लाइव टीवी

बोकारो: भाई-बहन को बंधक बनाने के मामले में क्लिनिक संचालक की पत्नी और बेटा गिरफ्तार

News18 Jharkhand
Updated: August 21, 2018, 9:06 PM IST
बोकारो: भाई-बहन को बंधक बनाने के मामले में क्लिनिक संचालक की पत्नी और बेटा गिरफ्तार
भाई-बहन को बंधक बनाने के मामले में क्लिनिक संचालक की पत्नी और बेटा गिरफ्तार

मामले में आरोपी डॉक्टर डी के गुप्ता अभी भी फरार हैं और पुलिस उनकी तलाश कर रही है.

  • Share this:
बोकारो के सिटी थाना क्षेत्र के को-ऑपरेटिव के प्लाट नंबर 229 के मालिक भाई दीपक कुमार घोष और बहन मंजू श्री घोष को सालों से कैद में रखने के मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए मामले में आरोपी क्लिनिक संचालक मंतोष गुप्ता की पत्नी और बेटे को कॉपरेटिव कॉलोनी से गिरफ्तार कर लिया गया है. वहीं मामले में आरोपी डॉक्टर डी के गुप्ता अभी भी फरार हैं और पुलिस उनकी तलाश कर रही है.

बताते चले कि पुलिस ने 13 अगस्त को घर के बदबूदार कमरे से भाई दीपक कुमार घोष 54 वर्ष और बहन मंजू श्री घोष 51 वर्ष को बंद कमरे से निकाला था. दोनों की मानसिक स्थिति ठीक नहीं थी. जहां भाई का पैर टूटा मिला वहीं बहन की स्थिति भी ठीक नहीं मिली थी.

क्या है पूरा मामला- वर्ष 2001 में दोनों भाई बहन ने डॉ डी के गुप्ता को को-ऑपरेटिव कॉलोनी का प्लाट नंबर 229 को किराए पर दिया था. लेकिन डॉ गुप्ता ने किराए पर लिए घर को अपने नाम पर न लेकर अपने रिश्तेदार मंतोष के नाम पर रखा. मंतोष के नाम से घर के बाहर दवा दुकान संचालित होती रही जबकि चिकित्सक घर के अंदर क्लिनिक और नर्सिंग होम चलाते रहे. डॉक्टर डी के गुप्ता अपने रिश्तेदार मंतोष के साथ मिलकर करोड़ों की प्रोपर्टी को हड़पने की साजिश को लेकर दोनों भाई बहन को वर्षों से घर के अंदर बंद रखा था. अभी डॉक्टर डी के गुप्ता फरार हैं और पुलिस उनकी तलाश को लेकर छापेमारी कर रही है. वहीं मंतोष गुप्ता की दो महीने पहले मौत हो चुकी है.

'रिपोर्ट- ज्ञानेंदू'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बोकारो से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2018, 9:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर