ठंड से ठिठुर रहे हैं गरीब, कब बंटेगा प्रशासन का कंबल?

कोयलांचल धनबाद में पारा 12 डिग्री तक पहुंचने के साथ ही ठंड में इजाफा हो गया है. ऊपर से शीतलहर और कनकनी से गरीबों की परेशानी बढ़ गई है.

News18 Jharkhand
Updated: December 7, 2018, 11:59 AM IST
ठंड से ठिठुर रहे हैं गरीब, कब बंटेगा प्रशासन का कंबल?
ठंड से ठिठुरते गरीब
News18 Jharkhand
Updated: December 7, 2018, 11:59 AM IST
कोयलांचल धनबाद में ठंड की दस्तक से गरीबों का जीना मुहाल हो गया है. शीतलहर और कड़ाके की ठंड में सबसे ज्यादा परेशानी सड़क किनारे रहने वाले बेघर और रिक्शा -ठेला चालकों का है. जबकि जिला प्रशासन द्वारा अबतक सरकारी कंबल के वितरण और अलाव जलाने की व्यवस्था नहीं की गयी है.

कोयलांचल धनबाद में पारा 12 डिग्री तक पहुंचने के साथ ही ठंड में इजाफा हो गया है. ऊपर से शीतलहर और कनकनी से गरीबों की परेशानी बढ़ गई है. सुविधा संपन्न लोग शाम होते ही रजाई-कंबल के आगोश में चले जाते है, लेकिन भीख मांगकर गुजारा करने वाले गरीब रात में दुकान बंद होने का इंतेजार करते हैं. रैन बसेरों के अभाव में रिक्शा वालों के लिए रिक्शा ही उनका आशियाना होता है.

धनबाद शहर के बैंक मोड़, धनसार, स्टेशन रोड, शक्ति मंदिर, रणधीर वर्मा चौक, पुलिस लाइन और डीजीएमएस का जब न्यूज 18 की टीम ने जायजा लिया, तो गरीबों का दर्द और पीड़ा नजर आया. बेबस और लाचार गरीब सड़क के किनारे फुटपाथ पर खुले आसमान के नीचे बोरे के सहारे कड़ाके की ठंड काटते नजर आये, तो कई जैसे-तैसे ठंड से बचने की जद्दोजहद करते पाये गये.

गौरतलब है कि इस बार धनबाद जिला प्रसाशन ने कंबल बांटने की जिम्मेवारी श्रम विभाग को दी है. विभाग 1 करोड़ 60 लाख की लागत से करीब 56 हजार कंबल खरीदेगी. इसके लिए 28 नवंबर को निविदा निकाली गयी. 6 दिसंबर को निविदा खोली गयी. आठ लोगों ने इसके लिए आवेदन किया है. सवाल है कि कहीं पूरी प्रक्रिया होते-होते ठंड ही ना निकल जाए. विभाग के सहायक श्रमायुक्त प्रदीप रॉबर्ट लकड़ा कैमरे पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया. सवाल है कि ठंड आने से पहले गरीबों के लिए ये सब तैयारी क्यों नहीं की गई. अब जबकि वे ठंड से ठिठुर रहे हैं तो कंबल खरीदने की प्रक्रिया चल रही है.

अभिषेक कुमार की रिपोर्ट

ये भी पढ़ें- रेल व सेल में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी, पुलिस ने तीन जालसाजों को दबोचा

जमशेदपुर: एसएसपी के आदेश की अनदेखी, ATM की सुरक्षा राम भरोसे
Loading...

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->