स्टेशन पर गर्भवती महिला को दर्द शुरू हुआ, तो ट्रेन बोगी को लेबर रूम बनाकर कराया प्रसव
Bokaro News in Hindi

स्टेशन पर गर्भवती महिला को दर्द शुरू हुआ, तो ट्रेन बोगी को लेबर रूम बनाकर कराया प्रसव
बोकारो स्टेशन पर गर्भवती महिला का सुरक्षित प्रसव कराया गया

Bokaro Station: प्रसव से पहले ट्रेन की एक बोगी को तत्काल खाली कराया गया, फिर उसकी सारी खिड़कियों में पर्दे लगाकर उसे लेबर रूम की तरह तैयार किया गया.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
बोकारो. प्रवासी मजदूरों (Migrant Laborers) को लेकर केरल के एर्नाकुलम से चली ट्रेन सोमवार को बोकारो पहुंची. इस ट्रेन से विभिन्न जिलों के 1047 मजदूर प्रदेश लौटे. इनमें बोकारो जिले के 27 श्रमिक शामिल हैं. सभी श्रमिकों का थर्मल स्क्रीनिंग कर उन्हें बसों से गृह जिले भेजा गया. इसी दौरान ट्रेन से उतरी सिमडेगा की गर्भवती महिला (Pregnant Lady) को बोकारो स्टेशन (Bokaro Station) पर लेबर पेन शुरू हो गया. यह देखते हुए स्टेशन प्रबंधन ने तत्काल मेडिकल टीम को तैयार कराया और ट्रेन की एक बोगी में महिला का सुरक्षित प्रसव कराया गया.

प्रसव से पहले एक बोगी को तत्काल खाली कराया गया, फिर बोगी की सारी खिड़कियों में पर्दे लगाकर उसे तैयार किया गया. डॉक्टर और अन्य चिकित्साकर्मी पीपीपी किट पहनकर महिला का नॉर्मल डिलिवरी कराया. बाद में जच्चा और बच्चा को सदर अस्पताल भेजा गया. चास के एसडीओ शशिरंजन सिंह ने कहा कि बोकारो स्टेशन प्रबंधन ने सराहनीय काम किया है. बोगी में महिला का सुरक्षित प्रसव कराया गया है. महिला और नवजात दोनों स्वस्थ हैं. फिलहाल दोनों को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है. कुछ दिन बाद डॉक्टरों की सलाह पर उन्हें वहां से सिमडेगा अपने घर भेज दिया जाएगा.

मजदूरों को एयर लिफ्ट कराने वाला एकलौता राज्य है झारखंड 
बता दें कि झारखंड देश का पहला ऐसा राज्य है, जो लॉकडाउन में दुर्गम स्थानों पर फंसे अपने मजदूरों को एयर लिफ्ट कराकर प्रदेश ला रहा है. राज्य सरकार ने अपने खर्च पर पहले लेह से 60 मजदूर और फिर अंडमान से 180 मजदूरों को एयर लिफ्ट कराकर प्रदेश वापस लाया है. अभी भी सैकड़ों झारखंडी मजदूर अंडमान और उत्तर-पूर्वी राज्यों के दुरूह इलाकों में फंसे हुए है. इन मजदूरों की भी एयर लिफ्टिंग की तैयारी में सरकार जुटी हुई है. सबसे पहले नेशनल लॉ स्कूल बेंगलुरु के छात्रों ने 11 लाख रुपये चंदा कर मुंबई से 174 झारखंड मजदूरों को रांची भेजा.



बस-ट्रेन से 4 लाख से ज्यादा मजदूरों की वापसी 


हवाई जहाज के अलावा झारखंड सरकार केंद्र सरकार के सहयोग से ट्रेन और बसों के जरिए भी प्रवासी मजदूरों को प्रदेश वापस ला रही है. इन माध्यम से अबतक 4 लाख से ज्यादा प्रवासी मजूदर प्रदेश लौट चुके हैं. इनमें से 193 ट्रेन से 2 लाख 57 हजार 411 और बसों से 1.08 लाख मजदूर वापस आए हैं.

इनपुट- ज्ञानेंदू

ये भी पढ़ें- मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मजदूरों को एयर लिफ्ट कराने में कॉरपोरेट घरानों से मांगी मदद
First published: June 2, 2020, 9:20 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading