Home /News /jharkhand /

ट्वीट कर बुरे फंसे भाजपा सांसद निशिकांत दुबे, 4 थानों में दर्ज हो गई 5 FIR, जानें पूरा मामला

ट्वीट कर बुरे फंसे भाजपा सांसद निशिकांत दुबे, 4 थानों में दर्ज हो गई 5 FIR, जानें पूरा मामला

भाजपा सांसद निशिकांत दुबे पर देवघर के चार थानों में पांच प्राथमिकी दर्ज करवाई गई है.

भाजपा सांसद निशिकांत दुबे पर देवघर के चार थानों में पांच प्राथमिकी दर्ज करवाई गई है.

Deoghar News: सभी प्राथमिकी माधुपुर विधानसभा उपचुनाव के दौरान सांसद निशिकांत दुबे द्वारा ट्विटर पर ट्वीट करने से संबंधित है. नगर थाना में दर्ज मामले में कहा गया है कि मधुपुर विधानसभा चुनाव उप निर्वाचन-2021 के अवसर पर गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे द्वारा 11 अप्रैल 2021 को ट्विटर पर अंकित किए गए पोस्ट संबंधी विधिक कार्रवाई हेतु आवेदन दिया गया है. इस मामले में नगर थाना में प्राथमिकी दर्ज करने के बाद छानबीन शुरू कर दी गई है. जबकि देवीपुर, मधुपुर व चितरा थाना में दर्ज अन्य चार मामलों में भी प्राथमिकी दर्ज करने के बाद छानबीन शुरू कर दी गई है.

अधिक पढ़ें ...

    देवघर. भारतीय जनता पार्टी के गोड्डा से सांसद निशिकांत दुबे (BJP MP Nishikant Dubey ) अपने एक ट्वीट को लेकर पहले विवादों में आए और अब उनपर कानून का शिकंजा कसता हुआ नजर आ रहा है. दरअसल सांसद के विरुद्ध एक ही दिन में अलग-अलग चार थानों में कुल 5 एफआईआर दर्ज कराई गई है. इनमें नगर थाना, मधुपुर थाना, चितरा थाना में एक-एक प्राथमिकी दर्ज करवाई गई है जबकि देवीपुर थाना में दो प्राथमिकी दर्ज करायी गई है. सभी प्राथमिकी में मधुपुर विधानसभा उपचुनाव में कानूनों का उल्लंघन और नियम विरुद्ध क्रियाकलापों का आरोप लगाया गया है.

    भाजपा सांसद पर नगर थाने में जिला जनसंपर्क पदाधिकारी रवि कुमार, मधुपुर थाने में बीडीओ राजीव कुमार सिंह, देवीपुर थाने में बीडीओ अभय कुमार और चितरा थाने में बीडीओ पल्लवी सिन्हा के आवेदन पर मामला दर्ज किया गया है. सोमवार को देवघर के विभिन्न थाना में उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री के निर्देश पर मधुपुर विधानसभा उपचुनाव के दौरान गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे के द्वारा ट्विटर पर विभिन्न तरह के ट्वीट करने को लेकर ये मामले दर्ज किए गए हैं.

    सभी प्राथमिकी माधुपुर विधानसभा उपचुनाव के दौरान सांसद निशिकांत दुबे द्वारा ट्विटर पर ट्वीट करने से संबंधित है. नगर थाना में दर्ज मामले में कहा गया है कि मधुपुर विधानसभा चुनाव उप निर्वाचन-2021 के अवसर पर गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे द्वारा 11 अप्रैल 2021 को ट्विटर पर अंकित किए गए पोस्ट संबंधी विधिक कार्रवाई हेतु आवेदन दिया गया है.

    मधुपुर व चितरा थाने में एफआइआर के लिए दिये गये आवेदनों में आरोप लगाया गया है कि मधुपुर उपचुनाव के दौरान 15 अप्रैल को उन्होंने अपने ट्विटर एकाउंट से आपत्तिजनक पोस्ट डालकर मतदाताओं के बीच संवाद फैलाया कि जामताड़ा विधायक डॉ इरफान अंसारी के घर के सामने उनका मुकाबला करने के लिए कार्यकर्ताओं के साथ घंटों जमे हुए थे. लेकिन इरफान अंसारी भगोड़े साबित हुए.

    देवीपुर थाने (दो केस) और देवघर नगर थाना में दर्ज केस में कहा गया है कि सांसद ने अपने वेरिफाइड ट्वीटर अकाउंट पर पोस्ट किया कि चुनाव क्षेत्र में झामुमो द्वारा जाम करने पर कोई कार्रवाई नहीं गयी और भाजपा पर झूठा केस किया गया. जबकि झामुमो द्वारा सड़क जाम मामले में एफआइआर किया गया था और सांसद का एक विज्ञापन 8.4.21 को प्रकाशित हुआ था, जिसमें निर्वाचन संबंधी नियमों व निर्देशों का उल्लंघन किया गया था, इसी आलोक में केस हुआ था.

    उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी के कार्यालय के गोपनीय शाखा के 23 अक्टूबर को जारी किए गए पत्रांक संख्या 1066/गो. के माध्यम से उपयुक्त विषय एवं प्रसंग के संदर्भ में कहा गया है कि गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे द्वारा 11 अप्रैल 2021 को अपने वेरीफाइड टि्ीटर अकाउंट एट द रेट निशिकांत दुबे से ट्वीट कर उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री को झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ता की तरह विधानसभा चुनाव में लगे होने की बात बताई गई है.

    इस मामले में झारखंड मुक्ति मोर्चा के नाम पर कोई केस दर्ज नहीं हुआ और गोड्डा के विज्ञापन पर भाजपा पर झूठा केस दर्ज करने की धमकी सहित मंजूनाथ भजंत्री को देवघर उपायुक्त से हटाया जाना चाहिए से संबंधित एक पोस्ट किया गया था. इस तरह से सोशल मीडिया पर किए गए पोस्ट उपायुक्त के उपर अनैतिक दबाव बनाने के दृष्टिकोण से किया हुआ प्रतीत होता है.

    आरोप में यह भी स्पष्ट किया गया है कि 8 अप्रैल 2021 को विभिन्न दैनिक अखबारों में विज्ञापन मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सचिव मंत्रिमंडल निर्वाचन विभाग झारखंड रांची के पत्रांक 01/नि. (वि. स.) 16-03/20-21/1023 दिनांक 7.04.2021 में जनहित निर्देशों एवं शर्तों का उल्लंघन करते हुए प्रकाशित कराया गया था. प्रकाशित विज्ञापन के नीचे भाग पर अंकित स्थान को प्रकाशित नहीं किया जाना था. बावजूद इसके विज्ञापन में स्थान का नाम देखा जा सकता है.

    इस मामले में नगर थाना में प्राथमिकी दर्ज करने के बाद छानबीन शुरू कर दी गई है. जबकि देवीपुर, मधुपुर व चितरा थाना में दर्ज अन्य चार मामलों में भी प्राथमिकी दर्ज करने के बाद छानबीन शुरू कर दी गई है.

    Tags: Deoghar news, Godda news, Hemant soren government, Jharkhand news, Nishikant dubey

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर