बोकारो: युवक ने इंजीनियरिंग में करियर के बदले बत्तख पालन को चुना, लोगों के लिए बना प्रेरणा

राजकिशोर महतो आज गांववालों के लिए प्रेरणा का श्रोत है.

Bokaro News: इंजीनियरिंग करने के बाद राजकिशोर इसलिए नौकरी नहीं की, क्योंकि नौकरी वो अकेले करते, लेकिन आज बत्तख पालन में अन्य तीन भाइयों को भी रोजगार मिल गया है.

  • Share this:
    रिपोर्ट- मृत्युंजय कुमार

    बोकारो. झारखंड के बोकारो का एक युवा स्वरोजगार की दिशा में प्रेरणा का श्रोत बन गया है. युवक ने एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस में इंजीनियरिंग की. लेकिन नौकरी नहीं की, बल्कि बत्तख पालन (Duck Farming) का अपना रोजगार शुरू किया. अब वह गांव के दूसरे युवाओं को नौकरी की तलाश नहीं, बल्कि खुद का रोजगार खड़ा करने के लिए प्रेरित कर रहा है.

    बोकारो के चास प्रखंड के सोनाबाद गांव के रहने वाले राजकिशोर महतो इंजीनियरिंग करने के बाद उधर करियर बनाने से अच्छा स्वरोजगार पर बल दिया. राजकिशोर बहादुरपुर में बत्तख पालन कर रहे हैं.

    राजकिशोर महतो कहना है कि भारत में स्वालम्बन जरूरी है. वह इसलिए की पेट की भूख शांत करना जरूरी है. इंजीनियरिंग करने के बाद उन्होंने नौकरी इसलिए नहीं की, क्योंकि वह चार भाई हैं. नौकरी अकेले करते, लेकिन जब उन्होंने जीने का तरीका बदला तो सभी भाई मिलकर रजामंदी से एक साथ काम करते हैं.

    राजकिशोर ने बताया कि वे लोग बत्तख पालन के धंधे में नया हैं. इसलिए समुचित देखभाल नहीं हो पाता है, लिहाजा बत्तख मर रहे हैं. उन्होंने कहा कि यदि सरकार प्रशिक्षण की व्यवस्था करती, तो हम बेहतर फार्मिंग कर पाते.

    मेहनत के बल पर आज यह परिवार दो जून की रोटी का मोहताज नहीं है. राजकिशोर अब पूरे इलाके में स्वरोजगार को बढ़ावा दे रहे हैं. युवाओं के लिए प्रेणास्रोत बने राजकिशोर कहते हैं कि सरकार यदि आर्थिक सहायता प्रदान करती तो सपनों के पंख लग जाते. इससे बेरोजगार युवाओं को काफी लाभ मिलेगा. युवा आत्मनिर्भर भी बन सकेंगे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.