लाइव टीवी

13 दिन बाद दक्षिण अफ्रीका से शव पहुंचा, लेकिन परिजनों ने लेने से किया इनकार
Bokaro News in Hindi

News18 Jharkhand
Updated: February 26, 2020, 1:16 PM IST
13 दिन बाद दक्षिण अफ्रीका से शव पहुंचा, लेकिन परिजनों ने लेने से किया इनकार
परिवारवालों का कहना है कि जबतक उन्हें मुआवजा नहीं दिया जाता, तबतक वे शव को नहीं लेंगे

मृतक सुरेन्द्र महतो गोमिया के बड़की सिधामारा गांव के रहने वाले थे. वह दक्षिण अप्रीका के मुरुतानिया में कल्पतरु पावर कंपनी में काम कर रहे थे. बीते 12 फरवरी को वह काम करने के दौरान करंट की चपेट में आ गये. इससे उनकी मौत हो गई.

  • Share this:
बोकारो. परिवार का पेट पालने बोकारो के गोमिया से दक्षिण अफ्रीका (South Africa)  गये सुरेन्द्र महतो की करंट लगने से मौत हो गई. 13 दिन जब उनका शव (Dead body) मंगलवार को रांची पहुंचा, तो परिजनों ने लेने से इनकार कर दिया. परिजनों का आरोप है कि कंपनी ने वादा के मुताबिक 10 लाख रुपया बतौर मुआवजा (compensation) नहीं दिया. महज 55 हजार रुपये देकर कंपनी पल्ला झाड़ना चाहती थी. बाद में रांची एयरपोर्ट (Ranchi Airport) से शव को दिल्ली वापस ले जाया गया.

12 फरवरी को हुई थी मौत

मृतक सुरेन्द्र महतो गोमिया के बड़की सिधामारा गांव के रहने वाले थे. वह दक्षिण अप्रीका के मुरुतानिया में कल्पतरु पावर कंपनी में काम कर रहे थे. बीते 12 फरवरी को वह काम करने के दौरान करंट की चपेट में आ गये. इससे उनकी मौत हो गई.

मृतक की सास ने बताया कि कंपनी की ओर से मृतक की पत्नी को 10 लाख रुपया मुआवजा देने का भरोसा दिलाया गया था. लेकिन उसके खाते में मात्र 55 हजार रुपये भेजकर कंपनी पल्ला झाड़ना चाहती है.



मुआवजे की मांग 

परिजनों का कहना है कि जब तक मुआवजे की रकम यानी दस लाख उन्हें नहीं दिया जाएगा. वे शव को नहीं लेंगे. बीते गुरुवार को मृतक के दादा की भी मौत हो गयी. मृतक के तीन बच्चे हैं, रीता कुमारी 10 वर्ष, गीता कुमारी 10 वर्ष और बादल कुमार तीन वर्ष. परिवार के सदस्यों को कहना है कि आगे मृतक की पत्नी और बच्चों का जीवन कैसे चलेगा.

इनपुट- ज्ञानेंदू

ये भी पढ़ें- पश्चिमी सिंहभूम: सौ एकड़ वनभूमि के लिए इन दो गांवों में सालों से खूनी संघर्ष जारी

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बोकारो से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 26, 2020, 1:16 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर