गरीब बच्चों के लिए मसीहा है ये शिक्षक, पढ़ाई न रूके इसलिए उठाया अनोखा कदम

एंड्रायड फोन नहीं होने के बावजूद इन गरीब बच्चों की पढ़ाई नहीं रूकी है.

Bokaro News: शिक्षक भीम महतो द्वारा मंदिर में लगे लाउडस्पीकर के द्वारा पोस्टर में छपे वर्णमाला के शब्दों को बोला जाता है, जिसके पश्चात बच्चे उसे सुनकर पढ़ते और लिखते हैं.

  • Share this:
    रिपोर्ट- मृत्युंजय कुमार

    बोकारो. कोरोना संक्रमण (Corona) में जहां शिक्षा व्यवस्था बुरी तरह से प्रभावित हुई है. ऐसे में एक सरकारी शिक्षक गांव में लाउडस्पीकर के सहारे बच्चों को शिक्षा देने का काम कर रहे हैं. बोकारो जिले के चंद्रपुरा प्रखंड के पपलो पंचायत अंतर्गत जुनौरी गांव में शिक्षक भीम महतो द्वारा कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए अनोखे तरीके से शिक्षा देने का काम किया जा रहा है. जुनौरी गांव स्थित शिव मंदिर में लगे लाउडस्पीकर द्वारा बच्चों को पढ़ाने का काम कर रहे हैं शिक्षक भीम महतो. उन्होंने गांव के चौक-चौराहों पर हिंदी वर्णमाला एवं अंग्रेजी वर्णमाला का पोस्टर दीवारों में चिपकाया है, ताकि बच्चे इसे देख कर पढ़ सकें.

    शिक्षक भीम महतो द्वारा मंदिर में लगे लाउडस्पीकर के द्वारा पोस्टर में छपे वर्णमाला के शब्दों को बोला जाता है, जिसके पश्चात बच्चे उसे सुनकर पढ़ते और लिखते हैं. इस प्रयास का जुनौरी गांव के सभी ग्रामीणों ने सरहाना की है. दरअसल गरीब बच्चों के पास एंड्राइड फोन नहीं होने के कारण वे ऑनलाइन पढ़ाई से वंचित रह रहे थे. इसको देखते हुए शिक्षक भीम महतो ने गांव के बच्चों की पढ़ाई बाधित न हो, इसलिए गांव के चौक चौराहों में वर्णमाला का पोस्टर दीवारों में लगवाकर बच्चों को पढ़ाना शुरू किया. फ्री में पढ़ाने के साथ- साथ भीम महतो अपने निजी मद से कॉपी, पेन, मास्क, सैनिटाइजर, विस्कूट भी बच्चों को देने का भी कार्य कर रहे हैं.

    गांव के गरीब बच्चों को पढ़ाते शिक्षक भीम महतो
    गांव के गरीब बच्चों को पढ़ाते शिक्षक भीम महतो


    उन्होंने घटियारी पंचायत के मंगलडाडी गांव में बसे मल्हार परिवार के बच्चों को सबसे पहले पढ़ाना शुरू किया. इन बच्चों को किताब, कॉपी, पेन, पेंसिल, पोशाक, मास्क, सैनिटाइजर, विस्कुट, भोजन एवं अभिभावकों के लिए साड़ी, शॉल, समेत कई सामान दिया. जुनौरी गांव के निवासी गोपाल गिरी ने शिक्षक भीम महतो के प्रयास की सराहना करते हुए कहा कि इस तरह की पहल किसी शिक्षक ने नहीं की. कोरोना के संकट में भी गांव के बच्चे आज पढ़ रहे हैं.

    चंद्रिका गिरी ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान सभी बच्चे पढ़ाई से दूर होते जा रहे थे, लेकिन भीम महतो ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए मंदिर परिसर में लगे लाउडस्पीकर के माध्यम से बच्चों को पढ़ाना शुरू किया है. यह बहुत ही सराहनीय कार्य है.

    शिक्षक भीम महतो ने कहा कि समाज के हित के लिए मैं हमेशा तत्पर रहता हूं. कोरोना काल में बच्चों की पढ़ाई बाधित हो रही थी. इसको देखते हुए गरीब बच्चों को पढ़ाने का कार्य कर रहे हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.