Assembly Banner 2021

अफीम की खेती पर नकेल कसने की पुलिस की नई तरकीब

थाने में क्षेत्र के पंचायत प्रतिनिधियों के साथ बैठक करती पुलिस

थाने में क्षेत्र के पंचायत प्रतिनिधियों के साथ बैठक करती पुलिस

पुलिसिया अभियान के तहत गांव के लोगों को जागरुक करने के साथ-साथ सभी क्षेत्रों के पंचायत प्रतिनिधियों को भी जिम्मेदारियां तय की गई हैं. माना जा रहा है कि चतरा जिला में अफीम की खेती करने वालों की अब खैर नहीं.

  • Share this:
अफीम की खेती पर नकेल कसने के लिए पुलिस ने नई तरकीब शुरु की है. पुलिसिया अभियान के तहत गांव के लोगों को जागरूक करने के साथ-साथ सभी क्षेत्रों के पंचायत प्रतिनिधियों को भी जिम्मेदारियां तय की गई हैं. माना जा रहा है कि चतरा जिला में अफीम की खेती करने वालों की अब खैर नहीं. विदित हो कि इस क्षेत्र में बड़े क्षेत्रफल में किसान अफीम की खेती करते हैं.

इन किसानों के एक-एक खेत को तलाशना पुलिस और नारकोटिक्स विभाग के लिए बड़ी चुनौती होती है. कुछ इलाकों में कुछ माफिया छोटे किसानों से अफीम की फसल कराते हैं और फिर उनसे खरीद कर ऊंचे दामों में बेचते हैं.  चतरा जिला के वशिष्ठनगर जोरी थाना परिसर में पुलिस के आला अधिकारियों ने बुधवार को पंचायत प्रतिनिधियों के साथ-साथ आम लोगों के साथ भी बैठक की. बैठक का मुख्य एजेंडा था 'अफीम की खेती पर पूरी तरह से नियंत्रण करना'.

इसके लिए बाजाब्ता सभी पंचायतों के मुखिया के साथ-साथ वार्ड सदस्य और गांव के सभी बुद्धिजीवियों को भी अफीम की खेती पर रोक लगाने में मदद करने को कहा गया. इस मौके पर चतरा के एसडीपीओ वरुण देवगम ने कहा है कि सभी सुदूरवर्ती क्षेत्रों में भी अफीम की खेती पर रोक लगाने के लिए अभियान चलाया जा रहा है और गांव के लोगों को भी जागरुक किया जा रहा है।



यह भी पढ़ें - खूंटी पुलिस ने एक किलो 700 ग्राम अफीम के साथ तस्कर को किया गिरफ्तार
यह भी पढ़ें - बालूमथ में पुलिस ने बरामद किया एक ट्रक अफीम डोडा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज