धनबाद: वाणिज्यकर विभाग की जांच में 54 कंपनी पाये गये फर्जी, नहीं मिला पता-ठिकाना
Dhanbad News in Hindi

धनबाद: वाणिज्यकर विभाग की जांच में 54 कंपनी पाये गये फर्जी, नहीं मिला पता-ठिकाना
धनबाद वाणिज्यकर विभाग के संयुक्त आयुक्त शिवसहाय सिंह ने बताया कि जांच में 251 कंपनी सही पाये गए, जबकि 54 का पता-ठिकाना गलत पाया गया.

धनबाद वाणिज्यकर विभाग के संयुक्त आयुक्त शिवसहाय सिंह ने बताया कि स्पॉट वेरिफिकेशन के तहत धनबाद अंचल में 55, झरिया में 60, कतरास में 45, चिरकुन्डा में 18 और बोकारो में 109 कंपनियों की जांच की गयी. इसमें 251 सही पाये गए, जबकि 54 का पता-ठिकाना गलत पाया गया.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
धनबाद. फर्जी तरीके से जीएसटी रजिस्ट्रेशन कराने वाली कंपनियों के खिलाफ धनबाद में वाणिज्यकर विभाग (Commercial Tax Department) ने कार्रवाई शुरू कर दी है. वाणिज्यकर मुख्यालय के निर्देश पर हुई जांच में जुलाई 2017 से लेकर अबतक 323 कंपनियों में से 58 का अस्तित्व ही नहीं मिला. जांच में इनका पता- ठिकाना गलत पाया गया. जिसके बाद ऐसे 54 फर्जी कंपनियों (Fake Companies) का जीएसटी निबंधन रद्द कर दिया गया है. अब इन कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी चल रही है.

54 फर्जी कंपनियों का जीएसटी रजिस्ट्रेशन रद्द

धनबाद वाणिज्यकर विभाग के संयुक्त आयुक्त शिवसहाय सिंह ने बताया कि स्पॉट वेरिफिकेशन के तहत धनबाद अंचल में 55, झरिया में 60, कतरास में 45, चिरकुन्डा में 18 और बोकारो में 109 कंपनियों की जांच की गयी. इसमें 251 सही पाये गए, जबकि 54 का पता-ठिकाना गलत पाया गया. इन फर्जी कंपनियों का जीएसटी निबंधन रद्द कर दिया गया है. एक साल पूर्व भी 32 फर्जी कंपनियों के निबंधन रद्द किए गए थे.



संयुक्त आयुक्त शिवसहाय सिंह ने बताया कि इसबार वाणिज्यकर विभाग का राजस्व उगाही का लक्ष्य 1363 करोड़ था. इसमें जनवरी तक 901 करोड़ 76 लाख राजस्व की प्राप्ति हो चुकी है. यानी 61 प्रतिशत तक लक्ष्य हासिल कर लिया गया है. मार्च तक ये आंकड़ा 80 फीसदी से ऊपर पहुंच जाएगी.



देवघर में चार डॉक्टरों पर आईटी की कार्रवाई

 

देवघर में आयकर विभाग ने बड़ी करवाई करते हुए शहर के चार बड़े डॉक्टरों को चालू वित्तीय वर्ष में लगभग एक करोड़ रुपये टैक्स जमा कराने का निर्देश दिया है. इन चारों डॉक्टरों के क्लिनिक पर आयकर टीम ने सर्वेक्षण किया था. इस दौरान डॉ. अविनाश कुमार और डॉ. राजेश प्रसाद को 1-1 करोड़, डॉ. संजय कुमार को 65 लाख और डॉ. सिकंदर सिंह को 61 लाख अतिरिक्त आय होने की बात सामने आई. जिसके बाद इन डॉक्टरों को इसी वित्तीय वर्ष में अतिरिक्त आय का 30 प्रतिशत
आयकर जमा कराने का निर्देश दिया गया है. इसके लिए आगामी 25 मार्च तक का समय दिया गया है.

इनपुट- अभिषेक, ऋतुराज

ये भी पढ़ें- लॉ छात्रा गैंगरेप मामले में सभी 11 बालिग आरोपी दोषी करार, सोमवार को सुनाई जाएगी सजा
First published: February 26, 2020, 4:37 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading