झारखंडः नम आंखों से राजेंद्र सिंह को विदाई, CM हेमंत बोले- खो दिया अभिभावक

दिवंगत राजेंद्र सिंह को अंतिम विदाई देने बेरमो पहुंचे सीएम हेमंत सोरेन.
दिवंगत राजेंद्र सिंह को अंतिम विदाई देने बेरमो पहुंचे सीएम हेमंत सोरेन.

झारखंड की राजनीति में राजेन्द्र प्रसाद सिंह (Late Rajendra Prasad Singh) कद्दावर नेता माने जाते थे. इसके अलावा वे इंटक के राष्ट्रीय महासचिव भी थे. मजदूर वर्ग के बीच उनकी पहचान जुझारू नेता की थी.

  • Share this:
बोकारो. हजारों नम आंखों ने झारखंड के मजदूर नेता और कांग्रेस के दिग्गज राजेंद्र सिंह (Late Rajendra Prasad Singh) को आखिरी विदाई दी. नेताजी अमर रहे नारों के बीच दामोदर नदी के तट पर दिवंगत राजेंद्र सिंह के बड़े पुत्र जयमंगल सिंह उर्फ अनूप सिंह ने पिता को मुखाग्नि दी. गमगीन माहौल के बीच छोटे पुत्र गौरव समेत घाट पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (CM Hemant Soren) सहित सरकार के कई मंत्री, कांग्रेस नेता, अधिकारी और आम लोग मौजूद रहे. कोरोना वायरस को लेकर लागू लॉकडाउन के बीच लोग सैकड़ों की संख्या में अपने नेता के आखिरी दर्शन को पहुंचे थे. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बेरमो में दिवंगत राजेंद्र सिंह को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि आज उन्होंने पितातुल्य अभिभावक को खो दिया है. सीएम ने कहा कि राजेन्द्र बाबू एक नेता और विधायक नहीं, मेरे लिए अभिभावक तुल्य थे. उनका सरल स्वभाव सभी के लिए एक सामान था.

इससे पहले बेरमो स्थित राजेंद्र सिंह के आवास पर पुलिस के जवानों ने उनके शव को तिरंगे झंडे में लपेटा और शवयात्रा दामोदर नदी घाट की ओर चल पड़ी. सजी-धजी गाड़ी पर शव लेकर सभी लोग अंतिम संस्कार के लिए पहुंचे. इस दौरान राजेंद्र सिंह के परिवार के सभी सदस्य मौजूद रहे. उनकी आठों बेटियां, बेटे और पत्नी समेत अन्य रिश्तेदार भी मौजूद थे. शवयात्रा में मंत्री बादल पत्रलेख, बन्ना गुप्ता, जगरनाथ महतो, प्रदेश अध्यक्ष कांग्रेस सह मंत्री रामेश्वर उरांव, कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष कांग्रेस राजेश ठाकुर समेत बड़ी संख्या में नेता व कार्यकर्ताओं के साथ जिले के पुलिस-प्रशासनिक अधिकारी भी शामिल हुए. दामोदर नदी घाट पर पूरे राजकीय सम्मान के साथ लोगों ने अपने नेता को विदाई दी.

झारखंडः नम आंखों से राजेंद्र सिंह को विदाई, CM हेमंत बोले- खो दिया अभिभावक | last-rites-of-congress-leader-rajendra-singh-cm-hemant-soren-pays-tribute
बेरमो में दामोदर नदी के घाट पर राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार.




सोमवार शाम दिल्ली से पहुंचा शव
बेरमो के विधायक व मजदूर नेता राजेन्द्र प्रसाद सिंह का शव सोमवार की देर शाम दिल्ली से सड़क मार्ग से बोकारो जिले के बेरमो के ढो़री स्थित आवास पर लाया गया. जहां शव को अंतिम दर्शन के लिए रखा गया. सोमवार रात से मंगलवार तक लोग अंतिम दर्शन को आते रहे. हालांकि COVID-19 की वजह से सबको सोशल डिस्टिंसग का नियम पालन करने को भी कहा जा रहा था.

झारखंड के कद्दावर नेता रहे

झारखंड की राजनीति में राजेन्द्र प्रसाद सिंह कद्दावर नेता माने जाते थे. पिछली बार के हेमंत सोरेन सरकार में वे स्वास्थ्य और ऊर्जा मंत्री रहे. पिछले साल विधानसभा चुनाव में उन्होंने कांग्रेस के टिकट पर बेरमो से जीत हासिल की और छठी बार विधायक चुने गए. इसके अलावा राजेन्द्र प्रसाद सिंह इंटक के राष्ट्रीय महासचिव भी थे. मजदूर वर्ग के बीच उनकी पहचान जुझारू नेता की थी.

ये भी पढ़ें-

पूर्व मंत्री के निधन की खबर सुनकर छोटी बहन को ऐसा सदमा लगा कि थम गईं सांसें

सावधान! झारखंड के इन 4 जिलों में चल सकती Heat Wave, येलो अलर्ट जारी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज