होम /न्यूज /झारखंड /Bokaro: बोकारो में यहां 10 रुपये में मिलता है हर्बल जूस, सेहत के लिए होता है फायदेमंद

Bokaro: बोकारो में यहां 10 रुपये में मिलता है हर्बल जूस, सेहत के लिए होता है फायदेमंद

औषधीय गुणों से भरपूर इस जूस में कद्दू, करेला, गिलोय, बेलपत्र, जामुन के पत्ते, अमरूद के पत्ते, नीम के पत्ते, पीपल के पत् ...अधिक पढ़ें

    रिपोर्ट: कैलाश कुमार

    बोकारो. जूस हमारे शरीर के लिए बेहद फायदेमंद होता है. अपनी सेहत को लेकर सजग रहने वाले लगातार इसका सेवन सकते हैं. आपने जूस के कई स्टॉल भी देखे होंगे. जहां फलों के जूस बेचे जाते हैं. लेकिन इस खबर में आप आयुर्वेद हर्बल जूस से रूबरू होंगे. बोकारो के सेक्टर 5 के हटिया रोड के किनारे स्वपन झा हर्बल जूस का स्टॉल लगाते हैं. जहां मॉर्निंग वॉक पर आने वाले लोग इस जूस को पीना नहीं भूलते. यह खून को साफ करता है. साथ ही शुगर व बीपी की शिकायत में भी फायदेमंद है.

    स्वपन झा ने न्यूज18 लोकल को बताया कि आयुर्वेद हर्बल जूस प्राकृतिक चीजों को इस्तेमाल कर तैयार किया जाता है. जो शरीर के लिए काफी फायदेमंद है. औषधीय गुणों से भरपूर इस जूस में कद्दू, करेला, गिलोय, बेलपत्र, जामुन के पत्ते, अमरूद के पत्ते, नीम के पत्ते, पीपल के पत्ते, चिरेता, व्हीटग्रास, आमला, तुलसी, अदरक, कच्ची हल्दी, अर्जुन की छाल और अश्वगंधा सहित अन्य चीजों का इस्तेमाल होता है. जो शरीर के खून को साफ करता है. इससे ठंड चर्म रोग से निजात मिलता है. साथ ही शुगर व बीपी की शिकायत में भी फायदेमंद है. हड्डियों के दर्द में भी राहत मिलती है.

    डॉक्टर भी करते हैं इस जूस का सेवन

    स्टॉल पर हर्बल जूस पीने पहुंचे बीजीएच के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉक्टर जैनेंद्र वर्मा ने बताया कि वह नियमित रूप से इस जूस का सेवन कर रहे हैं. इससे रक्तचाप और डायबिटीज जैसी समस्या से बचा जा सकता है. साथ ही गठिया में भी फायदेमंद है. वहीं, निरंजना ने बताया कि इस जूस के सेवन से इम्यूनिटी मजूबत होती है. जिससे सर्दियों में सर्दी व जुकाम नहीं होता है.

    कीमत 10 से 20 रुपये प्रति ग्लास

    स्वपन झा ने बताया कि वह रोजाना सुबह 6 बजे से दिन के 11 बजे तक स्टॉल लगाते हैं. जूस में इस्तेमाल होने वाली सामग्री ताजी रहती है. इसकी कीमत 10 रुपये से 20 रुपये तक रखी गई है. छोटा ग्लास 10 रुपये व बड़ा ग्लास 20 रुपये में आता है.

    Tags: Bokaro news, Jharkhand news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें