अपना शहर चुनें

States

पेट्रोलियम व इस्पात उद्योगों का हब बनेगा बोकारो, जल्द शुरू होगी CNG की सुविधा

केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि बोकारो को स्टील क्लस्टर बनाया जाएगा
केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि बोकारो को स्टील क्लस्टर बनाया जाएगा

केन्दीय मंत्री ने कहा कि आने वाले समय में बोकारो पेट्रोलियम व इस्पात के लिए जाना जाएगा. साथ ही झारखंड के चतरा में भी स्टील प्लांट लगाने को लेकर पहल की जा रही है.

  • Share this:
झारखंड दौरे पर आए केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि बोकारो को स्टील क्लस्टर बनाया जाएगा. साथ ही 2020 तक सेल की इस्पात उत्पादन झमता बढ़ाकर 300 मिलियन टन तक किया जाएगा. ये बातें उन्होंने बोकारो क्लब में मीडिया से बातचीत में कही.

पेट्रोलियम व इस्पात उद्योग का हब बनेगा बोकारो

केन्दीय मंत्री ने कहा कि आने वाले समय में बोकारो पेट्रोलियम व इस्पात के लिए जाना जाएगा. साथ ही झारखंड के चतरा में भी स्टील प्लांट लगाने को लेकर पहल की जा रही है. बोकारो में सीएनजी से चार पहिया वाहन चलेंगे, ताकि प्रदूषण की समस्या को कंट्रोल किया जा सके.



केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि बोकारो में वैल्यू एडेड इस्पात के उत्पादन पर जोर दिया जाएगा. इस दिशा में जोरशोर से काम जारी है. उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में बोकारो और आसपास के लोगों को गैस पाइप लाइन से घरेलू गैस उपलब्ध करायी जाएगी. बोकारो और आसपास के इलाकों में उद्योगों का जाल बिछाया जाएगा.
एलपीजी बॉटलिंग प्लांट का शिलान्यास 

रविवार को केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और मुख्यमंत्री रघुवर दास ने बोकारो में एलपीजी बॉटलिंग प्लांट का शिलान्यास किया. साथ ही पीओएल टर्मिनल का भी शिलान्यास किया. वर्तमान में झारखंड में 506 एलपीजी वितरक हैं. और यहां की एलपीजी की मांग दुर्गापुर और पटना के प्लांट से पूरी होती है. लेकिन बोकारो में बॉटलिंग प्लांट खुलने से यह निर्भरता खत्म हो जाएगी.

बोकारो में पीओएल का टर्मिनल राधा नगर में राज्य सरकार की जमीन पर बनेगा. इसमें 240 करोड़ की लागत आएगी. फिलहाल झारखंड में बीपीसीएल के तीन आपूर्ति डिपो हैं. ये धनबाद, टाटानगर और जमशेदपुर में हैं. चौथा बोकारो के राधा नगर में स्थापित होगा.

रिपोर्ट- ज्ञानेंदू

ये भी पढ़ें- बोकारो में LPG बॉटलिंग प्लांट का शिलान्यास, धर्मेंद्र प्रधान बोले- झारखंड में करेंगे 10 हजार करोड़ का निवेश

इधर बटन दबा.. उधर 13 लाख किसानों के खाते में पहुंचा 442 करोड़, झारखंड में लॉन्च हुई ये बड़ी योजना

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज