लाइव टीवी

शुगर के मरीजों के लिए अच्छी खबर, देवघर के किसानों ने शुरू की शुगर फ्री आलू की खेती

News18 Jharkhand
Updated: January 15, 2020, 5:46 PM IST
शुगर के मरीजों के लिए अच्छी खबर, देवघर के किसानों ने शुरू की शुगर फ्री आलू की खेती
देवघर के किसानों को शुगर फ्री आलू की खेती से अच्छी कमाई की उम्मीद है.

शुगर फ्री आलू की खेती करने वाले किसान वकील यादव का कहना है कि इस साल प्रयोग के तौर पर इसकी खेती की है. उत्पादन अच्छा होने पर अगले साल से बड़े पैमाने पर खेती की जाएगी.

  • Share this:
देवघर. जिले में वैसे तो हर साल जाड़े के मौसम में आलू की बड़े पैमाने पर खेती होती है. लेकिन इस बार कुछ किसानों (Farmers) ने प्रयोग के तौर पर शुगर फ्री आलू (Sugar Free Potato) की खेती शुरू की है. किसानों का दावा है कि इस आलू को शुगर के मरीज भी आराम से खा पाएंगे. दरअसल शिमला स्थित सेंट्रल पोटैटो रिसर्च इंस्टीच्यूट ने हाल में आलू की शुगर फ्री वेराइटी विकसित की है. वहीं से बीज लाकर देवघर के कुछ किसानों ने इसकी खेती शुरू की है.

किसानों को अच्छी कमाई की उम्मीद

शुगर फ्री आलू की खेती करने वाले किसान वकील यादव का कहना है कि इस साल प्रयोग के तौर पर इसकी खेती की है. उत्पादन अच्छा होने पर अगले साल से बड़े पैमाने पर खेती की जाएगी. इस आलू को शुगर के मरीजों भी खा पाएंगे. इससे किसानों को अच्छी कमाई होने की संभावना है.

कृषि विज्ञान केंद्र, देवघर के वैज्ञानिक पीके सनिग्रही के अनुसार भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के तहत शिमला में कार्यरत सेन्ट्रल पोटैटो रिसर्च इंस्टीट्यूट ने आलू की इस नई किस्म को विकसित किया है. इस आलू में आम आलू की तुलना में स्टार्च और कोलेस्ट्रॉल की मात्रा नहीं के बराबर होगी. इसलिए शुगर के मरीज़ भी इसका आसानी से सेवन कर पाएंगे.

खेती में ऑर्गेनिक खाद और पेस्टिसाइड का इस्तेमाल

शुगर फ्री आलू की खेती में किसानों ने ऑर्गेनिक खाद और पेस्टिसाइड का इस्तेमाल किया है. फसल को पाला से बचाने के लिए गौमूत्र का उपयोग किया गया. किसानों को इस खेती से काफी उम्मीद है. फसल में ग्रोथ आम आलू की खेती से ज्यादा है.

रिपोर्ट- रितुराज सिन्हाये भी पढ़ें- मंत्री आलमगीर आलम बोले- 19 जनवरी तक होगा मंत्रिमंडल का विस्तार, नहीं है कोई पेंच 

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देवघर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 5:45 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर