कभी उग्रवादियों की शरणस्थली रहा चतरा अब बना अफीम तस्करों का अड्डा

News18 Jharkhand
Updated: March 14, 2019, 1:25 PM IST
कभी उग्रवादियों की शरणस्थली रहा चतरा अब बना अफीम तस्करों का अड्डा
चतरा में हो रही अफीम की खेती

एक अनुमान के मुताबिक इस साल चतरा में हजारों एकड़ में अफीम की खेती की गई है. पुलिस के लिए सबसे बड़ी चुनौती खेती के बाद अफीम की तस्करी पर रोक लगाने की है. राज्य सरकार ने कोई ठोस उपाय नहीं किया गया, तो चतरा जिला अफीम के लिए अफगान बनने की राह पर है.

  • Share this:
झारखंड प्रदेश का चतरा एक ऐसा जिला है, जो तस्करों के लिए पनाहगाह रहा है. कभी उग्रवादियों की शरणस्थली रहा चतरा कभी कत्था तस्करी के लिए कुख्यात था, तो कभी कोयले की तस्करी के लिए. पिछले कुछ साल से मादक पदार्थों की खेती और तस्करी के लिए चतरा एक बार फिर चर्चा में हैं. नक्सलियों की आड़ में अंतरराज्यीय अफीफ व्यावसायियों ने चतरा को अफीम की खेती और तस्करी का अड्डा बना लिया है. हालांकि पुलिस के सख्त रवैये के कारण कुछ हद तक अफीम तस्करों पर काबू पाया गया है.

एक अनुमान के मुताबिक इस साल चतरा में हजारों एकड़ में अफीम की खेती की गई है. पुलिस के लिए सबसे बड़ी चुनौती खेती के बाद अफीम की तस्करी पर रोक लगाने की है. राज्य सरकार ने कोई ठोस उपाय नहीं किया गया, तो चतरा जिला अफीम के लिए अफगान बनने की राह पर है. चतरा जिले में कई ऐसे क्षेत्र है, जहां भौगोलिग रूप से पहुंचना मुश्किल होता है. नदियों के किनारे ही अफीम की खेती की जाती है.

अफीम तस्करों ने अफीम की खेती के लिए वन विभाग की जमीन को सबसे सुरक्षित मानते हैं. हालांकि वन विभाग की दक्षिणी वन प्रमंडल क्षेत्र में अब तक 25 एकड़ में लगी अफीम की फसल को नष्ट किया गया है. दक्षिणी वन प्रमंडल अधिकारी काली किंकर का कहना है कि इस वर्ष वन विभाग ने अफीम की खेती को नष्ट करने का सफलता पूर्वक अभियान चलाया है. पिछले साल की तुलना में वन विभाग में कर्मियों की संख्या अधिक है, जिसके कारण से वन भूमि में अफीम की खेती करने पर अंकुश लगा है.

यह भी पढ़ें- VIDEO: प्रशासन ने 5 एकड़ अफीम की खेती को किया नष्ट

दूसरी तरफ चतरा पुलिस ने अफीम की खेती और अफीम की तस्करी पर रोक लगाने के लिए सार्थक प्रयास किया है. चतरा पुलिस ने पहली बार अफीम की खेती करने वाले एवं इस कारोबार से जुड़े लोगों को चिन्हित कर उसे पुलिस की गुंडापंजी को भी शामिल किया गया है. पूरे जिले में सबसे ज्यादा अफीम की खेती को नष्ट किया गया है और अब अफीम तस्करी पर नकेल कसने की अभियान चल रहा है.

(चतरा से संतोष की रिपोर्ट)

यह भी पढ़ें-  अफीम की खेती के लिए मुफीद जगह बना झारखंड! इन देशों में जाती है खेप
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चतरा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 14, 2019, 1:25 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...