Home /News /jharkhand /

किसी की सरकारी नौकरी गई तो किसी की सदमे में गई जान, झूठे अपहरण के केस में तबाह हुआ 5 परिवार, 18 साल बाद खुलासा

किसी की सरकारी नौकरी गई तो किसी की सदमे में गई जान, झूठे अपहरण के केस में तबाह हुआ 5 परिवार, 18 साल बाद खुलासा

18 साल बाद लापता युवती वापस घर लौटी है.

18 साल बाद लापता युवती वापस घर लौटी है.

Dhanbad News: आरोपी राजू मल्लाह और रामेश्वर मल्लाह दोनों बीसीसीएल में नौकरी करते थे, लेकिन अपहरण जैसे संगीन मामले में नाम आने के बाद कंपनी ने दोनों को नौकरी से हटा दिया. रामेश्वर मल्लाह इस सदमे को बर्दाश्त नही कर पाये और उनकी मौत हो गई. अब 18 साल बाद लापता युवती घर लौटी है, तो आरोपी के परिवारवाले इंसाफ की गुहार लगा रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...

    रिपोर्ट- संजय गुप्ता

    धनबाद. झारखंड के धनबाद पुलिस की गलत जांच के कारण पांच लोगों को जेल की हवा खानी पड़ी. इन्हें कई महीने जेल में गुजारना पड़ा. युवती के अपहरण के आरोप में पांच लोगों की जिंदगी बर्बाद हो गयी. किसी को सरकारी नौकरी से हाथ धोना पड़ा, तो किसी की सदमे में जान चली गई. पांच परिवार की खुशियां पुलिस की गलत जांच के कारण तबाह हो गयी.

    कथित तौर पर अपहृत युवती अब 18 साल बाद अपने घर वापस लौट आयी है. अब उसके झूठे अपहरण के मामले में आरोपी बनाए गए लोग इंसाफ की गुहार लगा रहे हैं. दरअसल साल 2003 में जिले के लोदना ओपी क्षेत्र की रहने वाली बंगाली रविदास की 20 वर्षीय बेटी आरती कुमारी लापता हो गई. बंगाली रविदास ने लोदना ओपी में बेटी के अपहरण की शिकायत दर्ज कराई. पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए राजू मल्लाह, रामेश्वर मल्लाह, मनोज निषाद, बजरंगी पासवान और दीपक चौहान पर केस दर्ज कर गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. 9 महीने जेल में रहने के बाद सभी आरोपी बेल पर जेल से बाहर निकले.

    आरोपी राजू मल्लाह और रामेश्वर मल्लाह दोनों बीसीसीएल में नौकरी करते थे, लेकिन अपहरण जैसे संगीन मामले में नाम आने के बाद कंपनी ने दोनों को नौकरी से हटा दिया. रामेश्वर मल्लाह इस सदमे को बर्दाश्त नही कर पाये और उनकी मौत हो गई. आरोपी दीपक चौहान और बजरंगी पासवान की भी मौत हो चुकी है. अब 18 साल लापता युवती घर लौटी है, तो आरोपी के परिवारवाले इंसाफ की गुहार लगा रहे हैं.

    आरोपी राजू मल्लाह का कहना है कि जो गुनाह उसने किया ही नहीं, उसकी सजा उसे भुगतनी पड़ी. नौकरी चली गई. जेल काटनी पड़ी. परिवार को मुसीबतों से गुजरना पड़ा. उसे इंसाफ चाहिए. पुलिस की गलती जांच के कारण उसका सबकुछ लूट गया.

    आरोपी रामेश्वर मल्लाह के बेटे सनोज मल्लाह का कहना है कि उनके घर के तीन लोगों को झूठे अपहरण के मामले में आरोपी बनाया गया था. इसके चलते उसके पिता की बीसीसीएल की नौकरी चली गई. सदमे के चलते पिता की मौत तक हो गयी. पुलिस की जल्दबाजी के चलते उसका परिवार तबाह हो गया.

    Tags: Dhanbad news, Jharkhand news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर