होम /न्यूज /झारखंड /देवघर में सरकार वैसे अधिकारियों को लगाए जिनकी ईश्वर में आस्था हो - बाबुलाल

देवघर में सरकार वैसे अधिकारियों को लगाए जिनकी ईश्वर में आस्था हो - बाबुलाल

देवघर हादसे को लेकर सियासत तेज हो गई है. सोमवार को हुए भगदड़ के दौरान घायल कांवरियों से आज प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबुलाल मरांडी ने मुलाकात की. जेवीएम के केन्द्रीय अध्यक्ष बाबुलाल मरांडी ने रिम्स के स्वास्थ्य अधिकारियों से कांवरियों की कैसी स्थिति है इसकी भी जानकारी ली.

देवघर हादसे को लेकर सियासत तेज हो गई है. सोमवार को हुए भगदड़ के दौरान घायल कांवरियों से आज प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबुलाल मरांडी ने मुलाकात की. जेवीएम के केन्द्रीय अध्यक्ष बाबुलाल मरांडी ने रिम्स के स्वास्थ्य अधिकारियों से कांवरियों की कैसी स्थिति है इसकी भी जानकारी ली.

देवघर हादसे को लेकर सियासत तेज हो गई है. सोमवार को हुए भगदड़ के दौरान घायल कांवरियों से आज प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ...अधिक पढ़ें

    देवघर हादसे को लेकर सियासत तेज हो गई है. सोमवार को हुए भगदड़ के दौरान घायल कांवरियों से आज प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबुलाल मरांडी ने मुलाकात की. जेवीएम के केन्द्रीय अध्यक्ष बाबुलाल मरांडी ने रिम्स के स्वास्थ्य अधिकारियों से कांवरियों की कैसी स्थिति है इसकी भी जानकारी ली.

    बाबुलाल मरांडी ने एक बार फिर देवघर की घटना के लिए प्रदेश सरकार को जिम्मेदार ठहराया, उन्होंने कहा कि घायल कांवरियों से मुलाकात के दौरान कांवरियो ने कहा कि पुलिस ने उन्हें अंधेरे में पीटा, और कहा कि यहां बाबा नहीं रहते हैं भागो, फिर लाठी चार्ज कर दिया.

    मरांडी ने कहा कि सरकार को मालूम है कि देवघर में पूरे एक महीने तक श्रावणी मेला लगता है, देश विदेश से लोग यहां आते हैं, इसके बावजूद सरकार ने लापरवाही की है. देवघर मेले में सरकार को वैसे पुलिस अधिकारियों को ड्यूटी पर लगाना चाहिए था जो भगवान में आस्था रखते हैं.

    सरकार की लापरवाही और पुलिस की बर्बरता के कारण बाबा की नगरी में भगदड़ मची और श्रद्धालु मारे गए. अगर राज्य सरकार मेले को लेकर पहले से अलर्ट रहती तो इतनी बड़ी घटना नहीं घटती.

    मालूम हो कि सावन की दूसरी सोमवारी के दौरान देवघर मंदिर से चार किलोमीटर दूर जलार्पण के लिए लगी कतार में जलाभिषेक करने के लिए भगदड़ मच गया. इस घटना में दस लोग मारे गए थे जबकि तीन दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए थे.

    Tags: Babulal marandi

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें