बड़ी खबर: देवघर AIIMS ने शुरू की ओपीडी सेवा, सप्ताह में दो दिन लोगों को मिलेगा इलाज

देवघर एम्स के द्वारा फिलहाल देवीपुर पीएचसी में ओपीडी सेवा दी जाएगी.

देवघर एम्स के द्वारा फिलहाल देवीपुर पीएचसी में ओपीडी सेवा दी जाएगी.

Deoghar AIIMS: देवघर के देवीपुर में एम्स का निमार्णकार्य तेजी से चल रहा है. परिसर में ओपीडी भवन का निर्माण लगभग पूरा हो चुका है. बिल्डिंग मिलते ही एक माह के अंदर ऐम्स परिसर में ओपीडी सेवा शुरू कर दी जाएगी.

  • Share this:
देवघर. झारखंड के लिए सुखद खबर है. देवघर एम्स ने ओपीडी की सेवा शुरू कर दी है. एम्स द्वारा मंगलवार को देवघर के देवीपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ओपीडी सेवा की शुरुआत की गई. इस मौके पर देवघर एम्स निदेशक और जिला उपायुक्त मौजूद थे. फिलहाल सप्ताह में दो दिन, सोमवार और शुक्रवार को ओपीडी सेवा लोगों को मिलेगी. देवघर ऐम्स के 40 चिकित्सक अलग-अलग बीमारी के मरीजों का इलाज करेंगे.

देवघर एम्स के निदेशक डॉ. सौरभ वार्ष्णेय ने बताया कि राज्य सरकार को सहयोग के लिए एम्स की यह स्वास्थ्य परामर्श सेवा शुरू की गई है. यहां एम्स के चिकित्सक मरीजों के लिए सिर्फ परामर्श सेवा देंगे और राज्य सरकार के इस स्वास्थ्य केंद्र पर जो कमी है, उसे दूर करने में सहयोग करेंगे. इसके साथ ही ऐम्स चिकित्सकों द्वारा आसपास के क्षेत्र का सर्वे भी किया जायेगा. और उचित परामर्श राज्य सरकार को उप्लब्ध कराया जाएगा.

एम्स के द्वारा ओपीडी सेवा करने को ऐतिहासिक क्षण बताते हुए देवघर उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री ने ऐम्स प्रबंधन की सराहना की. साथ ही ऐम्स की सोशल सर्विस के तहत शुरू की गई ओपीडी सेवा से आसपास के लोगों की स्वास्थ्य समस्या का निराकरण होने की भी उम्मीद व्यक्त की.

जल्द शिफ्ट होगा निर्माणाधीन एम्स परिसर में
देवघर के देवीपुर में बन रहे एम्स का काम तेजी से चल रहा है. परिसर में ओपीडी भवन निर्माण का काम लगभग पूरा हो चुका है. कभी भी निर्माण एजेंसी द्वारा प्रशासन को बिल्डिंग हैंड ओवर दी जा सकती है. बिल्डिंग मिलते ही एक माह के अंदर ऐम्स परिसर में ओपीडी शुरू की जाएगी.

246 एकड़ क्षेत्र में बन रहे देवघर एम्स का निर्माणकार्य काफी तेजी से चल रहा है. शासकीय भवन, 760 बेड का हॉस्पिटल, नर्सिंग कॉलेज, इमरजेंसी वार्ड और 76 आईसीयू बेड का निर्माण प्राथमिकता के आधार पर किया जा रहा है. MBBS के साथ-साथ यहां नर्सिंग की भी पढ़ाई होगी. खास बात यह कि इस क्षेत्र की कुछ खास बीमारियों पर शोध के लिए भी यहां एक स्वतंत्र प्रभाग प्रस्तावित है. यहां हॉस्पिटल बिल्डिंग, एकेडमिक बिल्डिंग के अलावा 22 तल्ले का ऑफिसर्स क्वार्टर और 16 तल्ले का छात्रों का होस्टल बनाया जा रहा है. 22 तल्ले का यह भवन झारखंड की सबसे ऊंचा मल्टी स्टोरी बिल्डिंग होगी.

देवघर एम्स के निर्माण से झारखंड ही नहीं, बल्कि बिहार, पश्चिम बंगाल, ओडिशा  और कई पूर्वोत्तर राज्यों के लोगों को सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल की सुविधा मिल सकेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज