Home /News /jharkhand /

trikut ropeway accident investigation team arrived deoghar after 80 days of the incident bruk

Trikut Ropeway Accident: सरकार की नींद टूटी! 80 दिनों बाद त्रिकूट रोपवे हादसे की जांच करने पहुंची टीम

त्रिकुट रोपवे हादसे हादसे के 80 दिनों बाद 5 सदस्य टीम मंगलवार को जांच करने त्रिकुट पहुंची

त्रिकुट रोपवे हादसे हादसे के 80 दिनों बाद 5 सदस्य टीम मंगलवार को जांच करने त्रिकुट पहुंची

Deoghar News: त्रिकुट रोपवे हादसे हादसे के 80 दिनों बाद झारखंड सरकार की 5 सदस्य टीम मंगलवार को जांच करने त्रिकुट पहुंची. यह टीम रोपवे हादसे की जांच के साथ रोपवे चालू करने को लेकर सुरक्षा मानकों की भी जांच कर रही है.

रिपोर्ट- मनीष दुबे 

देवघर. देवघर में 10 अप्रैल 2022 को हुए जिस त्रिकुट पहाड़ रोपवे हादसे ने पूरे देश को हिला कर रख दिया था, उस मामले की जांच करने के लिए झारखंड सरकार करीब 2.5 महीने के बाद एक्टिव हुई है. त्रिकुट रोपवे हादसे हादसे के 80 दिनों बाद झारखंड सरकार की 5 सदस्य टीम मंगलवार को जांच करने त्रिकुट पहुंची. यह टीम रोपवे हादसे की जांच के साथ रोपवे चालू करने को लेकर सुरक्षा मानकों की भी जांच कर रही है.  इस दौरान उच्चस्तरीय जांच टीम के सदस्यों ने स्थानीय लोगों से भी पूछताछ की और जानकारी जुटाई. जांच सुबह 9 बजे से शुरू हुई है जो कि शाम 4:00 बजे तक चलेगी. जांच पूरी होने के बाद रिपोर्ट मुख्य सचिव को सौंप दी जाएगी.

बता दें, देवघर पहुंची इस जांच टीम को मुख्य सचिव ने भेजा है. 5 सदस्यों वाली इस टीम में  वित्त विभाग के प्रधान सचिव अजय कुमार सिंह, पर्यटन सचिव अमिताभ कौशल, पर्यटन विभाग के निदेशक राहुल कुमार सिन्हा, डायरेक्टर ऑफ माइंस सेफ्टी रत्नाकर और एडवाइजर रोपवे नेशनल हाईवे लॉजिस्टिक मैनेजमेंट लिमिटेड के एनसी श्रीवास्तव मौजूद हैं. हालांकि, हादसे को लेकर झारखंड सरकार की लापरवाही पर सवाल भी उठाने लाजिमी है. घटना के 80 दिनों बाद जांच टीम का पहुंचना प्रशासन और सरकार के मंशा पर भी सवाल उठाता है.

दुकानदारों और गाइडों की आमदनी पर असर

वहीं जांच टीम के पहुंचने से स्थानीय गाइड और दुकानदारों में खुशी है कि त्रिकुट रोपवे फिर से शुरू हो जाएगा. दरअसल 2.5 महीने से भी अधिक समय से त्रिकुट पर्वत रोपवे के बंद होने से यहां के स्थानीय दुकानदारों और गाइडों की आमदनी पर असर पड़ा है. हालांकि रोपवे शुरू करने से पहले जांच टीम को हर सुरक्षा मानकों की जांच करनी होगी ताकि भविष्य में इस तरह की किसी घटना से बचा जा सके.

रेस्क्यू के दौरान 3 लोगों की चली गयी थी जान 

इस हादसे में लोगों की सांसें थम गई थी, करीब 47 लोगों की जिंदगी हवा में झूल रही थी. लोगों की जांच बचाने के लिए  भारतीय सेना, NDRF और झारखंड पुलिस के जवान मौके पर मौजूद थे. किसी तरह तीन दिनों के रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद लोगों को बचाया गया था, हालांकि इस रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान 3 लोगों की जान भी चली गई थी. सेना के जवानों के द्वारा पहाड़ के ऊपर हेलीकॉप्टर के माध्यम से सभी लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया था जिसमें 3 लोगों की जान रेस्क्यू के दौरान चली गई थी.

Tags: Deoghar news, Jharkhand Government, Jharkhand news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर