दुष्कर्म की घटनाओं के खिलाफ छात्राओं ने निकाला प्रतिरोध मार्च

छात्राओं का कहना है कि बेटियां हिन्दू और मुस्लिम नहीं होती, वे पूरे समाज की बेटियां होती है

Abhishek Kumar | News18 Jharkhand
Updated: April 17, 2018, 6:57 PM IST
दुष्कर्म की घटनाओं के खिलाफ छात्राओं ने निकाला प्रतिरोध मार्च
छात्राओं का प्रदर्शन
Abhishek Kumar
Abhishek Kumar | News18 Jharkhand
Updated: April 17, 2018, 6:57 PM IST
धनबाद में एसएसएलएनटी महिला की छात्राओ ने कॉलेज कैम्पस से रणधीर वर्मा चौक तक प्रतिरोध जुलूस निकाला. इस दौरान मुंह पर काली पट्टी बांध कर छात्राओं ने समाज, पुलिस और सरकार से बेटियों की हिफाजत में आगे आने की मांग की. साथ ही जाति, धर्म, भाषा और क्षेत्र का भेदभाव किए बिना दुष्कर्म के आरोपियों को कठोर सजा देने की भी मांग की.

छात्राओं का कहना है कि बेटियां हिन्दू और मुस्लिम नहीं होती, वे पूरे समाज की बेटियां होती है. जिस तरह से जम्मू कश्मीर के कठुवा या यूपी, बिहार और झारखंड प्रदेश में इन दिनों मासूम बच्चियों और लड़कियों के खिलाफ दुष्कर्म की घटनाएं बढ़ी हैं उससे वे खुद को असुरक्षित महसूस करती हैं.

छात्राओं की माने तो 2012 के निर्भया कांड के बाद देश में लागू पोस्को एक्ट के बावजूद रेप की घटनाओं में इजाफा ही हो रहा है, जो एक चिंता का विषय है.

गौरतलब है कि छात्राओं के प्रतिरोध मार्च में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद , स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया सहित कई संगठनो से जुड़े छात्राओं ने हिस्सा लिया और बैनर पोस्टर के माध्यम से दुष्कर्म की घटनाओं पर रोक लगाने और दोषियों पर तुरंत कार्रवाई की मांग की.

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर