Home /News /jharkhand /

doctors strike in deoghar 19 doctors resigned government and private hospitals health services interrupted bruk

देवघर में स्वास्थ्य सेवा दूसरे दिन भी ठप! 19 डॉक्टरों ने दिया इस्तीफा, सरकारी-निजी अस्पतालों में 24 घंटे से इलाज बाधित

Deoghar Doctor's Strike: डॉक्टरों का कहना है कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं हो जाती तब तक यह हड़ताल जारी रहेगी.

Deoghar Doctor's Strike: डॉक्टरों का कहना है कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं हो जाती तब तक यह हड़ताल जारी रहेगी.

Deoghar Doctor's Strike: देवघर में डॉक्टरों से मारपीट के बाद 19 डॉक्टरों ने एक साथ सिविल सर्जन को अपना इस्तीफा सौंपा दिया है. डॉक्टरों का कहना है कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं हो जाती तब तक यह हड़ताल जारी रहेगी. हालांकि इमरजेंसी सेवा चालू है.

अधिक पढ़ें ...

रिपोर्ट- मनीष दुबे 

देवघर. देवघर सदर अस्पताल में मंगलवार को दो डॉक्टरों के साथ मारपीट का मामला अब तक शांत नहीं हुआ है. बुधवार को लगातार दूसरे दिन भी देवघर सदर अस्पताल में ओपीडी सेवा के साथ-साथ सभी स्वास्थ्य सेवाएं बाधित कर दी गई है. वहीं इस बीच 19 डॉक्टरों ने एक साथ सिविल सर्जन को अपना इस्तीफा सौंपा दिया है. डॉक्टरों का कहना है कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं हो जाती तब तक यह हड़ताल जारी रहेगी. हालांकि इमरजेंसी सेवा चालू है.

बता दें, ओपीडी सेवा बंद रहने से मरीज और मरीज के परिजनों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है. सिर्फ देवघर जिला ही नहीं बल्कि सीमावर्ती राज्य के विभिन्न जिलों के मरीज भी देवघर सदर अस्पताल पहुंचकर बैरंग वापस लौट रहे हैं. इस वजह से खासा परेशानी का भी सामना करना पड़ रहा है.

डॉक्टरों कर रहे हैं ये मांग 

दरअसल देवघर सदर अस्पताल में दो डॉक्टरों के साथ हुए मारपीट का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है. लगातार आरोप-प्रत्यारोप का दौर चलने के बाद आईएमए के द्वारा बैठक भी बुलाई गई इस बैठक में सर्वसम्मति से 19 डॉक्टरों सामूहिक रूप से इस्तीफा पत्र सिविल सर्जन को सौंपा. पत्र में लिखा गया है कि मंगलवार को हुए डॉक्टरों के साथ मारपीट मामले में हम सभी लोग सामूहिक इस्तीफा दे रहे हैं. यदि मांगे पूरी नहीं हुई तो इस सामूहिक इस्तीफा ही समझा जाए. उनकी मुख्य मांगे हैं कि दोषी पुरुष एवं महिलाओं की अविलंब गिरफ्तारी हो, पुलिस और पीसीआर वैन जो सदर अस्पताल में मौजूद थे उनकी बर्खास्तगी की जाए. वहीं डॉक्टरों ने चौबीसों घंटे में पुलिस बलों की नियुक्ति सदर अस्पताल में रहे और सभी डॉक्टर को आत्मरक्षा करने के लिए शस्त्र का लाइसेंस भी मिले.

जानें क्या है मामला 

बता दें, मंगलवार की सुबह एक युवक को घायल अवस्था में उसके परिजन के द्वारा देवघर सदर अस्पताल लाया गया जहां इलाज के क्रम में डॉक्टर और ड्रेसर से तू तू मैं मैं हो गई और बात इतना आगे बढ़ गयी कि हाथापाई तक पहुंच गयी. वहीं उसके बाद आईएमए और सदर अस्पताल के डॉक्टरों ने एक आपातकालीन बैठक बुलाई और दोषियों पर कार्रवाई की मांग करते हुए हड़ताल कर दी. इसके बाद इमरजेंसी में कार्यरत डॉ दिवाकर पासवान के साथ भी मरीज के परिजनों ने मारपीट की, जिससे डॉक्टरों और अधिक आक्रोश हो गए और पूरी तरह से सभी सेवाओं को बंद कर दिया गया.

Tags: Deoghar news, Doctors strike, Jharkhand News Live

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर