देवघर के बाबा मंदिर को क्यों कहते हैं बैद्यनाथ धाम, पढ़ें

माता के हृदय की रक्षा के लिए भगवान शिव ने यहां जिस भैरव को स्थापित किया था, उनका नाम बैद्यनाथ था. इसलिए जब रावण शिवलिंग को लेकर यहां पहुंचा, तो भगवान ब्रह्मा और बिष्णु ने भैरव के नाम पर उस शिवलिंग का नाम बैद्यनाथ रख दिया.

News18 Jharkhand
Updated: July 19, 2019, 4:28 PM IST
देवघर के बाबा मंदिर को क्यों कहते हैं बैद्यनाथ धाम, पढ़ें
स्वयं भगवान ब्रह्मा और बिष्णु ने भैरव के नाम पर यहां का नाम बैद्यनाथ धाम रखा (फाइल फोटो)
News18 Jharkhand
Updated: July 19, 2019, 4:28 PM IST
देवघर के बैद्यनाथ धाम की गिनती देश के पवित्र द्वादश ज्योतिर्लिंगों में होती है. शास्त्रों में भी यहां की महिमा का उल्लेख है. मान्यता है कि सतयुग में ही यहां का नामकरण हो गया था. स्वयं भगवान ब्रह्मा और बिष्णु ने भैरव के नाम पर यहां का नाम बैद्यनाथ धाम रखा. ऐसी आस्था है कि यहां मांगी हर मनोकामनाएं पूरी होती हैं. इसके लिए सावन का महीना खास होता है. इसलिए पूरे सावन में यहां श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है.

बाबा बैद्यनाथ की महिमा अपार  

वरिष्ठ तीर्थ पुरोहित पंडित दुर्लभ मिश्रा कहते हैं कि शास्त्रों के अनुसार यहां माता सती के हृदय और भगवान शिव के आत्मलिंग का सम्मिश्रण है. इसलिए यहां के ज्योतिर्लिंग में अपार शक्ति है. यहां सच्चे मन से पूजा- पाठ और ध्यान करने पर हर मनोकामना अवश्य पूरी होती है. बड़े- बड़े साधु- संत मोक्ष पाने के लिए यहां आते हैं.

ऐसे पड़ा बैद्यनाथ नाम 

पंडित दुर्लभ मिश्रा कहते हैं कि शिवपुराण के शक्ति खंड में इस बात का उल्लेख है कि माता सती के शरीर के 52 खंडों की रक्षा के लिए भगवान शिव ने सभी जगहों पर भैरव को स्थापित किया था. देवघर में माता का हृदय गिरा था. इसलिए इसे हृदय पीठ या शक्ति पीठ भी कहते हैं. माता के हृदय की रक्षा के लिए भगवान शिव ने यहां जिस भैरव को स्थापित किया था, उनका नाम बैद्यनाथ था. इसलिए जब रावण शिवलिंग को लेकर यहां पहुंचा, तो भगवान ब्रह्मा और बिष्णु ने भैरव के नाम पर उस शिवलिंग का नाम बैद्यनाथ रख दिया.

पंडितों की माने तो यहां के नामकरण के पीछे एक और मान्यता है. त्रेतायुग में बैजू नाम का एक शिव भक्त था. उसकी भक्ति से भगवान शिव इतने प्रसन्न हुए कि अपने नाम के आगे बैजू जोड़ लिया. इसी से यहां का नाम बैजनाथ पड़ा. कालातंर में यही बैजनाथ, बैद्यनाथ में परिवर्तित हुआ.

बाबा बैद्यनाथ धाम के गर्भगृह का नजारा

Loading...

105 किमी पैदल चलकर भक्त करते हैं जलाभिषेक 

बैद्यनाथ धाम देश के बारह पवित्र द्वादश ज्योतिर्लिंग में शामिल है. यहां सालों भर बाबा पर जलाभिषेक करने के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है. सावन में भक्त सुल्तानगंज से 105 किलोमीटर की कष्टप्रद पैदल यात्रा कर बैद्यनाथ धाम पहुंचते हैं और बाबा पर जलाभिषेक करते हैं. यह सिलसिला पूरे एक महीना चलता है.

रिपोर्ट- रितुराज सिन्हा

ये भी पढ़ें- बाबानगरी देवघर में विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला शुरू, CM रघुवर ने किया उद्घाटन

श्रावणी मेले को मिलेगा राष्ट्रीय मेले का दर्जा, राज्य सरकार केंद्र से करेगी सिफारिश

 
First published: July 19, 2019, 4:26 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...