Dhanbad News: ईंट-भट्ठे में काम करने वाले 3 मजदूरों की दम घुटने से मौत, ठंड से बचने के लिए किया था धुआं

तीनों मजदूर पश्चिम बंगाल के पुरुलिया के रहने वाले थे.

तीनों मजदूर पश्चिम बंगाल के पुरुलिया के रहने वाले थे.

Dhanbad News: पुलिस ने बताया कि तीनों मजदूर रात को प्लास्टिक के तंबू में धुआं कर सो गये थे. पश्चिम बंगाल के पुरुलिया से काम करने झारखंड के धनबाद आए थे तीनों मजदूर.

  • Share this:

धनबाद. झारखंड के धनबाद (Dhanbad) में ईंट-भट्ठे में काम करने वाले तीन मजदूरों की दम घुटने से मौत हो गई. तीनों मजदूर पश्चिम बंगाल (West Bengal) के रहने वाले थे. घटना तेतुलमारी थानाक्षेत्र के रंगलीटांड़ में की है. मृतकों की पहचान मिथुन भूमिज, प्रदीप मुरा और प्रम्तोष भूमिज के रूप में हुई. तीनों पश्चिम बंगाल के पुरुलिया से ईंट-भट्ठा में काम करने धनबाद आए थे.



शुक्रवार सुबह तीनों मजदूरों के मृत पाए जाने से इलाके में सनसनी फैल गई. घटना की सूचना तेतुलमारी थाने को दी गई. पुलिस ने माैके पर पहुंचकर छानबीन की. तीनों शव को पोस्टमार्टम के लिए धनबाद भेज दिया गया. पुलिस के मुताबिक माैत के कारणों का पता पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद चल पाएगा. हालांकि शुरुआती छानबीन में ये दम घुटने से मौत का मामला लग रहा है.



भट्ठा के पास तंबू में रहते थे तीनों मजदूर



तेतुलमारी थानाप्रभारी मनीष कुमार ने बताया कि तीनों मजदूर रात को प्लास्टिक के तंबू में धुआं कर सो गये थे. ऐसे में तीनों की मौत दम घुटने से होने की आशंका जताई गई है. हालांकि स्पष्ट कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट से सामने आएगा.


ग्रामीणों ने बताया कि तीनों मजदूर भट्ठा के पास ही तंबू बनाकर रहते थे. ठंड से बचने के लिए मजदूरों ने तंबू को चारों तरफ तिरपाल से घेर रखा था. इसके अंदर ही कोयले का चूल्हा जलाकर खाना पकाते थे. शुक्रवार सुबह मजदूर काम पर नहीं पहुंचे, तो ईंट भट्ठा मालिक सोनू साह मजदूरों को खोजने झोपड़ी के पास पहुंचे, जहां उन्होंने तीनों मजदूर को अचेत पाया. उन्होंने तत्काल इसकी जानकारी पुलिस को दी.



ईंट-भट्ठा मालिक सोनू साह ने बताया कि ये लोग हर रोज प्लास्टिक के तंबू में कोयले का धुआं कर सोते थे. ताकि ठंड से बच सके. शुक्रवार सुबह तीनों तंबू में मृत पाये गये.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज