Home /News /jharkhand /

Dhanbad: अवैध कोयला कारोबार का गढ़ बना धनबाद, पुलिस को पहुंचाई जाती है करोड़ों की रिश्वत!

Dhanbad: अवैध कोयला कारोबार का गढ़ बना धनबाद, पुलिस को पहुंचाई जाती है करोड़ों की रिश्वत!


पुलिस के सरंक्षक में धनबाद में अवैध कोयला कारोबार हर दिन बढ़ता ही जा रहा है.

पुलिस के सरंक्षक में धनबाद में अवैध कोयला कारोबार हर दिन बढ़ता ही जा रहा है.

Dhanbad Coal Mining News: धनबाद में अवैध कोयला कारोबार (illegal coal business) ने उद्योग का रूप ले लिया है. प्रति दिन 300 ट्रक अवैध कोयला पूरे जिले से बाहर प्रदेश जा रही है. इस अवैध कोयला कारोबार का संरक्षक पुलिस खुद बनी हुई है. कथित रूप से कोयला कारोबार के एक सेंटर के लिए पुलिस ने अपना रेट तय कर रखा है. पूरा 1 करोड़ पुलिस को एक स्थान से पहुंचाया जा रहा है. इसी तरह एसडीपीओ को 5 लाख टोकन मनी के साथ 10 हजार ट्रक तय है. इसके आलावा थाना,इंस्पेक्टर, सीआईएसएफ को अलग से पैसा पहुंचाया जा रहा है. 

अधिक पढ़ें ...

     रिपोर्ट- संजय गुप्‍ता

    धनबाद. झारखंड का धनबाद (Dhanbad) जिला कोयले (Coal) की राजधानी के नाम से जाना जाता है. धनबाद में अवैध कोयला कारोबार (illegal coal business) ने उद्योग का रूप ले लिया है. प्रति दिन 300 ट्रक अवैध कोयला पूरे जिले से बाहर प्रदेश जा रही है. इस अवैध कोयला कारोबार का संरक्षक पुलिस खुद बनी हुई है. कथित रूप से कोयला कारोबार के एक सेंटर के लिए पुलिस ने अपना रेट तय कर रखा है. 10 लाख ली टोकन मनी के साथ प्रति टन कोयला पर 1500 रुपये लेती है.अगर एक अवैध कोयला डिपो,अवैध उत्खनन स्थल से 6 ट्रक में 200 टन तो एक दिन में 3 लाख,यानी पूरे महीने में 90 लाख, साथ ही 10 लाख टोकन मनी.

    पूरा 1 करोड़ पुलिस को एक स्थान से पहुंचाया जा रहा है. इसी तरह एसडीपीओ को 5 लाख टोकन मनी के साथ 10 हजार ट्रक तय है. इसके आलावा थाना, इंस्पेक्टर, सीआईएसएफ को अलग से पैसा पहुंचाया जा रहा है. वहीं धनबाद में बीसीसील और ईसीएल के कोलयरी है. बीसीसील 1 एरिया से लेकर 12 एरिया है, जो बाघमारा से निरसा तक फैला हुआ है. वहीं निरसा क्षेत्र में ईसीएल के कोलयरी भी है. बंद असुरक्षित खदानों से कोयला तस्करी होती है. धनबाद जिला चार पुलिस अनुमंडल में बंटा है. निरसा,बाघमारा, सिंदरी,धनबाद मुख्यालय.

    जानिए कौन-कौन तस्कर हैं सक्रिय 

    निरसा में रमेश गोप, मैनेजर राय,शर्मा,अनिल गोयल सक्रिय है. बाघमारा में अनिल गोयल,जेएमएम नेता रतिलाल टुडू,वशिष्ट चौहान, अजय मण्डल,गुड़ु हजारी सहित अन्य सक्रिय है. सिंदरी,धनबाद मुख्यालय में मुकेश सिंह अनिल गोयल सक्रिय है. अनिल गोयल का एक सिंडिकेट पूरे जिले में सक्रिय है, जो कोलयरियो से अवैध कोयला हार्ड भट्टा, अवैध कोयला डिपो में हाइवा वाहन से सीधे यहां जमा करते हैं.

    बेधड़क करते हैं अवैध कोयला की ढुलाई

    धनबाद जिले के सभी सड़कों में दिन रात साइकिल, मोटरसाइकिल, मारुति, ट्रैक्टर से अवैध कोयला ढुलाई करते नजर आते हैं. अवैध कोयला कारोबारी मारपीट और धमकी भी देते हैं. बीसीसीएल में 3100 सौ सीआईएसएफ जवान कोलयरी की सुरक्षा, कोयला चोरी के लिए है, जिसपर 200 करोड़ रुपये खर्च किए जाते हैं. धनबाद जिले के बाघमारा, कतरास,बरोरा,झरिया,सिंदरी,महूदा,भाटडीह ओपी,बरवाअड्डा, गोविंदपुर, निरसा, मैथन, कुमारधुबी, गल्फरबाड़ी, तेतुलमारी, राजगंज, सोनारडीह, धर्माबांध, कपूरिया, पुटकी, सुदामडीह, पाथरडीह सहित सभी थाना क्षेत्र में अवैध कोयला कारोबार संचालित है.

    बाघमारा पुलिस अनुमंडल के महूदा,भाटडीह,कतरास थाना क्षेत्र में अवैध कोयला उत्खनन स्थल आधा दर्जन से अधिक वर्तमान में चल रहे हैं. साथ ही अवैध कोयला डिपो भी चल रहे हैं. यहां अनिल गोयल, अजय मण्डल, गुड़ु हजारी, सत्यम रिटोलिया इसके संचालक है.

    कतरास थाना क्षेत्र छाताबाद में वशिष्ट चौहान ग्रुप सक्रिय है. तेतुलमारी,राजगंज थाना क्षेत्र में जेएमएम नेता रतिलाल टुडू,रिंकु महतो, चौधरी सक्रिय है. धनबाद कोयला की राजधानी अब अवैध कोयला कारोबार राजधानी बन चुका है. प्रति दिन करोड़ो रूपये के राजस्व की लूट हो रही है।जितनी लूट धनबाद में राजस्व की हो रही है. उससे पूरा झारखंड रोशनी से जगमगा सकता है.

    Tags: Coal mining, Dhanbad news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर