देवघर इंटरनेशनल एयरपोर्ट का 75 फीसद काम पूरा, बिहार और बंगाल के दर्जन भर जिलों को भी होगा फायदा

इधर AAI द्वारा एयरपोर्ट का काम जल्द से जल्द पूरा करने के लिए युद्ध स्तर पर काम किया जा रहा है.

इधर AAI द्वारा एयरपोर्ट का काम जल्द से जल्द पूरा करने के लिए युद्ध स्तर पर काम किया जा रहा है.

झारखंड (Jharkhand) में रांची के बाद देवघर ही बड़ा हवाई अड्डा होगा, जहां से देश की कई नामी-गिरामी एयरलाइन्स कंपनियां यात्री सेवा शुरू करेंगी. इससे बिहार और बंगाल के भी कई जिले लाभान्वित होंगे.

  • Share this:
देवघर. देवघर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (Deoghar International Airport) का काम जल्द से जल्द पूरा करने के लिए युद्ध स्तर पर काम किया जा रहा है. एयरपोर्ट ऑपरेशनल होने पर यहां बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर सृजित होंगे. ऐसे में अब जिला प्रशासन एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (Airport Authority of India) के साथ मिलकर क्षमता के अनुसार इसमें अधिक से अधिक स्थानीय युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने पर विचार कर रहा है. जिला प्रशासन इस बाबत AAI को रूपरेखा बनाने को कहा है. देवघर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा निर्माण के बाद यह बिहार और बंगाल के एक दर्जन से अधिक जिलों के लिए भी बड़ा वरदान साबित होगा. अधिकारियों ने बताया कि एयरपोर्ट निर्माण का 75 फीसद तक काम पूरा कर लिया गया है.

एयरपोर्ट बनने के बाद यहां के स्‍थानीय लोगों के लिए रोजगार के नए अवसर भी सृजित होंगे. इसके लिए जिला प्रशासन और AAI ने मिलकर संभावित रिक्तियों की एक रूपरेखा तैयार करने का निर्णय लिया है. देवघर के उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री ने बताया कि AAI के साथ विशेष बैठक कर एयरपोर्ट संचालन से लेकर एयरलाइन्स के मैनपॉवर की जरूरत स्थानीय सक्षम युवाओं से पूरी करने पर सहमति बनी है. इसके लिए जिला स्किल ऑफिसर और AAI द्वारा मिल कर यहां के सक्षम युवाओं को ट्रेनिंग देने का भी निर्णय लिया गया है. एयरपोर्ट निर्माण के बाद इस क्षेत्र में धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा मिलने से भी बड़े पैमाने पर रोजगार के नए अवसर सृजित होने की संभावना है.

अंतिम चरण में है निर्माण कार्य

AAI द्वारा एयरपोर्ट का काम जल्द से जल्द पूरा करने के लिए युद्ध स्तर पर काम किया जा रहा है. AAI के अनुसार तकरीबन 75 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है और अप्रैल तक इसे पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है. देवघर एयरपोर्ट के निदेशक संदीप ढिंगरा के अनुसार, रनवे का काम पूरा हो चुका है. ATC और टर्मिनल बिल्डिंग का काम अब फाइनल स्टेज में है. इस बीच नागर विमानन सचिव स्तर पर सभी प्रमुख एयरलाइन्स ऑपरेटर्स के साथ वर्चुअल मीटिंग कर यहां से विमान सेवा शुरू करने की पेशकश की गई है. कुछ एयरलाइन्स ने यहां की यात्री क्षमता को देखते हुए यहां से विमान सेवा शुरू करने में रुचि भी दिखाई है.
हवाई मानचित्र पर होगा देवघर का नाम

झारखंड में रांची के बाद देवघर ही बड़ा हवाई अड्डा होगा, जहां से देश की कई नामी-गिरामी एयरलाइन्स कंपनियां यात्री सेवा शुरू करेंगी. इसके बाद देश के हवाई मानचित्र पर देवघर का नाम अंकित होने की बात हो या यहां के युवाओं के लिए रोजगार के नए अवसर सृजित होने की बात- यह अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा इस क्षेत्र के लिए मील का पत्थर साबित होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज