देवघर: 8 अक्टूबर से बाहरी भक्तों के लिए बैद्यनाथ धाम मंदिर खुलने पर संशय बरकरार

देवघर स्थित बाबा बैद्यनाथ धाम मंदिर
देवघर स्थित बाबा बैद्यनाथ धाम मंदिर

देवघर के उपायुक्त सह बाबा मंदिर (Baidyanath Mandir) प्रशासक कमलेश्वर प्रसाद सिंह ने बताया कि सरकार जल्द ही इस दिशा में अपनी स्थिति स्पष्ट कर देगी. फिलहाल झारखंडवासियों के लिए मंदिर खुला है.

  • Share this:
देवघर. कोरोना (Corona) को देखते हुए अनलॉक-5 (Unlock-5) में केंद्र सरकार के साथ-साथ झारखंड सरकार ने भी महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं. राज्य सरकार ने 8 अक्टूबर से कोरोना के मद्देनजर सभी आवश्यक सावधानी बरतते हुए राज्य के सभी धार्मिक स्थलों को श्रद्धालुओं के लिए खोलने का निर्णय लिया है. देवघर में बाबा बैद्यनाथ मंदिर (Baidyanath Mandir) के पुरोहित सहित यहां के व्यवसायिक वर्ग और आम लोगों ने इस फैसले का स्वागत किया है.

झारखंडवासियों के लिए पहले ही खोल दिया गया है मंदिर 

पुरोहितों के अनुसार सरकार का यह निर्णय सराहनीय है. हालांकि सीमित संख्या में सिर्फ झारखंड के लोगों के लिए बाबा मंदिर में दर्शन और पूजा की अनुमति पहले ही दी जा चुकी है. लेकिन अब पुरोहितों द्वारा सावधानी बरतते हुए देश-विदेश के श्रद्धालुओं को भी पूजा की अनुमति दिए जाने की मांग की जा रही है.



बाहरी श्रद्धालुओं के लिए भी मंदिर खोलने की मांग 
वहीं कोरोना काल में पिछले लगभग छह माह से मंदिर बंद रहने के कारण आर्थिक तंगी झेल रहा यहां का व्यवसायी वर्ग भी राज्य सरकार के इस निर्णय से काफी उत्साहित हैं. लेकिन 8 तारीख से सभी श्रद्धालुओं के लिए मंदिर खोले जाने को लेकर अभी भी संशय बरकरार है.

उपायुक्त सह मंदिर प्रशासक कमलेश्वर प्रसाद सिंह ने बताया कि सरकार जल्द ही इस दिशा में अपनी स्थिति स्पष्ट कर देगी. अगर 8 तारीख से सभी के लिए मंदिर खुल जाता है तो बाबाधाम में भी व्यवसायिक गतिविधियां फिर से पटरी पर लौटने की उम्मीद जगी है.

पुजारी-कारोबारियों का ये है कहना

हालांकि अब हर वर्ग के लोगों द्वारा मंदिर को सिर्फ झारखंडवासियों के लिए नहीं बल्कि हर किसी के लिए खोले जाने की मांग उठ रही है. तीर्थ पुरोहित लंबोदर मिश्रा, झनकू शास्त्री, अंकित बाबा, जयदेव मिश्रा ने बताया कि उनके यजमान बाहर से फोन करते हैं और कहते हैं कि मंदिर सिर्फ झारखंडवासियों के लिए है या फिर सभी के लिए. अपने यजमानों के फोन के जवाब में उन्हें सिर्फ आश्वासन देना पड़ता है.

दुकानदार दीपक केशरी, रमेश सिंह, अनुप केशरी बताते हैं कि मंदिर सिर्फ झारखंडवासियों के लिए खोला तो गया है, लेकिन जबतक बाहरी श्रद्धालु नहीं आयेंगे व्यवसाय नहीं चलेगा. इस कोरोना काल में सभी व्यवसायियों की कमर टूटी चुकी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज