चतरा: माओवादियों ने दो वनरक्षी और कई मजदूरों को बनाया बंधक

कोराम्बे जंग से माओवादियों ने दो वनरक्षी सहित कई मजदूरों को बंधक बनाए रखा. माओवादियों ने वन कर्मियों से मोटरसाइकिल और मोबाइल भी छीन लिया और क्षेत्र में नहीं घुसने की हिदायत देकर देर रात छोड़ दिया.

News18 Jharkhand
Updated: December 8, 2018, 3:17 PM IST
चतरा: माओवादियों ने दो वनरक्षी और कई मजदूरों को बनाया बंधक
चतरा: माओवादियों ने दो वनरक्षी और कई मजदूरों को बनाया बंधक
News18 Jharkhand
Updated: December 8, 2018, 3:17 PM IST
झारखंड के चतरा जिले के पत्थलगड्डा थाना क्षेत्र के कोराम्बे जंगल से माओवादियों ने दो वनरक्षी सहित कई मजदूरों को बंधक बनाए रखा. हालांकि घंटों तक बंधक बनाए रखने के बाद उन्हें छोड़ दिया गया है. बताया जा रहा कि कि पीरी वन क्षेत्र के दो वनरक्षी शत्रुघ्न कुमार चौबे और मुकेश कुमार सिंह सहित अन्य लोगों को बंधक बनाया गया था. दिन-भर रखने के बाद उन्हें देर रात जंगल में छोड़ दिया गया. माओवादियों की इस कार्रवाई से लोगों में दहशत बना हुआ है.

माओवादियों ने वन कर्मियों से मोटरसाइकिल और मोबाइल भी छीन लिया और क्षेत्र में नहीं घुसने की हिदायत देकर देर रात छोड़ दिया. इस मामले को लेकर पत्थलगडा थाना को सूचना दी गई है. माओवादियों ने दो वनरक्षी, एक अमीन, वन सुरक्षा समिति के सदस्य समेत आठ को दिनभर अगवा कर कोरांबे में पहाड़ी की तलहटी में बंधक बना कर  रखा था.

बता दें कि कोराम्बे जंगल में बांस बखार की सफाई एवं संवर्धन योजना को शुरू करने के लिए ले आउट करने के लिए वन विभाग की टीम कोराम्बे पहुंची थी, जिसमें पीरी प्रक्षेत्र के वन रक्षी शत्रुघ्न कुमार चौबे और मुकेश सिंह अमीन दशरथ महतो भी मौजूद थे. वे गांव के किनारे कोराम्बे पहाड़ी के समीप योजना का लेआउट कर रहे थे, जहां उनके साथ ग्राम वन प्रबंधन समिति के सदस्य व मजदूर भी शामिल थे, इसी दौरान हथियारों से लैस 30 से 35 माओवादी वहां आ पहुंच गए और सभी को अपने कब्जे में ले लिया. फिलहाल रात में सभी को छोड़ दिया गया है.

( चतरा से संतोष की रिपोर्ट )

यह भी पढ़ें-  चतरा में नक्सलियों ने मचाया उत्पात, पुल निर्माण कर रहे मजदूरों को पीटा

यह भी पढ़ें-  दो साल पहले किया था बैंक मैनेजर का अपहरण, अब पुलिस की गिरफ्त में आया पूर्व नक्सली
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर