार वालो में बल्कि सभी को आर्मी में सेवा करने के मिले अवसर पर गौरव महसुस कर रहे है. कुछ ऐसा ही माहौल देखने को मिल रहा है गुमला जिला के चैनपुर में रहने वाले जेम्स रोजारी तिग्गा के परिवार में, जेम्स रोजारी तिग्गा ने देश की सुरक्षा की सेवा के लिए आर्मी की सर्विस 26 सालो तक की इस दौरान उन्होने देश के बिभिन्न सीमाओ पर सुरक्षा बल के रुप में काम करने का अवसर मिला.

इस दौरान बीच-बीच में वे परिवार के बीच आ पाते थे लेकिन उनका अधिकांश समय परिवार से दुर रहकर ही बीता. पिछले तीन साल से रिटायर होने के बाद से वे परिवार के साथ ही लेकिन उन्हें इस बात का दुख नहीं है कि वे परिवार से दुर रहे बल्कि इस बात का गौरव है की उनकी नौकरी एक आर्मी मैन के रुप में रही. जिसमें रहकर उन्होने देश की सेवा की.

तिग्गा की पत्नी भी मानती है की उनके पति की नौकरी देश सेवा के आर्मी जवान के रुप में होना उनके लिए गौरव का विषय है. आर्मी में रहने वालो को उनके बच्चे भी काफी मिस करते है. लेकिन जेम्स रोजारी तिग्गा की बेटी की माने तो सेना में होने के कारण उसके पिता उससे काफी दूर रहते थे.
उस समय भी उसे गौरव होता था.

अब जब वे रिटायर कर वापस आये है और अपने सर्विस के दौरान की वीरता की कहानी बताते है तो उन्हे गौरव होता है. गौरव इस बात का कि वो ऐसे पिता की बेटी है जिसकी सेवा पर पूरा राष्ट्र गौरव महसुस करता है.

समाज में रहने वाला हर व्यक्ति अपने परिवार के लालन पालन के लिए कोई ना कोई नौकरी करता है. लेकिन निश्चित रुप से् जो लोग आर्मी के रुप में सेवा करते है वो ना केवल उस परिवार के लिए महत्वपुर्ण होते है लेकिन पुरे समाज व देश के लिए महत्वपुर्ण होते है. ऐसे में इन लोगो के परिवार वालो का इन पर गौरव महसुस करना स्वभाविक है.

यह भी पढ़ें:

सीएम हेमंत सोरेन का खरसावां गोलीकांड पीड़ितों के लिए बड़ा ऐलान

बस और ट्रक की भिड़ंत में दो लोगों की गई जान, 12 से ज्यादा घायल

Tags: Indian army, Jharkhand news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर