होम /न्यूज /झारखंड /झारखंड: राशन कार्ड में नाम चढ़ाने के लिए रिश्वत ले रहा था ऑपरेटर, रंगे हाथ गिरफ्तार

झारखंड: राशन कार्ड में नाम चढ़ाने के लिए रिश्वत ले रहा था ऑपरेटर, रंगे हाथ गिरफ्तार

राशन कार्ड में परिवार के लोगों का नाम जोड़ने के लिए मांग रहा था पैसे (News18)

राशन कार्ड में परिवार के लोगों का नाम जोड़ने के लिए मांग रहा था पैसे (News18)

Dhanbad News: धनबाद में एसीबी की टीम ने आरोपी को रिश्वत की रकम के साथ पकड़े जाने के बाद गिरफ्तार कर लिया और धनबाद कार्या ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

एसीबी की टीम ने तोपचांची प्रखंड कार्यालय के कंप्यूटर ऑपरेटर को 4000 रुपए घूस लेते रंगे हाथ पकड़ा
राशन कार्ड में परिवार के लोगों का नाम जोड़ने के लिए मांग रहा था पैसे
कई ऐसे लोगों के बारे में भी पता चला, जिनका घूस की रकम नहीं देने के कारण राशन कार्ड में नाम नहीं

रिपोर्ट- संजय गुप्ता

धनबाद: एंटी करप्शन ब्यूरो (ACB) की टीम ने बड़ी कार्रवाई की है. एसीबी की टीम ने धनबाद जिला के तोपचांची प्रखंड कार्यालय के कंप्यूटर ऑपरेटर (Computer Operator) धनंजय मंडल उर्फ संजय कुमार को रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार किया. एसीबी की टीम ने आरोपी को रिश्वत की रकम के साथ पकड़े जाने के बाद गिरफ्तार कर धनबाद कार्यालय लेकर पहुंची. साथ ही एसीबी की टीम ने कागजी कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू की.

तोपचाची प्रखण्ड के रामपुर पंचायत के वार्ड 4 के वार्ड सदस्य प्रतिनिधि मो0 मुस्तहाब ने राशन कार्ड में परिवार के सदस्यों के नाम जोड़ने का आवेदन प्रखण्ड आपूर्ति कार्यालय में 5 महीने पहले दिया था. पांच महीने बीत जाने के बाद भी सदस्यों का नाम राशन कार्ड में नही जोड़ा गया था. जिसके बाद आवेदक बीडीओ सह आपूर्ति पदाधिकारी से मिलकर मामले की जानकारी दिए थे. जहां बीडीओ सह आपूर्ति पदाधिकारी से मिलकर नाम जुड़वाने को कहे थे. लेकिन कम्प्यूटर ऑपरेटर संजय कुमार राशन कार्ड में सदस्यों के नाम जोड़ने को लेकर आनाकानी कर रहा था.

Jharkhand: पुलिस ने 6 महीने बाद कब्र खोदकर निकाली लाश, जानें हत्या से जुड़ा पूरा मामला

जिसके बाद आवेदक बीडीओ सह आपूर्ति पदाधिकारी से मिलकर मामले की जानकारी दिए थे. जहां बीडीओ सह आपूर्ति पदाधिकारी से मिलकर नाम जुड़वाने को कहे थे. लेकिन कम्प्यूटर ऑपरेटर संजय कुमार राशन कार्ड में सदस्यों के नाम जोड़ने को लेकर आनाकानी कर रहा था. बाद में आवेदक को पता चला कि नाम जोड़ने के एवज में प्रति आवेदन 500 रुपये रिश्वत मांगी जा रही है. जिसपर आवेदक ने रिश्वत बिना नाम जोड़ने का आग्रह किया. लेकिन आरोपी ऑपरेटर रिश्वत बिना काम करने से इनकार कर दिया. जिसके बाद आवेदक ने एसीबी को मामले की जानकारी दी. शिकायत के बाद आज एसीबी ने जाल बिछाकर रिश्वत की रकम 4 हजार रुपये के साथ ऑपरेटर को पकड़ लिया.

वही रिश्वतखोरी के आरोप में पकड़े गया ऑपरेटर खुद को निर्दोष बता रहा है. 4 हजार की रकम डीजे साउंड बुकिंग के बदले लेने की बात कह रहा है. शिकायतकर्ता ने कहा कि आरोपी कम्प्यूटर ऑपरेटर झूठ बोल रहा है. डीजे बुकिंग के नाम पर वह बचना चाहता है. जबकि राशन कार्ड में नाम जोड़ने के बदले 4 हजार की मांग कर रहा था. रिश्वत मांगने की शिकायत एसीबी से करने के बाद आज कार्यवाई की गई है.

Tags: Dhanbad news, Jharkhand news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें