बोकारो में बरामद यूरेनियम की NIA कर सकती है जांच, पैकेट पर Made in USA दर्ज

पुलिस को इस मामले में दो अन्य तस्करों की तलाश है.

पुलिस को इस मामले में दो अन्य तस्करों की तलाश है.

Bokaro News: बरामद यूरेनियम (Uranium) के पैकेट्स पर मेड इन यूएसए लिखा हुआ है. 4 फरवरी, 2019 को निर्मित और 3 जुलाई, 2025 को एक्सपायर की सूचना दर्ज है.

  • Share this:

रिपोर्ट- मृत्युंजय कुमार

बोकारो. एसपी चंदन कुमार को मिली गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस ने गुरुवार को प्रतिबंधित यूरेनियम (Uranium) की तस्करी करने वाले सात तस्करों (Smugglers) को गिरफ्तार किया. गिरफ्तार तस्करों की निशानदेही पर बालीडीह व जरीडीह में छापेमारी कर पुलिस ने 6.4 किलोग्राम रेडियो एक्टिव यूरेनियम बरामद किया. इस मामले में संभावना जताई जा रही है कि जल्द ही एनआईए (NIA) पूरे मामले की जांच शुरू करेगी. इस मामले में पुलिस को झारखंड के गिरिडीह जिले के निमियाघाट निवासी मुन्ना उर्फ इशांक और पश्चिम बंगाल के पुरुलिया के जयपुर सिद्धी निवासी दिनेश महतो की तलाश है. मुन्ना उर्फ इशांक को तस्करी का लोकल एंजेंट बताया जा रहा है. उसी ने यूरेनियम गिरफ्तार तस्करों को बेचने के लिए दिया था.

हालांकि यह यूरेनियम कहां से लाया गया और किसे बेचा जाना था, इसकी कोई सूचना फिलहाल पुलिस नहीं दे पा रही है. बता दें कि यूरेनियम का इस्तेमाल परमाणु रिएक्टर, परमाणु बिजली और शक्तिशाली विस्फोटक बनाने में किया जाता है. पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार तस्कर किसी न किसी मामले में पूर्व में जेल की हवा खा चुके हैं.

केंद्रीय जांच एजेंसी की सूचना पर कार्रवाई
जानकारी के मुताबिक सेंट्रल एजेंसी की सूचना पर एसपी चंदन कुमार झा ने चार पुलिस टीम गठित की. इन टीमों ने छापेमारी कर आरोपियों को गिरफ्तार करने के साथ बालीडीह से प्लास्टिक पैक में रखे 4 किलो 600 ग्राम व जैनामोड़ से 900 ग्राम के दो लेदर पैक में रखे कुल 6 किलो 400 ग्राम यूरेनियम बरामद किया. इस मामले में हरला पुलिस ने 24 (1)(a) परमाणु ऊर्जा अधिनियम-1962 के तहत कुल 9 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है.

गिरफ्तार तस्करों में हरला रानीपोखर पुराना टांड़ निवासी दीपक महतो, चीरा चास वास्तु विहार फेज 2 निवासी कृष्णकांत राणा, चौफांन वस्ती हरला निवासी पंकज कुमार, चिताही हरला निवासी महावीर महतो, राजेन्द्र नगर बालीडीह निवासी हरेराम शर्मा, चास मेन रोड निवासी बापी चंद्रा, जैनामोड़ जरीडीह निवासी विनोद सिंह शामिल हैं. बरामद यूरेनियम के पैकेट पर मेड इन यूएसए लिखा हुआ है. 4 फरवरी 2019 को निर्मित और 2025 के 3 जुलाई को है एक्सपायर की भी सूचना दर्ज है.

पूरे मामले में हरला थानाइंचार्ज जय गोविंद प्रसाद गुप्ता ने बताया कि छापेमारी के लिए जब पुलिस की टीम पुरनाटाड़ रानीपोखर निवासी दीपक कुमार महतो के घर पहुंची, तो पुलिस को देखकर दीपक के साथ मौजूद लोग भागने लगे. इन्हें पुलिस ने खदेड़कर पकड़ा. दीपक के साथ यहां कुल पांच युवकों की गिरफ्तार किया गया. पूछताछ के दौरान इन सभी ने बताया कि उन्हें चास निवासी बापी ने यूरेनियम का ग्राहक खोजने के लिए कहा था. पुलिस इन सभी के साथ ग्राहक बनकर बापी को खोजने के लिए चास गई. बापी बाइक पर आया और उसने अपने पास से यूरेनियम का एक पैकेट निकाला. जिसके बाद पुलिस ने उसे भी दबोच लिया. बाद में उसकी निशानदेही पर अनिल नामक युवक को भी गिरफ्तार किया.



गिरफ्तार अनिल ने पुलिस को बताया कि उसे गिरिडीह के निमियाघाट निवासी मुन्ना उर्फ इशांक ने यूरेनियम बेचने को दिया था. इसके अलावा पश्चिम बंगाल पुरुलिया के जयपुर सिद्धी निवासी दिनेश महतो को भी वह यूरेनियम बेचने को दिया है. पुलिस अब इनदोनों को दबोचने के लिए छापेमारी कर रही है.

थाने में कार्बन में लपेटकर रखा गया यूरेनियम

पुलिस ने बताया कि बरामद यूरेनियम को कोर्ट में पेश करने के बाद फिलहाल हरला थाने में ही कार्बन में लपेटकर रखा जाएगा. इस मामले में जानकारों की भी राय ली जा रही है.बाद में इसे सुरक्षित जगह पर शिफ्ट कर दिया जाएगा.

गिरफ्तार बापी दत्ता ने बताया कि धोखे से उसे गिरिडीह के मुन्ना ने यूरेनियम बेचकर अपने पैसे निकालने की बात कही थी. बापी ने बताया कि उसे मुन्ना ने पहले 30 हजार में हीरा कहकर शीशे का टुकड़ा थमा दिया था. उसी पैसे की वापसी के बदले उसने यूरेनियम का पैकेट उसे दिया. और कहा कि 12 लाख में इसे बेचकर अपना 30 ले लो.

फिलहाल इस मामले में हर पहलु से जांच कर रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज