होम /न्यूज /झारखंड /देवघर के बाजारों से आने लगी तिलकुट की खुशबू, वीडियो में देखें इसके बनने का प्रोसेस, जानें कीमत

देवघर के बाजारों से आने लगी तिलकुट की खुशबू, वीडियो में देखें इसके बनने का प्रोसेस, जानें कीमत

Price of Tilkut: दुकानदार कन्हैया शाह ने बताया कि दुकान पर चीनी, गुड़ व खोआ वाले तिलकुट उपलब्ध हैं. हालांकि अभी बिक्री ...अधिक पढ़ें

    रिपोर्ट : परमजीत कुमार

    देवघर. 14 जनवरी यानी मकर संक्रांति का दिन. इसके आने में अभी एक महीने से अधिक समय बाकी है. लेकिन देवघर के बाजारों में तिलकुट की सोंधी खुशबू अभी से महकने लगी है. तिलकुट दुकान का नजारा बड़ा दिलचस्प है. एक तरफ कारीगर यहां तिल तो कूटने में जुटे हैं तो दूसरी तरफ कुछ कारीगर तिलकुट बना रहे हैं. वहीं एक तरह प्लास्टिक में पैक कर स्टॉल पर तिलकुट सजाए गए हैं. यहां चीनी, गुड़ व खोआ के तिलकुट उपलब्ध हैं.

    देवघर के विभिन्न बाजारों से गुजरते हुए आपको तिलकुट की सोंधी खुशबू के साथ-साथ कूटने की धम-धम आवाज भी सुनाई देगी. दरअसल, देवघर के कारीगर तिलकुट बनाने के लिए प्रसिद्ध हैं. इस सीजन में झारखंड के दूसरे जिलों के साथ-साथ आसपास के प्रदेशों जैसे बिहार व पश्चिम बंगाल के विभिन्न शहरों में भी इनकी मांग रहती है. आइए इन कारीगरों से जानते हैं तिलकुट बनाने का प्रोसेस.

    ऐसे बनता है तिलकुट

    टावर चौक स्थित दुकान पर तिलकुट बनाने में जुटे कारीगर संतोष व मोहन ने न्यूज18 लोकल को बताया कि सबसे पहले तिल को मिट्टी के बर्तन में मद्धिम आंच पर गर्म करते हैं. यह प्रक्रिया करीब आधे घंटे तक चलती है. भुनाते समय तिल चटकता है. उसके बाद इसे चीनी या गुड़ के पाग में मिलाया जाता है. स्वाद के लिए इसमें इलायची या खोआ भी मिला सकते हैं. फिर इसे कूटकर तिलकुट का आकार दिया जाता है. उन्होंने बताया कि करीब 17 से 18 बार कूटने के बाद तिलकुट का मैटिरियल तैयार होता है.

    तिलकुट की कीमत

    दुकानदार कन्हैया शाह ने बताया कि दुकान पर चीनी, गुड़ व खोआ वाले तिलकुट उपलब्ध हैं. हालांकि अभी बिक्री ज्यादा नहीं हो रही है. लेकिन लोग दाम पूछने जरूर आते हैं. उन्होंने बताया कि दिसंबर के आखिरी सप्ताह से मकर संक्रांति के एक हफ्ते बाद तक तिलकुट का बाजार गर्म रहता है. चीनी व गुड़वाले तिलकुट की कीमत 240 रुपये प्रति किलो है, जबकि खोआ तिलकुट 300 रुपये प्रति किलो बिक रहा है.

    इन बाजारों में सज गईं दुकानें

    बता दें कि इन दिनों बैद्यनाथधाम पूजा करने आए श्रद्धालु प्रसाद के तौर पर पेड़ा के साथ-साथ तिलकुट की भी खरीदारी करते हैं. टावर चौक के अलावा शहर के आजाद चौक, भैरव बाजार, चांदनी चौक, बैद्यनाथ लेन व एसबी राय रोड सहित अन्य बाजारों में भी तिलकुट की दुकानें सज चुकी हैं.

    Tags: Deoghar news, Jharkhand news, Makar Sankranti

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें