Assembly Banner 2021

शहीद शशिकांत पांडेय के परिवार के साथ DC ने मनाई दिवाली, भेंट की 10 डिसमिल जमीन

शहीद के माता-पिता को जनीम के पेपर सौंपते DC

शहीद के माता-पिता को जनीम के पेपर सौंपते DC

उपायुक्त (Deputy Commissioner) अमित कुमार ने धनबाद (Dhanbad) के वीर सपूत शहीद शशिकांत पांडेय (Martyr Shashikant Pandey) के माता-पिता को दीपावली का तोहफा दिया.

  • Share this:
धनबाद. दीपोत्सव के मौके पर देर रात उपायुक्त (Deputy Commissioner) अमित कुमार ने धनबाद (Dhanbad) के वीर सपूत शहीद शशिकांत पांडेय (Martyr Shashikant Pandey) के माता-पिता को दीपावली का तोहफा दिया. साथ ही उन्हें शॉल ओढ़ाकर और मुंह मीठा कर दीपावली की बधाई एवं शुभकामनाएं दी. सम्मान पाकर शहीद शशिकांत के माता-पिता की आंखें भर आई.

परिजनों के साथ मिलकर मनाई दीपावली की खुशियां

उपायुक्त अमित कुमार ने बताया कि वे हर दीपावली पर देश के लिए अपनी कुर्बानी देने वाले वीर सपूत के घर जाते हैं और उनके परिजनों के साथ मिलकर दीपावली की खुशियां मनाते हैं. इसी क्रम में वे वरीय पुलिस अधीक्षक किशोर कौशल के साथ शहीद शशिकांत पांडेय के जोरापोखर स्थित आवास पहुंचे, जहां उपायुक्त ने शहीद शशिकांत पांडेय के परिवार वालों के साथ दीपावली मनाई. इसके बाद उपायुक्त ने दिवाली के तोहफे के रूप में शहीद के परिवार को बलियापुर अंचल में शहीद शशिकांत पांडेय की स्मृति में सैनिक बंदोबस्ती के अंतर्गत 10 डिसमिल जमीन के कागजात भी सौंपे.



17 दिसंबर 2016 को आतंकियों ने सेना के काफिले को निशाना बनाया था
उपायुक्त से सम्मान एवं जमीन के कागजात पाकर शहीद के माता-पिता भावुक हो उठे ओर उनकी आंखें भर आईं. गौरतलब है कि श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पर पंपोर में बीते 17 दिसंबर 2016 को आतंकियों ने सेना के काफिले को निशाना बनाया था. इस हमले में धनबाद के शशिकांत पांडेय भी शहीद हो गए थे. शहीद जवान को रांची नामकुम कैंप में महामहिम राज्यपाल दौपद्री मुर्मू व अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने श्रद्धांजलि दी.

शहीद के पार्थिव शरीर को एमआई 17 हेलीकॉप्टर से धनबाद लाया गया था 

बता दें कि शहीद शशिकांत पाण्डेय के पार्थिव शरीर को एमआई 17 हेलीकॉप्टर से धनबाद लाया गया था. हवाईपट्टी पर श्री अमर बाउरी समेत तमाम प्रशासनिक व पुलिस पदाधिकारी ने श्रद्धासुमन अर्पित किए थे.

शहीद-Martyr
शहीद के पार्थिव शरीर को एमआई 17 हेलीकॉप्टर से धनबाद लाया गया था (फाइल फोटो)


शहीद को श्रद्धांजलि देने के लिए तिरंगे के साथ पूरे शहर में सड़क पर जनसैलाब उमड़ा था। शहीद जवान को श्रद्धांजलि देने के लिए एक भी दुकानें नहीं खुली थी। प्राइवेट स्कूल भी बंद रहे। झरिया मोहलबनी घाट पर शहीद शशिकांत का अंतिम संस्कार सैनिक सम्मान के साथ किया गया था।

शहीद शशिकांत पाण्डेय ने जोड़ापोखर के ज्ञान भारती से मैट्रिक किया था। झरिया के राजा शिवप्रसाद कॉलेज से उन्होंने इंटर पास किया था। वे 17 दिसंबर 2013 को सेना में भर्ती हुए और 17 दिसंबर 2016 को वीर गति को प्राप्त किए।

रिपोर्ट- अभिषेक कुमार

ये भी पढ़ें:- दीपावली:वृष लग्न में लक्ष्मी-गणेश की व रात सिंह लग्न में होगी मां काली की पूजा

ये भी पढ़ें:- दीपावली पर बारिश और चाइनीज लाइट ने छीनी कुम्हारों के दियों की रोशनी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज