कभी भी बंद हो सकता है बिरसा मुंडा डीएवी आवासीय स्कूल, दांव पर 150 छात्रों का भविष्य

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

कल्याण विभाग की ओर से डीएवी ग्रुप के सहयोग से रांची के बुंडु में चलाये जा रहे बिरसा मुंडा डीएवी आवासीय स्कूल बंद होने के कगार पर पहुंच गया है. विभाग की ओर से राशि आबंटित नहीं किए जाने के चलते स्कूल कुछ दिनों में बंद हो सकता है.

  • Share this:
कल्याण विभाग की ओर से डीएवी ग्रुप के सहयोग से रांची के बुंडु में चलाये जा रहे बिरसा मुंडा डीएवी आवासीय स्कूल बंद होने के कगार पर पहुंच गया है. विभाग की ओर से राशि आबंटित नहीं किए जाने के चलते स्कूल कुछ दिनों में बंद हो सकता है.

उधार के भरोसे चल रहे स्कूल में इस साल छात्रों को सर्दियों में न तो गर्म कपड़े मिले और न ही कंबल.

कल्याण विभाग की ओर से रांची के बुंडु स्थित बिरसा मुंडा डीएवी आवासीय विद्यालय में फिलहाल 150 छात्र पढ़ रहे हैं, लेकिन कुछ दिनों में ही स्कूल बंद हो सकता है. छात्र पढ़ाई के लिए भटकने को मजबूर हो सकते हैं.



यह नौबत इसलिए आने वाली है, क्योंकि कल्याण विभाग ने अप्रैल महीने से स्कूल संचालन के लिए कोई राशि आबंटित नही की है. स्कूल संचालन के लिए हालांकि लोन के रूप में डीएवी शीर्ष प्रबंधन से 55 लाख और कल्याण विभाग से 36 लाख की राशि मिली है, लेकिन अन्य कोई और राशि नहीं मिलने के कारण स्कूल में सिर्फ चंद दिनों का ही राशन मौजूद है.
उधार के भरोसे अब तक चल रहे स्कूल को दुकानदारों ने और उधार देने से इनकार कर दिया है.

प्रिंसिपल धर्मेन्द्र रावत ने बताया कि स्कूल भवन की हालत भी बेहद जर्जर है. खिड़कियों के कांच टूटे हुए हैं, जिसके कारण ठंड में बच्चों के लिए स्कूल में रह पाना बेहद मुश्किल साबित हो रहा है.

इसके अलावा छात्रों का कहना है कि इस बार उन्हें गर्म कपड़े और कंबल भी नहीं मिले, जिसके कारण ठंड से जीना मुहाल है. प्रिंसिपल ने भी पैसे के अभाव में गर्म कपड़े देने में असमर्थता जताई है.

कल्याण विभाग की ओर से पैसे आवंटित नहीं किए जाने से स्कूल में पढ़ रहे छात्रों के भविष्य अधर में लटकता नजर आ रहा है. पैसे के अभाव में यदि स्कूल प्रबंधन स्कूल बंद कर देता है तो अगले कुछ महीनों में होने वाले बोर्ड परीक्षा एवं अन्य परीक्षा से छात्र वंचित रह जाएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज